Hindi

एग्जाम के बीच माता पिता ने मुझे तलाक की बात बताई. अब मैं कैसे पढूं?

a sad student at his study desk

प्रिय सर

मेरे माता पिता का तलाक हो रहा है और मैं उनकी इकलौती संतान हूँ. मैं अपने फाइनल ईयर की परीक्षा दे रहा था जब उन्होंने इस बारे में बताया. दोनों ही मुझे एक दुसरे के खिलाफ इस्तेमाल करते हैं और एक दुसरे की शिकायत करते रहते हैं. मुझे ये परिस्तिथि बहुत ही परेशां कर रही है. और मैं इस बात से भी बहुत कुंठित हूँ की मेरे माता पिता ने ऐसे समय पर मुझे इस तरह की विपत्ति में डाल दिया. मुझे बिलकुल समझ नहीं आ रहा है की मैं कैसे अपने मन को शांत करूँ और अपनी पढ़ाई पर ध्यान दूँ. कृपया सलाह दें.

Hindi counselling

अमन भोंसले कहते हैं:

आपकी परिस्तिथि ज़रूर ही कष्टप्रद है.

सबसे पहले तो आप अपना भविष्य सुरक्षित करें.

आपको व्यवहारिक होना होगा और वैसे ही अपने माता पिता के रिश्ते को देखना होगा, जैसा वो है.

अन्यथा आप अपने आपको बहुत थका देंगे. इस समय आपको अपनी सारी ऊर्जा संभाल कर अपनी परीक्षा में सफल होना है. क्योंकि अगर ऐसा नहीं हुआ तो इसका परिणाम आपके भविष्य और आपकी नौकरी की संभावनाओं पर पड़ेगा. आपको कुछ भी कर कर अपनी पढ़ाई के लिए समय निकालना होगा.

तलाक की कार्यवाही बहुत ही लम्बी और कष्दायक हो सकती है इसलिये ज़रूरी है की आप अपनी उन चिंताओं को फ़िलहाल के लिए किनारे रख दें. ज़िन्दगी की जटिल मुश्किलों से जूझने के लिए आपको युक्ति से काम लेना होगा. सभी मुश्किलों को एक साथ नहीं संभाला जा सकता है. इसलिए ज़रूरी है की एक एक करके सभी परेशानियों को परखें और देखें की आपके लिए किससे निपटना अभी सबसे महत्वपूर्ण है–आपकी परीक्षा या फिर आपके माता पिता के तलाक के कारण आपकी भावनात्मक उथल पुथल.

अपनी पढ़ाई पर ध्यान कैसे दें

अगर वही रहकर आप एकाग्र मन से नहीं पढ़ पा रहे हैं तो आप थोड़े दिन के लिए कहीं और क्यों नहीं चले जाते हैं? हो सके तो किसी रिश्तेदार या दोस्त के घर? ऐसा करने से आप एकाग्र होकर पढ़ पाएंगे और आपका मन इधर उधर की बातों में नहीं भटकेगा।

आपके माता पिता का तलाक

चाहे ये बात कितनी भी तकलीफदेह क्यों न हो मगर सच्चाई यही है की आप अपने माता पिता के तलाक के फैसले में कुछ बदल नहीं सकते हैं. आपको खुद को दूर रखना होगा जब तक वो आपस में हो रहे मनमुटाव और खिचाव का खुद ही कोई हल न निकाल लें. कभी कभी हम जिनसे प्यार करते हैं, उनकी मदद करते करते बिल्कुल भूल जाते हैं की वो अपनी मदद करने में स्वम ही सक्षम हैं.

आपके माता पिता दो समझदार व्यस्क हैं और उन्हें ही अपने रिश्ते की इन उलझी गाठों को सुलझाना होगा. वो आपसे कहीं ज़्यादा बड़े और परिपक्व हैं और आपको उनपर ये विश्वास करना होगा की वो जो भी करेंगे, अपने और आपके लिए सही ही करेंगे. मैं जानता हूँ की आपको ये बहुत ही बेरुखी का तरीका अपनाने की सलाह लग रहा होगा मगर आपको ये बात समझनी होगी की वक़्त आ गया है जब आप ब्रेक पर से अपने पैर हटा लें, ख़ास कर अब जब की रास्ता बहुत ही उबड़ खाबड़ है.

अपनी भावनाओं पर काबू पाइये

शायद आपके लिए अच्छा होगा अगर आप किसी कौंसलर से मिलें और अपनी चिंताएं और पशोपश को खुल कर बताए. आपके सामने अभी बहुत कुछ एक साथ घट रहा है और ये ज़रूरी है की आपकी माता पिता के बीच की परेशानी आपके लिए और मुश्किलें न पैदा करें क्योंकि आपको मानना होगा की वो परेशानी उन दोनों की है और आप अपनी परीक्षा को प्रभावित होने नहीं दे सकते हैं.

माता पिता आपसे शिकायत करते हैं

आपको पास वो दोनों ही आकर अपना गुबार निकालते है क्योंकि उन्हें आप एक आसान जरिया लगते हैं. वो खुद इस समय बुरे वक़्त से गुज़र रहे है और शायद तलाक के कारण खुद भी बहुत कमज़ोर महसूस कर रहे होंगे. वो अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के साधन ढूंढ रहे हैं. आपको अब एक कड़ा रुख अपनाना होगा और साफ़ शब्दों में ये समझाना होगा की आप इन बातों का हिस्सा बनने को तैयार नहीं हैं. आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण इंसान आप खुद हैं और आपको अपना ध्यान रखना है.

अपने माता पिता को बताइये की इस समय आप अपनी परीक्षा पर ध्यान दे रहे हैं और उनका ये रवैया आपकी पढ़ाई पर बुरा असर डाल रहा है. ये सब करना मुश्किल है मगर आपको अपने माता पिता को ये बात समझानी होगी की आपके लिए अपनी परीक्षा में सफल होना कितना आवश्यक है और इस माहौल में आपके लिए एकाग्र रूप से पढ़ना कितना मुश्किल हो रहा है. आपके अभिवावकों के तलाक का ये दौर आपको भी बताएगा की आप आखिर कितने सशक्त हो.

हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं
अमन

Hindi counselling

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No