Hindi

दशकों तक साथ में रहने के बाद जोड़े एक जैसे क्यों दिखने लगते हैं?

क्या आप कभी हैरान रह गए हैं जब आपको पता चला कि जिस जोड़े को आप भाई-बहन समझ रहे थे, वे वास्तव में विवाहित जोड़ा है? यहां बताया गया है कि जोड़े कुछ समय के बाद एक-दूसरे जैसे क्यों दिखने लगते हैं।
bewakoofiyan

जो जोड़े एक साथ रहते हैं वे एक जैसे दिखते हैं

हमारे दादा-दादी, माता-पिता, या करीबी चाचा-चाची को ही देख लीजिए। वे वास्तव में एक जैसे नहीं दिखते हैं लेकिन फिर भी उनके अपीरीयंस, ड्रेसिंग स्टाइल और यहां तक की आदतें भी एक जैसी हैं। बस उनकी बातचीत, कपड़े पहनने के तरीके और आदतों को देख लीजिए, उनमें कई आश्चर्यजनक समानताएं हैं!

हम उन जोड़ों की बात कर रहे हैं जो कुछ महीनों या वर्षों से नहीं बल्कि दशकों से एक साथ रह रहे हैं। तो खुद की तुलना अपने एक्स के साथ मत कीजिए जिसके साथ आप दो साल तक थे। इतने लंबे समय तक एक दूसरे के साथ रहने से उनपर एक दूसरे की छाप लग जाती है और वे एक जैसे लगने लगते हैं। नहीं। मिरर इमेज जैसे नहीं। लेकिन इतने एक जैसे ज़रूर की वे हमें एक दूसरे की याद दिला दें। मिशिगन विश्वविद्यालय से मनोवैज्ञानिक रॉबर्ट ज़जोंक द्वारा किए गए एक प्रयोग के अनुसार, जोड़े एक समय के बाद एक दूसरे की तरह दिखने लगे थे। उन्होंने 25 जोड़ों की तस्वीरों का विश्लेषण किया और उनकी शादी के दिन वाले लुक्स और 25 वर्ष बाद वाले लुक्स की तुलना की। बल्कि, जोड़े जितने ज़्यादा खुश थे, उतना ही वे एक दूसरे की तरह दिखते थे!

ये भी पढ़े:

क्या ये साथी तब भी एक दूसरे जैसे दिखते थे जब ये पहली बार मिले थे?

इलिनोइस विश्वविद्यालय में मनोवैज्ञानिक आर क्रिस फ्रैली द्वारा किए गया एक शोध बताता है कि ‘एक जैसी चीज़ें एक दूसरे को आकर्षित करती हैं’। सीधे शब्दों में कहें तो, लोग वैसा ही सोलमेट ढूंढते हैं जो उनसे काफी समान हो। लोगों को ना सिर्फ उनके विचारों या मान्यताओं में समानता दिखती है बल्कि उनकी ड्रेसिंग शैली और एक्सरसाइज़ जैसी अन्य जीवनशैली की आदतों में भी। भले ही हम दुनिया के सबसे आलीशान होटल में रूक जाएं, लेकिन खुद के घर में एक अपनत्व और सुकून होता है। अनजाने में, लोग ठीक ऐसा ही करते हैं, जब वे एक सोलमेट की तलाश करते हैं। वे उन लोगों के प्रति आकर्षित होते हैं जो उन्हें खुद की या फिर अपने परिवार की याद दिलाते हैं।

यहां कुछ कारण हैंः

1. डीएनए प्रभाव

आमतौर पर लोग अपने धर्म और विशेष रूप से जाति में शादी करते हैं। जोड़ों के समान दिखने का एक कारण यह हो सकता है।

marriage

ये भी पढ़े: यदि आपका साथी एक ‘फिटनेस फ्रिक’ है, यानी उसे अच्छी स्वास्थ्य का जूनून है, और आप फिटनेस फ्रिक नहीं हैं, तो आप इन ५ चीज़ों को समझ पाएंगी|

2. लगभग जुड़वा

दशकों तक एक साथ रहने से, जोड़े नियमित दिनचर्या का पालन करते हैं, जिससे वे एक दूसरे की आदतों, पसंद-नापसंद से बहुत परिचित हो जाते हैं। जोड़े अक्सर जीवन को आसान बनाने के लिए अपने जीवनसाथी की आदतों या आवश्यकताओं के अनुसार खुद को बदलते या संशोधित कर लेते हैं। यह, कई मामलों में, लोगों की बॉड़ी लैंग्वेज पर प्रतिबिंबित होने लगता है जिससे वे समान दिखने लगते हैं या परिस्थितियों में समान बर्ताव करने लगते हैं।

3. अच्छा और बुरा समय
30 या 40 साल एक लंबा समय होता है और इस अवधि के दौरान जो दो व्यक्ति एक साथ रहे हैं उन्होंने जीवन का सामना साथ में किया है; जिसका अर्थ है कि वे ग्रेजुएशन और जन्मदिन की पार्टियों के दौरान खुश रहे हैं और अंतिम संस्कार के दौरान दुखी होते हैं। इसके परिणामस्वरूप जोड़ों के चेहरे में समान रेखाएं विकसित हो जाती हैं जिससे वे एक जैसे दिखने लगते हैं, आप मानो या ना मानो। अगली बार जब आप अपने दादा-दादी से मिलें, वास्तव में उनके चेहरे पर गौर कीजिएगा और आप जान लेंगे कि यह सच है।

ये भी पढ़े: 5 बॉलिवुड फिल्में जो अरैंज मैरिज में प्यार दर्शाती हैं

4. खान पान की आदतें मायने रखती हैं
खान पान की आदत एक और कारक है जो इस काम में योगदान देती है। एक घर में रह रहे लोग एक ही जैसा भोजन खाते हैं – ज़्यादा तेल वाला, ज़्यादा स्वास्थ्कर या बहुत मसालेदार। मानव शरीर पुरूष और स्त्री के लिए भोजन पर समान प्रतिक्रिया देता है। लेकिन शारीरिक गुणों से ज़्यादा प्रभाव यह व्यवहार पर डालता है। उदाहरण के लिए, यह माना जाता है कि जो लोग बहुत मसालेदार भोजन करते हैं वे बहुत गुस्से वाले होते हैं। स्वाभाविक रूप से ये कारक व्यक्ति के चेहरे के भाव, टोनल मॉड्यूलेशन और पूरी विचार प्रक्रिया में योगदान करते हैं।

happy couple eating together
Image source

5. खरीदारी

जोड़े एक साथ खरीदारी करते हैं और भले ही यह सामान्य चीज़ की तरह लग सकता है, लेकिन यहां विचारों और राय का आदान प्रदान होता है। इतने वर्षों में, साथी कपड़ों के मामले में अपने साथी की पसंद को पहचानने लगते हैं और एक विशेष तरह के कपड़े पहनने लगते हैं।

रिश्ते बनाना मुश्किल है, उन्हें बनाए रखना और भी मुश्किल

6. मन पढ़ना
यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से सच है जिनकी 9 से 5 वाली दिनचर्या है। एक सफल घर चलाने के लिए, दैनिक आधार पर बहुत से लेन देन और एडजस्टमेंट करने होते हैं। स्वाभाविक रूप से, जोड़े एक दूसरे को अच्छी तरह से जान लेते हैं और वास्तव में एक दूसरे के विचार पढ़ सकते हैं। तो अगली बार अगर आपके पड़ोस में रह रहा वृद्ध जोड़ा एक दूसरे के वाक्य पूरे कर दे, तो परेशान ना हों, उन्हें आदत पड़ चुकी है।

7. पापा की परी

दुनिया भर में कई अध्ययनों ने निष्कर्ष निकाला है कि स्त्रियों को वह पुरूष आकर्षक लगता है जिसमें उसके पिता जैसे गुण होते हैं। यह पढ़ रहे सभी पुरूष जान लें कि आपको बड़ी परीक्षा उत्तीर्ण करनी है।

ये भी पढ़े: कैसे बताएं कि कोई लड़का आपसे प्यार करने लगा है

8. बिल्कुल परफेक्ट

जीवनसाथी का चयन करते समय अक्सर एक जैसे नाक नक्श को ध्यान में रखा जाता है। लोग ऐसे व्यक्तियों को पसंद करते हैं जो उनके शारीरिक व्यक्तित्व से मेल खाए और उन्हें पूरा करे।

तो, कोई आश्चर्य की बात नहीं कि दशकों तक एक साथ रहने के बाद ज़्यादातर जोड़े एक जेसे दिखने लगते हैं!

इन चीज़ों की वजह से लड़कियों को कुछ लड़के उबाऊ लगते हैं

अपने पार्टनर के बेस्ट फ्रैंड बनने के 5 तरीके

मेरे पति के साथ रहना कुछ इस तरह का लगता है

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No