दूसरे पुरूष पर मेरी गुप्त आसक्ति ने किस तरह मेरे विवाह को सशक्त किया!

by Aabha Singh-Shah
happy-woman-hugging-a-man

जैसा आभा सिंह-शाह को बताया गया

मैं हमेशा सोचती थी कि विवाह में इतने सुखी होने के बावजूद विवाहित लोगों के क्रश (आसक्ति) क्यों होते थे। लेकिन तब जब मेरी शादी हुई, मैं समझ गयी कि किसी पर यह क्रश कैसे काम करता है।

मैं दो वर्षों से अपने प्यार के साथ विवाहित हूँ। हमने विवाह करने से पहले दस वर्षों तक डेटिंग की। भिन्न जातियों के होने के कारण हमें अपने माता-पिता से अनुमति प्राप्त करने के लिए लड़ना पड़ा था। एक दशक से अधिक समय से एक-दूसरे को जानने के कारण, हम एक दूसरे के रहस्यों और कल्पनाओं को अच्छी तरह जानते हैं।

ये भी पढ़े: प्रभुअग्निः शिव और सती के प्रेम से सीखे गए पाठ

एक व्यवसाय शुरू करना हमारी अत्यंत गुप्त योजना थी क्योंकि हम अपने माता-पिता को दिखाना चाहते थे कि हम एक-दूजे के लिए बने हैं, और हम एक दूसरे के साथ बेहतर काम कर सकते हैं। यह हमारी तीन साल के लिए गतिशील योजना थी और फिर हमारा विवाह हो गया, अंततः!

एक उपयुक्त सलाहकार

हमारे व्यवसायिक सेटअप की योजना बनाते समय, हम एक सलाहकार से मिले जिसने कार्यालय की स्थापना में, ग्राहक प्राप्त करने में और अन्य मार्केटिंग विवरण में हमारी मदद की। मैं उसकी सरलता, शांति, स्थिर विचार और सर्वाधिक, उसका मस्तिष्क गणनाओं पर कैसे काम करता है, इस पर मंत्रमुग्ध हो गई थी।

हालांकि मैं अपने पति से प्यार करती थी, मैं इस पुरूष और इसकी बुद्धिमत्ता के प्रति खिंची चली जा रही थी।

मुझे उसे प्रतिदिन और अधिक पसंद करने से कोई नहीं रोक सकता था।

इस पुरूष ने खुशामद के साथ मेरे प्रश्नो का उत्तर देना शुरू कर दिया और जल्द ही उसने स्वीकार कर लिया कि वह भी मुझे पसंद करता है। क्रश होने/ किसी को पसंद करने से मुझे असहज महसूस नहीं करना चाहिए, लेकिन वह भी विवाहित था। अब जब यह बात बाहर आ गई थी, तो यह भावना एक ही समय में घुटन और आनंद देने वाली थी।

ये भी पढ़े: वस्तुएँ रख कर भूल जाने की कला

उत्साह ने मुझे खुश कर दिया और मैं सोचने लगी कि किसी को पसंद करना ठीक है, किसी की प्रशंसा करना सही है। इसके बाद हम विपणन और बिक्री का काम करने में एक-दूसरे के साथ समय व्यतीत करते हुए एक-दूसरे के करीब आ गए। इससे मुझे कई बार अपराधबोध महसूस होता था, जैसे मैं कुछ गलत कर रही हूँ और इसे यहीं समाप्त होने की आवश्यकता है। इस से अधिक कुछ भी हम दोनों के लिए परेशानी का कारण बन सकता है।

मैंने स्वीकार करने का फैसला किया

एक दिन मुझे लगा कि मुझे इस बारे में अपने पति को बताना चाहिए, केवल वही भाग कि मैं हमारे सलाहकार को, जितना दिखाती हूँ उससे ज़्यादा पसंद करती हूँ। मैंने पहले ही उन्हें मेरी पसंद के बारे में बताया था लेकिन यह नहीं बताया था कि कितना पसंद करती हूँ। मैंने उनसे कभी कुछ नहीं छुपाया है, कोई ऐसा रहस्य नहीं है जो भीतर मुझे परेशान करता है। इसलिए, एक दिन मैंने हिम्मत जुटाई और अपने प्रिय पति को इस बारे में बताया। उन्होंने पूरी कहानी सुनी और क्रोधित हो गए। मैंने भी इससे कम की अपेक्षा नहीं की थी, लेकिन उनकी प्रतिक्रिया ने मुझे सुन्न कर दिया। वह कुछ घंटो के लिए गायब हो गए और मैंने उन्हें हर जगह ढूँढा। शायद एक-दूसरे को एक दशक से जानना मुझे समझने के लिए कम था; इसने मुझे भीतर से तोड़ दिया। एक मैं थी, अपनी गलती स्वीकार कर रही थी, लेकिन प्रतिक्रिया उल्टी थी।

ये भी पढ़े: मैं समझता था कि मेरी पत्नी एक दूसरे पुरूष से प्यार करती थी

कुछ घंटों बाद वह लौटे और हमने स्थिति के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि वे समझ सकते हैं कि किसी समय किसी पर क्रश होना सामान्य है। उन्हें यह जानकर सिर्फ ईर्ष्या महसूस हुई थी कि इतने सालों बाद मुझे उनके अलावा कोई और पसंद आ गया। जो उन्होंने कहा उस पर मैं विश्वास नहीं कर पा रही थी और मुझे समझने के लिए, और इस समय मुझे छोड़कर नहीं जाने के लिए मैं उनकी आभारी थी।

साथ में हमने तय किया कि जो भी हो, हम एक दूसरे से वे बातें नहीं छुपाएंगे जो हमारे विवाह को बर्बाद कर सकती हैं।

यह सब अच्छे के लिए है

उस सप्ताह में बाद में, मैंने उस पुरूष को बता दिया कि क्या हुआ। उसने कहा कि उसे भी लगा वह अपनी पत्नी को धोखा दे रहा है, लेकिन यह एक नए उत्साह के साथ पुराना अनुभव था। जैसे उसके जवानी के दिन वापस आ गए और ऐसे किसी से बात करके उसे ताज़ा महसूस हुआ जिसे वही पसंद था जो उसे पसंद था, ऐसा कोई जिसकी इतनी सारी समान रूचियां थीं।

ये भी पढ़े: वस्तुएँ रख कर भूल जाने की कला

इस पूरे क्रश के मामले ने मुझे एक चंचल स्कूल की छात्रा जैसा महसूस करवाया और मैं अब भी हमारे सलाहकार को पसंद करती हूँ। कभी-कभी, सिर्फ कभी-कभी मुझे लगता है कि जहां मैं रूक गई थी, अगर नहीं रूकी होती तो क्या होता? तो अब क्या स्थिति होती? हम दोनों अपने विवाहों में किस स्थिति पर होते? तब मैं इस निष्कर्ष पर पहुंची कि यह मेरे जीवनसाथी के साथ मेरे बंधन को मज़बूत बनाने के लिए था और हम दोनों ने एक-दूसरे पर नए भरोसे के साथ शुरू किया।

प्यार, दुर्व्यवहार और धोखाधड़ी पर असली कहानियां

फिर भी, अगर हम में से एक ने हमारे विवाह की रेखा पार कर ली तो क्या कर सकते हैं?

विधवाएं भी मनुष्य हैं और उनकी भी कुछ आवश्यकताएं हैं

उसने झूठ का एक जाल बुना और पुरूषों के प्रति मेरे विश्वास को नष्ट कर दिया

मैं उसका गुप्त रहस्य नहीं बनना चाहती थी

Leave a Comment

Related Articles