Hindi

7 बार बॉलीवुड ने संबंधों के बारे में सच बयान किया

बॉलीवुड हमेशा नाचने गाने के बारे में ही नहीं होता है। कभी-कभी यह संबंधों के सच्चे चित्रण के साथ हमें हैरान कर देता है।
cocktail

रोमांस- अधिकांश बॉलीवुड फिल्मों में बार-बार दोहराया जाने वाला विषय

हमेशा से ही, बॉलीवुड में संकोची, दुखभरा और फूलों के पीछे किस करने वाला रोमांस देखा गया है। प्रेम त्रिकोण एक अन्य आम कारक हैं। और बदला लेने के लिए ईर्ष्यापूर्ण पूर्व प्रेमी का वापस आना भी बहुत आम है। और हत्यारा कौन है इस विषय में थ्रिलर भी बहुत आम है, पुनर्जन्म वाली प्रेम गाथा, रोमांस के नाम पर कॉमेडी -और इन सब के साथ अचानक संगीत बजना और सड़क पर रैंडम डांसर्स। कुल मिला कर, अधिकांश बॉलीवुड फिल्मों में रोमांस बार-बार आने वाला विषय रहा है।

हालांकि, बॉलीवुड ने हमें रोमांस और रिश्तों के सच्चे चित्रण के साथ अक्सर चकित भी किया है। सेट की भव्य सजावट और नायक की बाल रहित छाती पर ध्यान ना दिया जाए तो बॉलीवुड ने संबंधों के वास्तविक चित्रण को बनाए रखने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया है।

ये भी पढ़े: ज़िन्दगी के सच के बीच फेसबुक वाले झूठ

1. हम दिल दे चुके सनम
[restrict]
यह तर्क दिया जा सकता है कि इस फिल्म की नायिका के पास उस पुरूष के साथ शादी करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था जिसे उसके परिवार ने उसके लिए चुना था, भले ही वह किसी और से प्यार करती थी। लेकिन यहां इस परिप्रेक्ष्य को एक्सप्लोर नहीं किया जा रहा है। इस फिल्म ने अरेंज मैरिज को एक बेहतर तरीके से दर्शाया है। पति एक अच्छा पुरूष है और अपनी नववधु से बहुत प्यार करता है, इतना ज़्यादा कि वह उसे उसके पूर्व-प्रेमी को सौंपने के लिए ले जाता है। इसके अंत में बहुत बड़ा मोड़ आता है और मुझे उसमें ही रूचि है। जिस समय में यह फिल्म सेट की गई है वह इतना आधुनिक नहीं है जितना हम सोच सकते हैं। नायिका विवाह के लिए तैयार हो जाती है लेकिन अंत में, वह अपने पति के साथ रहने का फैसला करती है क्योंकि वह जानती है कि वह उसे खुश रखने के लिए कुछ भी करेगा। यह बात भी ध्यान देने योग्य है कि अरैंज मैरीज में भी प्यार होना संभव है और प्यार को खिलाने के लिए उस पर थोड़ा काम करने की ज़रूरत है।

salman-aishwarya
salman-aishwarya : Image source

2. कॉकटेल

एक सुखद अंत के साथ एक ताजा़ फिल्म (दीपिका के लिए सुखद अंत नहीं था)। यह दर्शाती है कि भले ही पुरूष कई स्त्रियों के साथ संबंध रखे, लेकिन अंत में, वह घर बसाने के लिए घरेलू स्त्री को ही पसंद करेगा। इस फिल्म के माध्यम से यह भी कहा गया है कि स्त्रियां अधिक संवेदनशील होती हैं और उस पुरूष से भी प्यार कर बैठती हैं जिनके साथ उन्हें केवल कैसुअल सेक्स करना होता है। साथ ही, आज भी भारतीय लोग उन स्त्रियों को अच्छा नहीं मानते जो बहुत पार्टी करती है या छोटे कपड़े पहनती है।

ये भी पढ़े: बॉलीवुड के 10 प्रसिद्ध वास्तविक जीवन के प्रेम त्रिकोण

3. ज़िंदगी ना मिलेगी दोबारा

ज़ोया अख्तर की एक शानदार फिल्म, ज़िंदगी ना मिलेगी दोबारा की वास्तविकता कल्की और अभय देओल का संबंध है। भले ही उनकी सगाई हो चुकी है, जब उसका मंगेतर अपने दोस्तों के साथ स्पेन जाता है, तो कल्की की ईर्ष्या देखी जा सकती है। ये दोनों बहुत अलग हैं, इतने ज़्यादा अलग की अपोज़िट्स अट्रैक्ट भी नहीं कहा जा सकता। जब वे ब्रेकअप करने का फैसला करते हैं, यह उनके ही भले के लिए होता है। एक और सच्चा तथ्य रितिक की पूर्व प्रेमीका द्वारा फ्लेशबैक में एक्सप्लोर किया जाता है, जो यह है कि नौकरी से अत्यधिक लगाव किसी संबंध को बर्बाद कर सकता है और बहुत सारा धन कमाने की क्या कीमत चुकानी पड़ती है।

रिश्ते गुदगुदाते हैं, रिश्ते रुलाते हैं. रिश्तों की तहों को खोलना है तो यहाँ क्लिक करें
4. बेफिक्रे

यह मिलेनियल संबंधों का चित्रण है और अब किस तरह लोग बिना शादी किए भी घनिष्ठ संबंध बना सकते हैं। इस युग में, लिव-इन संबंध बहुत आम हैं और पहले से कहीं ज़्यादा युवा लिव-इन संबंध चुन रहे हैं।

ये भी पढ़े: जब हमें बॉलीवुड के व्याभिचारिणी चरित्रों से प्यार हो गया

5. दिल चाहता है

इस फिल्म में अक्षय खन्ना और डिंपल कपाड़िया का संबंध बहुत अच्छे से चित्रित किया गया है। एक तलाकशुदा अधेड़ उम्र की महिला से प्यार करना ऐसी बात नहीं है जिसके लिए हमारा समाज आसानी से मंज़ूरी दे। इसके अलावा, यह ध्यान में रखते हुए कि भारतीय स्त्रियां अब भी दब्बू हैं, एक एब्यूसिव मंगेतर के साथ फंसी महिला का चित्रण प्रिटी ज़िंटा द्वारा बहुत अच्छी तरह से किया गया है।

dil chahta hai
Image source

ये भी पढ़े: जब कोई आपके साथ ब्रेकअप करना चाहे, तो उसे जाने दीजिए

6. दिल धड़कने दो

जब आप अपने पूरे परिवार के साथ यात्रा कर रहे हों और कई दिनों के लिए एक जहाज़ में फंस जाएं तो क्या गलत हो सकता है? परिवार इकट्ठा होते हैं, समस्याएं उत्पन्न होती हैं और उनसे निपटना होता है। आइशा को अब उसके पति से कोई लगाव नहीं है और तलाक की प्रक्रिया को उसके माता-पिता की मंज़ूरी से होकर गुज़रना है। यह सच्चा चित्रण है क्योंकि भारतीय परिदृश्य में, तलाक को अब भी गलत माना जाता है और इसलिए क्रूज़ पर प्रियंका इस बारे में अपने माता-पिता से बात नहीं कर पाती। चरित्र की दुविधा प्रियंका चोपड़ा द्वारा शानदार ढंग से निभाई गई है।

7. लंच बॉक्स

हर बॉलीवुड फिल्म को सिंक्रोनाइज़्ड नाचने गाने के मानदंडों को पूरा करने की ज़रूरत नहीं है। कुछ को जीवन नामक व्यंजन का आनंद लेने के लिए बनाया जाता है और उस राह पर प्यार मिलने की एक संभावना हो सकती है। यही बात लंच बॉक्स को एक शानदार फिल्म बनाती है। फिल्म इरफान खान के जीवन में लंबे समय से खोए हुए उत्साह को दर्शाती है। यह निमरत कौर और उसके पति के बीच मृत होते रोमांस को भी एक्सप्लोर करती है। यह फिल्म विवाहित जोड़े के जोश रहित जीवन को दर्शाती है जो कई विवाहित जोड़ों के जीवन में एक आम चरण है।
[/restrict]

क्यों बॉलीवुड फिल्मों को ‘दी एंड’ की बजाय ‘दी बिगनिंग’ पर खत्म होना चाहिए?

यह जानने के 7 तरीके की अब आपका साथी आपको धोखा नहीं दे रहा है

मेरा पति पार्टियों में फ्लर्ट करता है। क्या मुझे चिंता करनी चाहिए?

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No