दूसरी शादी किस तरह बेहतर हो सकती है

दूसरी शादी किस तरह बेहतर हो सकती है

जो मैंने कभी पढ़ा था उसे संक्षेप में कहने के लिएः शादियां मार्टिनीज़ जैसी होती है। एक से बात नहीं बनती और कई सारी उपलब्ध हैं।

ठीक ही है। मैं घिसी-पिटी बात कर रहा हूँ। लेकिन दूसरी शादी में एक जादू है जिसे अधिकांश लोग देख नहीं पाते। पहली शादी आपके द्वारा बारिश में खाए गए पहले प्याज के भजिए और चाय की तरह है – आप इसके लिए तत्पर रहते हैं और वह क्षण आपको जीवन भर याद रहता है। दूसरा विवाह ओपेरा में जाने के समान है। आप सोचते हैं कि क्या आप सही कर रहे हैं, लेकिन अंततः अधिकांश लोग अतिप्रसन्न होते हैं कि उन्होंने ये किया।

इसलिए मैंने स्वयं से पूछा (और मेरे जैसे दूसरे लोगों से जिन्होंने दूसरी शादी की है) कि दूसरा विवाह पहले को किस तरह बदल देता है। मुझे जान कर आश्चर्य हुआ कि अधिकांश उत्तर काफी समान थे।

दूसरी शादी से पहले अधिकांश लोग उसपर विजय पा चुके होते हैं जिसे वे अपनी सबसे बड़ी खामी मानते हैं – आमतौर पर वह जिसके कारणवश पहला विवाह टूट चुका होता है। बेवफाई, नशे की लत या यहां तक की राय बनाने में बहुत जल्दबाज़ी (अंतिम वाले के कारण आपकी आशा से अधिक विवाह टूटते हैं)

इस पर विजय हासिल ना करो और संभावना है की आप दूसरे तलाक के लिए भी हड़बड़ी कर रहे होंगे।

वे अधिक आभारी हो गए कि जीवन ने उन्हें एक दूसरा अवसर दिया। और यह आभार जीवन के अन्य पहलुओं तक भी बढ़ गया, चाहे वह काम हो या अन्य संबंध।

पहला विवाह खत्म होने के सदमे से गुज़रते हुए उन्होंने जाना की उनके सच्चे दोस्त कौन हैं और ‘केवल पार्टी वाले’ मित्रों को जीवन से निकाल बाहर किया, जिससे उनके पास बहुत कम लोग बचे जिन पर वे अपनी जान से ज़्यादा भरोसा कर सकते हैं।

Happy couple

उन्होंने देखा की दूसरे विवाह के बाद लोग उनपर अलग तरह से प्रतिक्रिया दे रहे हैं – जैसे आपके साथ एक दुर्घटना हो गई हो और आप चल नहीं पा रहे हों, और अब चमत्कारिक ढंग से ठीक हो गए हों। इसने उन्हें सिखाया की सतही दुनिया क्या सोचती है उसकी परवाह ना करें।

उन्होंने एक परिवार भी देखा जो कभी उनके साथ खड़ा हुआ था और अब थोड़ा परेशान है क्योंकि तलाकशुदा व्यक्ति के जीवन में वे अब सबसे महत्त्वपूर्ण इकाई नहीं है।

साथ ही -दूसरी बार उनका विवाह होता है, विवाहोत्सव नहीं, कम लोगों के साथ घनिष्ठ संबंध और अन्य महत्त्वपूर्ण चीज़ों के लिए पैसे बचाए जाते हैं।

लेकिन सबसे ज़्यादा, उन्होंने जो जाना वह जीवन जीने की खुशी का एक नया ही अर्थ था -उन्होंने अपने सपनों को पूरा करने की कसम खाई। उन्होंने अभी छुट्टियां लीं, तब नहीं जब समय इज़ाजत दे। उन्होंने नए स्थान देखे, नई चीज़ें की, अपने रंग-रूप के साथ प्रयोग किया। वे व्यायाम करने लगे। उन्होंने वज़न कम किया। 40 के दशक का एक जोड़ा जिन्होंने बस तभी शादी की थी, उन्होंने धुम्रपान करना भी छोड़ दिया ताकि साथ में समय बिताने की उनकी संभावनाएं बढ़ जाएं।

बेशक सब कुछ अच्छा नहीं है – दूसरे विवाह में भी लोग झगड़ते हैं और कभी कभार ये विवाह भी टूट जाते हैं – लेकिन काफी बार, ये काम करते हैं।

अब यहां थोड़ा डरावना भाग है।

रिश्ते बनाना मुश्किल है, उन्हें बनाए रखना और भी मुश्किल
ये काम करते हैं क्योंकि व्यक्ति आंखे खुली रखकर इसमें प्रवेश करता है। इसमें प्यार है। वासना भी है। लेकिन यह पूरी तरह हावी नहीं होता है। आप साथ में समय बिताते हैं। अगर संभव हो तो साथ में रहते हैं। आदतें जानते हैं। गुणों का आकलन करते हैं। निकटतम और प्रियजनों से चर्चा करते हैं। और फिर हाँ कहते हैं।

प्रत्येक दूसरे विवाह में अरेंज मैरिज का भी एक हिस्सा होता है। शुक्र है – अधिकांश तौर पर, माता पिता से न्यूनतम या बगैर किसी हस्तक्षेप के। क्योंकि जब माता-पिता अपनी वाली चलाते हैं, अधिकांश भारतीय चुपचाप सहन करना जारी रखते हैं बजाए एक ज़्यादा डरावनी लेकिन रोमांचक दुनिया में भाग जाने के।

Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.