Hindi

अधिकांश पुरूष इन 10 सेक्स संबंधित मिथकों को सच मान लेते हैं

मिथक अक्सर विश्वासयोग्य होते हैं, लेकिन कुछ लोग उन्हें ज़्यादा ही लिटरली ले लेते हैं।
sexy woman trying to kiss sexy man

सिर्फ इसलिए कि ये वॉट्स एैप पर हैं, ये सच नहीं हो जाते

मिथक सीखने के लिए मज़ेदार हैं और अक्सर वे हमारे साथियों या बुजु़र्गों द्वारा हम तक पहुंचाए जाते हैं। आत्म-जागरूक होना हमेशा अच्छा होता है, लेकिन इसकी कमी लोगों को धारणाओं के दलदल में गिरा देती है जहां आप स्वयं पर पूर्वाग्रहों और झूठ का दाग लगा देते हैं। पुरूषों के बीच सेक्स मिथक गंभीर हो सकते हैं क्योंकि वे अक्सर उन्हें सच मान बैठते हैं। उन्हें परेशान होते हुए देखना और उन मिथकों पर काम करते हुए देखना थकाउ होता है जो शायद उनके वॉट्स एैप ग्रूप में भेजे गए थे।

महिलाओं के लेस्बियन बनने की संभावना होती है

हाँ, यकीनन, क्या कोई पुरूषों को पॉर्न देखने से रोक सकता है।
[restrict]
ये एक अजीब चीज़ है जिसपर पुरूष विश्वास करते हैं, जिसमें वे सोचते हैं कि महिलाओं के लेस्बियन बनने की संभावना है। ठीक है, पहली बात तो यह कि कोई भी खुद को लेस्बियन में ‘बदल’ नहीं सकता, सेक्सुआलिटी कोई वस्त्र नहीं है जिसे लोग जब मन चाहे पहने और उतार दें (पढ़ें: सेक्सुअली फ्लूइड लोग/ वे लोग जो खुद को क्यूयर कहते हैं उनकी बात अलग है)। दूसरी बात, सेक्सुआलिटी डिफ़ॉल्ट रूप से होती है, महिलाओं की सेक्सुआलिटी के बारे में अनुमान लगाना बंद करो।

RepresentativeImage source

बिस्तर पर पुरूषों को डॉमिनेटिंग होना चाहिए

स्पष्ट रूप से उन्हें प्रभावी या विनम्र होने की गतिशीलता को समझने की ज़रूरत है।

ये समाज द्वारा दी गई लिंग भूमिकाओं को इंगित करते हैं और स्पष्ट रूप से लिंग पक्षपातपूर्ण है। ज़रूरी नहीं है कि पुरूष ही हावी हो, और ज़रूरी नहीं है कि महिलाएं सबमिसिव ही हों। ये लक्षण हर व्यक्ति में भिन्न होते हैं।

बड़े उपकरण को ही श्रेष्ठ सेक्स मिलता है

नहीं, सर। आपको सिर्फ उपकरण का इस्तेमाल करना आना चाहिए; आकार से उसके प्रदर्शन में वृद्धी नहीं होगी।

पुरूष अपने पेनिस के आकार को लेकर बहुत सोचते हैं, जो आमतौर पर उनमें एक असुरक्षा पैदा कर देता है। बल्कि, बड़े आकार की वजह से संभोग दर्दनाक हो सकता है। पुरूषों के पेनिस का कोई आदर्श आकार चार्ट नहीं है, और निश्चित रूप से यह किसी के यौन जीवन को प्रभावित नहीं करता है। आपको सिर्फ यह जानने की ज़रूरत है कि आपको सवारी कैसे करनी है, जैसे कप्तान अपने जहाज का रास्ता जानता है।

sex toy
Image source

पुरूषों में एनल पेनिट्रेशन नहीं हो सकता है

यह बहुत दुखद है, यह होमोफोबिक मिथक काफी समय से चला आ रहा है।

पुरूषों के लिए एनल पेनिट्रेशन उतना ही अच्छा और संतोषजनक होता है। एक गे पुरूष से पूछिए जो यह कर चुका है, और वास्तव में कई पुरूष एनल पेनिट्रेशन से खुद को खुश भी करते हैं और यही पुरूष हेटरोसेक्सुअल भी होते हैं। मज़ा लेने से क्यों चूकें वह भी सिर्फ इसलिए क्योंकि आपने वॉट्स एैप ग्रूप में कुछ झूठा मिथक सुना है।

महिलाओं को इंटरकोर्स के माध्यम से ओर्गेज़म प्राप्त होता है

सिर्फ मुट्ठीभर महिलाएं हैं, लगभग 20 से 30 प्रतिशत जिन्हें इसका अनुभव हुआ है।

इस मिथक ने अक्सर उन पुरूषों के बीच अनिच्छा पैदा की है जो इतना नीचे नहीं जाते हैं। पुरूषों को यह समझने की ज़रूरत है कि महिलाओं के लिए आर्गेज़म हमेशा इस तरह काम नहीं करता। ऐसा करने के लिए कुछ बार नीचे जाने और सचेत प्रयास करने की ज़रूरत है। स्त्रियों का मास्टरबेशन भी एक टैबू है जिसने कई सारी समस्याएं उत्पन्न की हैं। उपयुक्त सेक्स शिक्षा सत्र इस मिथक को कम करेंगे लेकिन फिर भी, उसके लिए थोड़ा समय लगेगा।

man and woman in bed getting intimate
Image source

अच्छा सेक्स मतलब बेहतर जीवन

नहीं, अच्छा सेक्स यह निर्धारित नहीं कर सकता कि आपके जीवन में क्या चलता है।

आपका जीवन, बिस्तर पर आपके प्रदर्शन के अनुसार तय नहीं किया जा सकता है। सेक्स सिर्फ व्यक्ति के जीवन के अनुभवों को बढ़ा सकता है, लेकिन कभी भी इसे निर्धारित नहीं करता है। भले ही सेक्स महत्त्वपूर्ण है, यह जीवन को बेहतर नहीं बना सकता है।

किसी दूसरे व्यक्ति के बारे में सोचते समय मास्टरबेट करना आपको विश्वासघाती बनाता है

अपने साथी के अलावा अन्य लोगों के प्रति यौन रूप से आकर्षित होना काफी स्वाभाविक है।

मास्टरबेशन मोनोगोमी की नैतिकता को निर्देशित नहीं कर सकता है। कोई भी व्यक्ति निश्चित रूप से अपने साथी के अलावा किसी और के प्रति यौन रूप से आकर्षित महसूस कर सकता है, जो बहुत ही स्वाभाविक है। अगर आप इसके बारे में अपराधबोध महसूस करते हैं, तो ना करें।

पुरूषों को बेहतर प्रदर्शन की ज़रूरत है

इसकी वजह हमारे समाज की मानक कंडीशनिंग है।

पुरूषों को बेहतर प्रदर्शन करने की ज़रूरत नहीं है और ऐसा कोई नियम नहीं हैं कि उन्हें ऐसा करना ही है। यह मिथक अक्सर पर्फोर्मेंस एंग्ज़ाइटी का कारण बनता है, जो कई लोगों के यौन जीवन को बिगाड़ देता है।

प्यार, दुर्व्यवहार और धोखाधड़ी पर असली कहानियां

महिलाएं पोर्न नहीं देखती

वे निश्चित रूप से देखती हैं और वह भी इतना ज़्यादा कि आप जान भी नहीं पाएंगे।

महिलाएं पोर्न देखती हैं और यह इस प्रकार का जनरलाइज़्ड मिथक है जो हमें मानने पर मजबूर कर देता है कि वे ऐसा नहीं करती हैं। अगर आपको ऐसा लगता है कि वे नहीं देखतीं, तो मुझे एक ठोस कारण दीजिए कि उन्हें ऐसा क्यों नहीं करना चाहिए।

man and woman in bed getting intimate
Image source

पुरूषों को ऊपर होना पसंद है

नहीं, हमेशा यह इस तरह से काम नहीं करता है।

सेक्स ऐसी चीज़ है जो रचनात्मक हो सकती है, ज़रूरी नहीं है कि यह पारंपरिक हो, लेकिन अधिकांश तौर पर यह पुरूषों के लिए सुविधाजनक हो सकता है लेकिन महिलाओं के लिए नहीं। पुरूष हमेशा ऊपर नहीं जाते ओर स्त्रियां हमेशा नीचे नहीं रहती। लिंग-पक्षपात द्वारा यौन भूमिकाएं निभाने का यह एक बहुत ही प्रतिकूल तरीका है।
[/restrict]

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No