5 तरह से विवाह मेरी कल्पना के विपरीत निकला

Riti Kaunteya
Happy-couple-after-marriage

जब मैं बीस वर्ष छोटी थी, मैं समझती थी कि विवाहित जीवन वैसा होगा जैसा किताबों और फिल्मों में प्रस्तुत किया जाता है। मैं कल्पना करती थी कि मैं एनिड ब्लिटन की कहानियों की किसी मम्मी की तरह रहूँगी जिसके पास एक नौकर होगा जो घर चलाने में मेरी मदद करेगा। मेरा पति एम एंड बी के हीरो जितना रोमांटिक होगा और त्वरित, मँहगे और विचारशील उपहारों से मुझे खुश करेगा। मैं अविश्वसनीय रूप से बड़े घर की कल्पना करती थी और सोचती थी कि हम दोनों के संयुक्त वेतन से हम यह कीमत आराम से चुका सकेंगे। क्योंकि, दोनों के संयुक्त पैसों से घर खरीदना भी विवाह के इरादों में से एक था।

मुझे नही पता था कि अतिश्योक्ति करना फिल्मों और किताबों की प्रवृत्ति थी और फिर मुझे गहरा झटका लगा।

Riti-with-her-husband

1. प्यार का कोई सार्वजनिक प्रदर्शन नहीं, हम भारतीय हैं

सबसे पहली बात, पति को रोमांटिक का ठीक विपरीत कहा जा सकता है। उसे प्रेम के सार्वजनिक प्रदर्शन से नफरत है, जिसकी मैंने कल्पना की थी जब मैंने फिल्मी जोड़ों को सड़क पर रोमांस करते और गाना गाते देखा था। दूसरी तरफ, जब भी मैं लोगों के सामने उनका हाथ पकड़ने की कोशिश करती थी, मेरे पति हर बार मेरा हाथ झड़क देते थे। बल्कि, शादी के बाद, मेरे पति ने मुझे बीच पर भी ले जाना बंद कर दिया। वे बहस किया करते ‘‘ज़रूरत ही क्या है?’’। अब हमारे पास घर है। हमें बीच पर रोमांस करने की कोई आवश्यकता नहीं है।”

ये भी पढ़े: 90 के दशक की 6 फिल्में जिनके पुनः निर्माण की आवश्यकता है

मैं उनके तर्क को गलत नहीं ठहरा सकती थी, विशेष तौर पर तब जब मेरे ऑफिस के कई लोगों ने हमें बीच पर देखा था, आमतौर पर ज़ोर-ज़ोर से किसी ना किसी बात पर बहस करते हुए। अब हम लागों के सामने बखेड़ा खड़ा किए बगैर, शांति से घर पर बहस कर सकते हैं।

2. छोटा सा घर होगा….

हमनें शादी करते ही, अपने सपनों का घर ढ़ूंढना शुरू कर दिया। हमनें अपने खातों में नकदी की गिनती की, अपने वेतन स्लिप पर संख्याओं की गणना की और कल्पना की कि हम एक विशाल घर खरीद सकते हैं। हम हैरान रह गए। हमारी पसंद की जगह पर कोई भी घर हमारे बजट में नहीं था। हम बाहरी क्षेत्र में रहने और अपने ऑफिस तक आने-जाने के लिए सदियों लंबा समय देने के विचार से ही घबरा गए। हमने आभाव के इस स्तर की कल्पना नहीं की थी, हर बार जब हम सुंदर घरों की अत्यधिक कीमतों और उनका भुगतान करने के लिए कमरतोड़ ऋण की योजनाएं देखते थे, हम बड़बड़ाते उठते थे।

3. उसके दिल का रास्ता

सबसे बड़ा झटका मुझे तब लगा जब मैंने जाना कि चाहे मैं कितनी भी कोशिश कर लूँ, मैं बढिया खाना नहीं बना सकती जिसकी मैंने कल्पना की थी। क्योंकि मैं भूल ही चुकी थी कि बचपन से ही मैं किचन में केवल यह देखने जाया करती थी कि क्या पक रहा है। उपलब्ध सामग्री द्वारा खाना बनाने की कला के लिए आवश्यक कौशल के महत्त्व को मैंने कम आँका था।

मेरी अच्छी सास ने हमेशा कल्पना की थी कि शादी के बाद उनके मूल्यवान बेटे के भोजन की समस्या हल हो जाएंगी और वे उनके शौक जैसे की सिई-कढ़ाई को ज़्यादा समय दे सकेंगी खास तौर पर उनके पोते-पोतियों के लिए जिनका उन्हें बेसब्री से इंतज़ार था। जब मैं एक के बाद एक खराब भोजन बनाती गई, और मेरे पति ने अधिकांश बार उनके घर खाना शुरू कर दिया, जब भी मुझे सुबह का नाश्ता बनाने का समय नहीं मिलता था, जो कि मेरे सीमित पाक कौशल के कारण अक्सर होता था, तब उन्हें संकेत मिल गया और उन्होंने हमारे लिए खाना भेजना शुरू कर दिया। हमनें इस पर और मेरी माँ द्वारा किए गए इसी प्रकार के कार्यों पर कई वर्ष गुज़ार दिए जब तक कि मैंने एक रसोइया नहीं रख लिया। फिर मेरे पति और मेरी सास ने राहत की सांस ली और हमें अपने घर में उपयुक्त और सही समय पर पोषण मिलने लगा।

4. यह एक उपहार है

हमारे जन्मदिन आस-पास ही आते थे। इसलिए, हम दोनां पर यह अनुमान लगाने का अत्यधिक दबाव रहता था कि सामने वाले ने क्या योजना बनाई है और बेहतर साथी बनने के लिए दूसरे को कैसे पीछे छोड़ा जाए। हमारे हनीमून के दौरान, हमने एक दूसरे को सरप्राइज करने का पूरा प्रयास किया। हालांकि, इसकी नवीनता जल्द ही समाप्त हो गई। हमने अपने विचारों पर लगाम लगा दी। क्या हम इतने तुच्छ हैं कि हमें एक-दूसरे से सरप्राइज़ चाहिए? क्या हमें अपनी ऊर्जा अपने जीवन की योजना बनाने में और आवश्यक वस्तुएं खरीदने में नहीं लगानी चाहिए?

पति ने पूरी तरह स्वीकार कर लिया और प्रसन्नतापूर्वक डिजीटल केमरा खरीदने की उनकी योजना बताई, जो हम दोनों का एक-दूसरे के लिए उपहार हो सकता है। नियम की भावना में बंधकर, मैंने उन कान की बालियों के बारे में उन्हें नहीं बताया जिसे मैं खरीदना चाहती थी और जो उस हीरे की अंगूठी से मेल खाती थी जो मेरे पति ने मुझे पिछले जन्मदिन पर दी थी।

ये भी पढ़े: सेक्स ना करने के लिए पत्नियां ये 10 अद्भुत बहाने बनाती हैं

5. अलग प्रकार का रोमांस

इसलिए हमें अहसास हुआ कि विवाह ने हमें निर्धन, नीरस और उबाऊ बना दिया था। हम एक ऐसा दंपति बनते जा रहे थे जिसकी हमने कभी कल्पना भी नहीं की थी। बाहर खाने जाने के बारे में विचार करते ही, हम कदम वापस ले लेते थे और सोचते थे कि होम-डिलीवरी बेहतर विकल्प है। हम तर्क देते थे कि क्या नेटफ्लिक्स के साथ घर पर बने हुए पॉपकॉर्न का संयोजन थियेटर तक जाने का बेहतर विकल्प है। यहाँ तक की मेरी चाची, जो पाँच बच्चों की दादी है, शायद दंपति की छुट्टियों और डेट पर जाने के लिए अधिक उत्साही हैं, मैं सोच कर दुखी होती थी।

जैसे ही मैं इस दुखद स्थिति के बारे में अपने पति से शिकायत करने वाली थी, वे एक पैकेट गर्म समोसे लेकर घर आ गए। मुझे खुश करना कितना आसान है!

मेरे पति मुझसे से काम करने को कहते हैं। दुर्भाग्य से, इनमें से एक भी कामुक नहीं है!

संतान होने के बाद आकर्षण बरकरार रखने की कला

You May Also Like

Leave a Comment

Login/Register

Be a part of bonobology for free and get access to marvelous stories and information.