Hindi

अकेली और अविवाहित होने की वजह से मैं अवसादग्रस्त हूँ

अविवाहित होने के कारण मैं उदास, असहाय और नकारात्मक हो गई हूँ
sad lady standing near window

प्रश्नः

हैलो मैडम,

मुझे नहीं पता कि कहां से शुरू करूं क्योंकि मैंने जीवन में आज तक कभी किसी भी चीज़ के बारे में इस तरह की मदद नहीं ली है। बल्कि, मैं हमेशा दूसरों को प्रेरित करती हूँ और उन्हें जीवन में सकारात्मक होने के लिए मार्गदर्शित करती हूँ! लेकिन इस बार मुझे अपना दुख बांटने के लिए किसी की ज़रूरत है और कोई नहीं है।

मैं अपने आप को सकारात्मक बनाने की कोशिश करते हुए वास्तव में बहुत उदास महसूस कर रही हूँ। और कभी-कभी असहाय भी महसूस करती हूँ। मेरी समस्या यह है कि मेरी उम्र 30 वर्ष से ज़्यादा है और मैं अविवाहित हूँ। मेरे अधिकांश दोस्तों की शादी हो चुकी है और कुछ की संतान भी हो चुकी है….और मैं अब तक साथी की ही तलाश कर रही हूँ।

मेरे परिवार में, मेरी अरैंज मैरिज के लिए कोई भी कदम नहीं उठा रहा है। जहां तक प्यार करने का सवाल है, उस बारे में मेरी किस्मत कभी अच्छी नहीं थी…और हां, ना ही मेरे पिता ने मुझे कभी इतनी स्वतंत्रता दी कि अपना साथी खुद चुन सकूं।

ये भी पढ़े: जब मेरे माँ बाप ने मुझे शोषित होने पर चुप रहने को कहा

मैं एक पढ़ी लिखी लड़की हूँ और खुशकिस्मति से मैं सुंदर भी हूँ….फिर भी मैं सिंगल हूँ। मेरी देखभाल करने के लिए ऐसा कोई नहीं है जो मुझसे प्यार करता हो। कभी-कभी मैं वास्तव में असहाय महसूस करती हूँ कि काश मैं कभी पैदा ही नहीं हुई होती या फिर भगवान ने मुझे अकेला रहने के लिए ही बनाया है….जो मैं स्वीकार नहीं कर सकती। इससे मुझे महसूस होता है कि बेहतर होगा मैं आत्महत्या ही कर लूँ…

लेकिन मुझे पता है कि मैं आत्महत्या करने वालों में से नहीं हूँ। मैं इतनी कमज़ोर व्यक्ति नहीं हूँ। मैं बहुत प्यार और देखभाल करने वाली लड़की हूँ। बचपन से ही मैं बहुत मज़बूत व्यक्ति रही हूँ और मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं जीवन में इतना नकारात्मक या असहाय महसूस करूंगी। कृपया मेरा मार्गदर्शन कीजिए। मैं इस नकारात्मकता से कैसे बाहर आ सकती हूँ? मैं वास्तविकता को कैसे स्वीकार करूं और मैं समाधान कैसे ढूंढू जब मैं अभी कुछ देख ही नही पा रही। मैम मैं आपको यह पत्र रात के दो बजे लिख रही हूँ, इस आशा के साथ की आप निश्चित रूप से मुझे मार्गदर्शन देंगी। इस समस्या के कारण मुझे नींद नहीं आती है और देर तक जागते रहना मेरी दिनचर्या बन चुका है। प्लीज़ मेरी मदद कीजिए।

Hindi counselling

नेहा आनंद कहती हैं:

प्रिय सिंगल और स्लीपलेस,

मुझे तुम्हारे साथ सहानुभूति है। सबसे पहले, मदद लेने और अपनी भावनाएं व्यक्त करने के लिए आपके द्वारा उठाए गए कदम की मैं सराहना करना चाहती हूँ। समस्या पर अटके रहने की बजाए पेशेवर मदद लेना बिल्कुल ठीक है। यह आपकी समस्या का समाधान करने की दिशा में पहला सफल कदम है।

ये भी पढ़े: ब्रेकअप के बाद जब प्रेमी ने उनके सेक्सवीडियो लीक किये

आपके पत्र के मुताबिक, मुझे ऐसा लगता है कि आप अवसादग्रस्त अविवाहित होने की वजह से नहीं हैं बल्कि अपने दोस्तों या रिश्तेदारों के साथ तुलना करने की वजह से हैं जो विवाहित हैं या जिनके बच्चे हैं। आपकी तुलना आपको अधिक चिंतित और उदास महसूस करवाती हैं। यहां मैं पूछना चाहूंगी की शादी करने के लिए आदर्श उम्र क्या है? देखिए हम जनरलाइज़ नहीं कर सकते। ऐसे कई लोग हैं जो देर से शादी करते हैं या फिर शादी ही नहीं करते।

अन्य कारण जिसकी वजह से आप उदास महसूस करती हैं वह है जिस चीज़ पर आपका नियंत्रण नहीं उसपर फोकस करके आप स्वयं पर दबाव डाल रही हैं। वर्तमान में रहिए और भविष्य के बारे में चिंता करना बंद कर दीजिए। मैं सुझाव दूंगी कि आप अपने आत्म सम्मान पर काम कीजिए जो आपको अपने बारे में अच्छा महसूस करवाएगा। अपने आपको थोड़ा समय दीजिए और समाधान पर ध्यान केंद्रित कीजिए। आप इतनी ओपन तो हो सकती हैं कि मैट्रिमोनियल साइटों पर मैच ढूंढ सकती हैं या कुछ रिलेशनशिप एैप आज़मा सकती हैं, नए लोगों से मिल सकती हैं और अवसर एक्सप्लोर कर सकती हैं…प्यार हमेशा सबसे अप्रत्याशित रूप में आपके सामने आता है। स्वयं पर शर्तें लगाए बिना अपने आप से प्यार करो। नीरसता तोड़ने के लिए किसी नए और दिलचस्प काम में शामिल होने का प्रयास कीजिए।

ये भी पढ़े: जब उसके पति ने उसे प्यार सीखाने के लिए छोड़ा

आप अपने आत्म-सम्मान पर काम करने के लिए नियमित अंतराल पर परामर्श सत्र के लिए जा सकती हैं। मुझे यकीन है कि आप इस डूबने वाले चरण से खुद को बाहर निकाल सकती हैं और एक सुखी, स्वस्थ विवाहित जीवन जी सकती हैं। जीवन समाप्त करना अंतिम उपाय नहीं हो सकता; बल्कि यह कायरता है। आप रचनात्मक आत्मचर्चा का उपयोग करके स्वयं को अनुमोदित कर सकती हैं। विवेकपूर्ण रहो। वर्तमान में रहो।

मेरी शुभेच्छा।
गॉड ब्लेस!
नेहा

उसने कहा कि वह और किसी के साथ भी संबंध रखना चाहता है

मुझे शादी के बाहर इतने सारे भावनात्मक संपर्कों की ज़रूरत क्यों पड़ी?

Hindi counselling

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No