Hindi

जब आपका साथी आपको उससे अधिक प्यार करता है जितना आप उसे करते हैं

रिश्तों के अच्छी तरह से संतुलित होने की कल्पना करना आदर्शवादी हो सकता है, लेकिन जब हकीकत में आप अपने साथी से उतना प्यार नहीं करते जितना कि वह आपसे करता है, तो यह दिल तोड़ने वाला हो सकता है ।
anushka and virat in at event

संतुलन से बाहर एक रिश्ता

क्या आपने कभी महसूस किया कि आप रिलेशनशिप में अपने साथी से ज़्यादा दे रहे हैं? जब प्यार की बात आती है तो कोई भी रिश्ता पूरी तरह संतुलित नहीं होता, हालांकि यह एक असहज भावना है जब आपको पता चलता है कि यह एक असंतुलन हो सकता है ।

क्या हो अगर आप उनमें से एक हों जो अपने साथी द्वारा प्राप्त किए जाने वाले प्यार जितना प्यार उसे नहीं देते? आप इस एहसास तक कैसे पहुँचते हैं?

यहाँ कुछ संकेत है जो शायद सुझाव दें कि आप अपने साथी से उतना प्यार नहीं करते जितना कि वह आपसे करता है।

सकारात्मक भावना नहीं है

यह वैसी सकारात्मक भावना नहीं है जब आप अपने साथी के व्यवहार को प्यारा या मज़ेदार पाते हैं। जब आपका साथी एक किस के साथ आपको दिन में अनंत बार बताता है कि मैं तुमसे प्यार करता हूँ.. और आप अभिव्यक्ति से थका हुए महसूस करते हैं। आप आदत के अनुसार आई लव यू कह देते हैं और आपको इसका एहसास होता है।

अपराध बोध

जैसे ही आप महसूस करते हैं कि आप वह व्यक्ति हैं जो रिलेशनशिप में ’कम’ प्यार करता है, आपको अपराध बोध होने लगता है। आप सब कुछ के लिए दोषी महसूस करते हैं। आपको लगता है कि आप अपने साथी के साथ ईमानदार नहीं हैं। आप उनके प्यार से मेल खाने वाली प्रेम की भावना महसूस नहीं करने के लिए दोषी महसूस करते हैं। आपको लगता है कि आप आपके साथ होने वाली किसी अच्छी चीज़ को खराब कर रहे हैं और आपको उनका दिल तोड़ने का भी डर है।

sad lady sitting on bed
Image source

आत्म-संदेह

जब आप अपने साथी को उतना प्यार करने में असमर्थ होते हैं जितना वे करते हैं, तो आप खुद पर संदेह करना शुरू कर देते हैं। आप प्यार करने की अपनी क्षमता पर संदेह करने लगते हैं। आप यह भी संदेह करने लगते हैं कि क्या आप इस प्यार के लायक हैं भी या नहीं। यह विचार कि आपको समान रूप से प्यार का आदान-प्रदान करना चाहिए और ऐसा करने में सक्षम नहीं होने का अपराध, आपको खुद से नाराज़ कर देता है। कभी-कभी आप खुद से नफरत करना शुरू कर देते हैं और यह रिलेशनशिप के लिए विनाशकारी हो जाता है।

दूर खींचना

हम सभी को लगता है कि हम इस तरह की किसी भी चीज से निपटने का सबसे अच्छा तरीका जानते हैं। यह सच है और दुर्भाग्यपूर्ण है। जब आप दोषी महसूस करते हैं और खुद पर संदेह करते हैं, तो आप खुद को अपने साथी से दूर करने लगते हैं। आपको लगता है कि आप उन्हें बचाने के लिए ऐसा कर रहे हैं लेकिन यह सिर्फ उन्हें भ्रमित कर देता है।

यह सोचना कि आपको वे जितना प्यार दे रहे हैं आप उतने के लायक नहीं है, आपसे बुरा बर्ताव करवाता है। आप अवचेतन रूप से, और कभी-कभी जानबूझ कर खुद को उनसे दूर करना शुरू करते हैं। आप यह कहकर इसे समझाने की कोशिश करते हैं कि यह उनके खुद के लिए अच्छा है। सच्चाई यह है कि आप बातचीत करने के लिए तैयार नहीं हैं जिसकी जरूरत है। यहाँ कोई जजमेंट नहीं होना चाहिए, यह कठिन है, लेकिन आपको इन चीजों के बारे में अपने साथी के साथ ईमानदार होना चाहिए।

sad man standing alone
Image source

विपरीत

कुछ मामलों में, हालांकि, आप कड़ी मेहनत करते हैं। आप रिलेशनशिप में अतिरिक्त उपस्थित होने लगते हैं। आप बहुत मजबूत हो जाते हैं और यह आपके साथी को और भ्रमित करता है। आप यह भी जानते हैं कि यह एक मोर्चा है और सारा प्यार वास्तविक नहीं है लेकिन आप अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रहे हैं। यह बेईमानी आपको अंदर से खाने लगती है और मानो या न मानो, आपका साथी भी बदलाव को नोटिस करता है।

ईमानदार होना सही चीज़ है

ऐसा करने का कोई आसान तरीका नहीं है, लेकिन आपको करना ही होगा। आपको अपने साथी के साथ ईमानदार होना चाहिए क्योंकि यही करना सही है। आप ब्रेकअप के डर से थोड़े समय तक इसे बनाए रख सकते हैं लेकिन आपको उन्हें सच कहना ही होगा। यह दो तरीकों से किया जा सकता है, आप दोनों या तो ब्रेकअप कर लें या चीजों को सुलझाने के लिए अतिरिक्त मेहनत करें।

रिश्ते बनाना मुश्किल है, उन्हें बनाए रखना और भी मुश्किल

कमज़ोरी सशक्त हो सकती है

बाद के विकल्प के बारे में मज़ेदार बात यह है, कभी-कभी, सिर्फ कभी-कभी, आप पूरी तरह से उनके साथ प्यार में पड़ सकते हैं। आप हमेशा से यह करना चाहते थे, लेकिन ईमानदारी जो आप सामने लाते हैं वो संबंधों को देखने का आपका तरीका बदल देती है। यह वह चीज बन जाती है जिस पर आप बंधन में बँधते हैं।

स्पष्ट बातचीत करना मुश्किल है

हम सभी कमज़ोरी से नफरत करते हैं, लेकिन अगर हम ऐसा होने देते हैं, तो यह हमारी सबसे बड़ी शक्ति हो सकती है। यह दिखावे के बजाय हमारे साथियों के साथ असली भावनाओं के बारे में सिर्फ वास्तविक बातचीत शुरू कर सकता है। जब आप ईमानदार हो जाते हैं, तो आपको अपराध बोध, शर्म और झूठ को छिपाने की ज़रूरत नहीं है जिसे आप अन्यथा छुपा रहे थे। यह एक कठिन बाधा है, लेकिन कभी-कभी आप दोनों वयस्क हो सकते हैं जो समस्या को देखते हैं और इसे हल करने के लिए किसी भी हद तक जाने की कोशिश करते हैं। यह हमेशा नहीं होता है। लेकिन जब ऐसा होता है, तो आप किसी भी तरह से एक टेढ़े तरीके से, उस संतुलन को ढूँढते हैं जिसे आप काफी समय से चाहते थे।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No