हम पूरी तरह से अलग हैं और हमारी 20 साल की शादी कुछ ऐसी दिखती है

(नाम बदल दिए गए हैं; जैसा कि तपन मोजुमदार को बताया गया )

एक दूसरे से बिल्कुल विपरीत

अगर उत्तरा और मैं ग्रह होते, तो वह मेरे एंटी-क्लॉकवाइस की क्लॉकवाइस दिशा में घूमती। निश्चित ही। चॉक और चीज़ के बीच कम से कम उनकी सतह का रंग तो समान है। हम तो इसका भी दावा नहीं कर सकते।

मैं 27 साल में शादी करने के लिए उत्सुक था और लड़कियाँ देख रहा था। कुछ लड़कियों के लिए मैं बस निर्धारित समय पर उनके परिवारों के पास गया और विवाह पर चर्चा की। 1993 के समय में, यह कुछ नया था, ऐसा मुझे कहा गया था। मेरे प्रगतिशील दोस्तों (मेरे मार्क्सवादी झुकाव वाले कुछ दोस्त थे) को यह गुज़रे ज़माने का लगा। मैंने रत्ती भर भी परवाह नहीं की और अपनी वैवाहिक खोज में आगे बढ़ा।

ये भी पढ़े: मैंने अपनी पत्नी के साथ घर छोड़ दिया क्योंकि मेरी माँ मेरे वैवाहिक जीवन को निर्देशित कर रही थी

गणित में मास्टर्स कर चुकी एक लड़की, जिसे मैंने पसंद किया था, उसने खेद जताया, क्योंकि उसके पारिवारिक पंडित के अनुसार हमारी कुंडली नहीं मिलती थी। एक और लड़की जिसने मुझे बहुत पसंद किया था, उसने फिज़िक्स में मास्टर्स किया था, उसे अस्वीकार कर दिया गया था क्योंकि मैंने देखा की उसकी माँ, एक जनरल मैनेजर की पत्नी, मेरे साधारण आय वाले परिवार के सामने खुद को श्रेष्ठ दिखा रही है। मेरे पिता ने मुझे इंजीनियरिंग में प्रीमियम डिग्री दिलवाने के लिए अपने प्रोविडेंट फंड को समाप्त कर दिया था, और उन्हें वापस भुगतान करने का यह मेरा पाँचवां वर्ष था। हमारा घर उनकी सुपरफास्ट राजधानी के सामने धीमी पैसेंजर ट्रेन की तरह दिखता था। कुछ और ‘रिश्ते’ मेरे सामने से बह गए। मेरे अखबारी विज्ञापन, जो मेरे द्वारा तैयार और प्रकाशित किए गए थे, के उत्तरदाताओं की सूची खत्म होने को थी।

हम सभी की अपनी मजबूरीयाँ थीं

और तब मैंने उत्तरा की तस्वीर देखी। बाद में, जब मैं उससे मिला, मैंने पाया कि पटना की यह फोटोग्राफर प्रोफाइलिंग में माहिर थी। प्री-फ़ोटोशॉप दिनों के लिए, उसके गालों और कनपटी पर किए गए टचअप को सूक्ष्म कहा जा सकता है। मैंने तब तक विवाह के लिए कई अजीब और भयानक विज्ञापन चित्रों को देखा था।

ये भी पढ़े: ४० लाख का क़र्ज़, डूबता बिज़नेस और दो बड़ी बेटियां- जब ज़िन्दगी में वो सब खो रहे थे

और जब हमने मुलाकात की, जिस तरह से उसने बात की, बिल्कुल संकोच के बिना, फिर भी कोई फ्लर्टिंग नहीं। कारीगर की तरह। उसके पिता के दिल का बाइपास हुआ था। वह जानती थी कि उसकी शादी उसके कर्तव्य से बंधे हुए जीवन के लिए आवश्यक थी। एक विनम्र परिवार वाले एक पुरूष के साथ, जिसके कुछ महान करने के रास्ते पर होने की भविष्यवाणी की जा सकती थी। जो वह कह नहीं सकती थी, लेकिन कुछ सार्थक ज़रूर था। वह मुझे याद दिलाती रहती है कि वह 20 साल बाद भी अपनी गट फीलिंग पर पछतावा महसूस करती है।

हम सभी की अपनी मजबूरीयाँ थीं
जिस तरह से उसने बात की, बिल्कुल संकोच के बिना, फिर भी कोई फ्लर्टिंग नहीं

अगर उसने उसी शहर के डॉक्टर से प्रस्ताव स्वीकार कर लिया होता, तो उसके पिता लंबे समय तक उसकी देखभाल में जीवित रह सकते थे। डॉक्टर एक बहुत ही विनम्र व्यक्ति था, जिसका एक समृद्ध और प्रगतिशील परिवार था, जिसने उसे पहली नजर में प्यार किया – वह मुझे याद दिलाना कभी नहीं भूलती। मेरे पास इसका उत्तर देने का अपना तरीका है और इस तरह के विवादों के दौरान फिज़िक्स में मास्टर्स वाली लड़की काम में आती है।

ये भी पढ़े: क्या हुआ जब पूरा ससुराल मेरे खिलाफ खड़ा था…

हमने हाँ क्यों कहा?

दूसरों की तुलना में उसे चुनने के लिए मुझे और उसके द्वारा मेरे चयन को किसने प्रेरित किया? हो सकता है कि हम दोनों हमारी सूचियों के अंत में थे और हमें अधिक लोगों से मिलने की इच्छा नहीं थी। मैं जितनी जल्दी हो सके काम निपटा लेना चाहता था और अब इनकार नहीं कर सकता कि सुरक्षित, निश्चित और नियमित सेक्स एक महान प्रेरक था। उसने कभी नहीं कहा, लेकिन वह भी 25 की थी और उसकी स्थिति ने गुंजाईश ही नहीं छोड़ी थी कि वह विपरीत लिंग के किसी ऐसे पुरूष से मिल सके जो उसके परिवार का हिस्सा नहीं था। शायद हमने सोचा कि हम अपने समझौतों को अनुकूलित कर रहे थे। शायद हम एक-दूसरे को और हमारे परिवारों को नापसंद नहीं करते थे, और यह सौदे की पक्की दलील थी।

शायद हम एक-दूसरे को और हमारे परिवारों को नापसंद नहीं करते थे, और यह सौदे की पक्की दलील थी।

कौन जाने, और स्पष्ट रूप से, दो दशकों के बाद, किसे परवाह है!

ये भी पढ़े: जब मैं एक डेट के लिए तैयार हुई और पति मुझे सब्ज़ी मंडी ले गए!

या फिर, ऐसा आप सोचेंगे। इसलिए, जबकि उत्तरा मंदिरों के साप्ताहिक दौरे करती है और मासिक प्रतिज्ञा करती है, जिसे उपवास की निरर्थक प्रक्रिया, दिन के दौरान फल और शाम को पूरी और खीर के साथ पूरा करती है, वहीं मैं ऑफिस में एक तत्काल मीटिंग के लिए अफसोस जताता हूँ और स्टार वार्स का आठवां एपिसोड तीसरी बार देखता हूँ। वह मेरी पहली नियुक्ति के स्थान, गुड़गांव, अररर… गुरुग्राम में रहना पसंद करती है, मैं बैंगलोर पसंद करता हूँ। मौसम बहुत अच्छा है, और इसके लोग भी, मैं तर्क देता हूँ। वह निश्चित शब्दों में अपना संदेह व्यक्त करती है, कि इसकी वजह मनीषा है जो शौकिया रंगमंच प्रस्तुतियों में मेरी सह-अभिनेत्री है।

तर्क बढ़ते हैं, गुस्सा भड़कता है, लेकिन अंत में …

मुझे लगता है कि हमारी बेटी कॉमर्स के अध्ययन में अच्छा करेगी; वह उसपर मेडिसिन के कॉलेज में प्रवेश लेने का दबाव डालकर उसे तनाव में डाल देती है। वह नीरसता से कहती है कि परिवार में एक डॉक्टर का होना मदद करता है और मुझे लगता है कि वह इस बात की आड़ में उस संबंध के बारे में अफसोस जता रही है जो बन ना सका।

ये भी पढ़े: शादी के बारे में हिंदी धारावाहिक हमें ये मज़ेदार बातें सिखाते हैं

बहस जारी है। विवाद तेज हो जाते हैं, पड़ोसियों को पता चल जाता है। बेटी का कहना है कि वह इस घर से बाहर निकलने के लिए अपने दिन गिन रही है। मैंने ‘विकल्पों’ के बारे में कई बार सोचा है; मनीषा इतनी भी बुरी नहीं है, तलाकशुदा है बस!

तर्क बढ़ते हैं, गुस्सा भड़कता है
बेटी का कहना है कि वह इस घर से बाहर निकलने के लिए अपने दिन गिन रही है।

फिर, वह मुझे लंगड़ाते हुए देखती है और जानती है कि शाम की सैर के दस राउंड ने मेरी एड़ी के पुराने दर्द को बढ़ा दिया है। वह एक गर्म पानी और एक ठंडे पानी की बाल्टी लाती है। “एक-एक करके,” वह मुझे बिना देखे कहती है, और मुझे अपने लैपटॉप पर छोड़ देती है। मेरा मन मुझे अपनी स्क्रीन को नीची करने के लिए संकेत देता है, हालांकि सनी लियोनी के बारे में एक चित्रित समाचार पढ़ने को काफी समय से स्वीकार्य मान लिया गया है।

Spread the love
Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.