Hindi

जब हमने बच्चों को उनका खुद का बेडरूम दिया, तो हमारी नींद बेहतर हो गई

उम्मीद कर रही थी कि आखिरकार बच्चों के अपने शयनकक्ष में जाने से उसे और उसके पति को बेहतर नींद मदद मिलेगी और वे अपने वैवाहिक बिस्तर में अधिक गुणवत्तापूर्ण समय बिता सकेंगे
Couples sleeping together

“मम्मा, आओ“ मेरे बेटों की प्यारी आवाज़ें आईं। दस साल की बड़ी उम्र में भी, वे सोने के लिए थपकियां पसंद करते थे। अगर मम्मी द्वारा नहीं, तो डैडी द्वारा। अगर दोनों ने इनकार कर दिया, तो अत्यधिक स्नेह करने वाले दादाजी को सेवा में लगाया जाएगा। बच्चों के सिर या पैरों पर दादाजी की सौम्य परिचर्या उन्हें नींद दिलाने के लिए पर्याप्त थी।

काम पर लंबे दिन के बाद और उनके अध्ययनों के एक लंबे सत्र को संभालने के बाद, मैं अपने एकांत समय के लिए तरसती हूं। बिस्तर खोलने और कुछ मिनट पढ़ने से ही मुझे नींद आ जाती है। इसके बजाए, बच्चे उन्हें पढ़ाने के लिए बुलाएंगे या उनकी पीठ पर मालिश करने के लिए जब तक उन्हें नींद नहीं आ जाती है। मुझे गलत मत समझना, मुझे इन क्षणों से प्यार है, लेकिन कुछ दिन, मुझे बस अपना समय अकेला चाहिए। बच्चों के साथ कुछ मिनट बिताने के बाद मैं सो जाती हूं, और सुबह पेट या सिर दर्द के कारण जल्दी जाग जाती हूँ। ऐसा नहीं है कि मातृत्व के बाद मुझे इस तरह के
झटकों की आदत नहीं हुई थी।

ये भी पढ़े: जब हमने बच्चों को उनका खुद का बेडरूम दिया, तो हमारी नींद बेहतर हो गई

कुछ सालों तक, चार लोगों के हमारे परिवार ने सह-शयन का अभ्यास किया। हम एक ही कमरे में सोते थे, खुद को फर्श बिस्तर और आरामदायक बिस्तर (पढ़ें, वैवाहिक बिस्तर) के बीच विभाजित करते हुए। फिर, एक दिन, हमने बच्चों के कमरे की दीवारों को उनके पसंदीदा कार्टून पात्रों से चित्रित किया और दरवाजे पर फंसे रंगीन प्लास्टिक अक्षरों का उपयोग करके उनके नामों की घोषणा की। बच्चे अपने कमरे में जाने के लिए तैयार थे और हम अपने वैवाहिक बिस्तर को पुनः प्राप्त करने के लिए तैयार थे।

cute couple in bed
Image source

ये भी पढ़े: वह एक वस्तु जो मैं चाहता हूँ, लेकिन वह नहीं

साथ में सोने के लाभ और हानी

मैंने सीखा कि कई संस्कृतियों में, सह-नींद तब तक सामान्य है जब तक कि बच्चे का दूध न छुड़ाया जाए। जापान में, माता-पिता, या अक्सर मां अपने बच्चों के साथ तब तक सोती है जब तक वे किशोरावस्था में प्रवेश नहीं करते हैं। मैंने अपने ग्रहों का शुक्रिया अदा किया कि मुझसे नियम का अनुपालन करने की अपेक्षा नहीं थी। अध्ययनों ने स्पष्ट किया कि वह बच्चे जो माता-पिता के साथ सोते थे जल्दी आत्मनिर्भर हो गए, उन्हें कम चिंता या तनाव था और वे अधिक स्वीकार्य महसूस करते थे।

मुझे अपने बिस्तर पर उन्हें सुलाने में एक अलग समस्या थी। मुझे बहुत तनाव का सामना करना पड़ रहा था क्योंकि कभी-कभी उनके हाथ या पैर या सिर मेरे शरीर के सबसे नाजु़क अंगों से टकरा जाते थे। निश्चित रूप से, मेरे बच्चों को हमारे घर में स्वीकृत और कम तनाव महसूस करने के लिए अन्य तरीकों को ढूंढना होगा। यहां तक कि तेजी से आत्मनिर्भरता के वादे ने मुझे सह-शयन जारी रखने की जरूरी प्रेरणा नहीं दी। यही कारण है कि हमने उनके कमरे के परिवर्तन को सुनिश्चित करने का फैसला किया।

अंततः, साथ अकेले!

आखिरकार, हमारे पास हमारा वैवाहिक बिस्तर था। हम वह सब कुछ कर सकते थे जो हमने इतने सालों से नहीं किया था क्योंकि हम बच्चों के साथ अपना कमरा साझा करते थे। अंत में हमें हमारी निजता मिल गई। हम अब रचनात्मक हो सकते थे क्योंकि हमारे पास हमारा बिस्तर था। हमने अपनी चादरें हल्के रंगों में हमारी सर्वश्रेष्ठ गैज़िलियन थ्रेड-काउंट चादरों में बदल दीं, क्योंकि अब हमें बच्चों के साथ लाए जाने वाले कीचड़ को छिपाने के लिए आवरण की आवश्यकता नहीं थी। गंदे हाथ या लापरवाही से खुला हुआ एक स्केच पेन या सबसे खराब, बिस्तर पर फैला हुआ खाना।

ये भी पढ़े: स्त्रियाँ अब भी यह स्वीकार करने में शर्मिंदगी क्यों महसूस करती हैं कि वे हस्तमैथुन करती हैं

Riti Kaunteya with husband
Riti Kaunteya with her husband

हम बच्चों के जागने के बारे में चिंता किए बिना अब आवाज़ कर सकते थे। देर रात की चैट या मैसेज, एक तर्क जो दिन तक आगे बढ़ता था और बिस्तर पर जाने से पहले हल किया जाना चाहिए या कुछ और नहीं तो, हम सामान्य आवाजों में एक-दूसरे को बिना चुप करवाए बात कर सकते थे।

हम सबकुछ ज़्यादा देर तक कर सकते हैं और चीजों को जल्दी करने की ज़रूरत नहीं ताकि बच्चों को पता ना चले कि हम उनके पास नहीं है। जिसका मतलब है, हम शावर या पॉट पर लंबा समय व्यतीत कर सकते हैं, क्योंकि हमें अपने काम को तेजी से खत्म करने की कोई आवश्यकता नहीं थी।

रिश्ते गुदगुदाते हैं, रिश्ते रुलाते हैं. रिश्तों की तहों को खोलना है तो यहाँ क्लिक करें

ये भी पढ़े: पूर्वनिर्धारित अंतरंगता भी संतोषप्रद हो सकती है

ओह, वैवाहिक बिस्तर की खुशी

हम बिस्तर पर नई मुद्राएं आज़मा सकते थे, जैसे कि किसी भी तरफ सोना या स्वतंत्र रूप से बिस्तर पर करवट बदलना। हम कई तकियों का उपयोग कर सकते थे, रात में बच्चों द्वारा उन्हें हड़पने की समस्या के बिना। और वास्तव में पूरी रात के लिए हम एक ही कंबल में सो सकते थे, जो किसी बच्चे द्वारा अनजाने में खींचा नहीं जाता था। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि दोनों के पास बिस्तर का एक पक्ष है।

foot of man and woman in bed
Image source

ये भी पढ़े: क्या विवाह में वन नाइट टैंड को क्षमा किया जा सकता है अगर वह संबंध में परिवर्तित ना हो?

ओह, नन्हे बच्चे पर रोल होने या उन पर कूदने के बारे में चिंतित हुए बिना, आसानी से बिस्तर से बाहर निकलने में सक्षम होना! इसके बारे में सोचने से ही मेरे अंदर खुशी की लहर दौड़ गई। मैं लंबे समय तक, जागते ही साइड के बजाय बिस्तर के नीचे की ओर से बाहर निकलती थी। मुझे यह सुनिश्चित करने के लिए उस ड्रैगिंग समय का ध्यान रखना पड़ता था कि मैं शर्मनाक दुर्घटनाओं को रोकने के लिए समय पर बाथरूम पहुंच जाऊं।

हम नहीं जानते थे कि इस तरह के परिवर्तन आसान नहीं हैं। अब जाकर हम आत्मविश्वास से दावा कर सकते हैं कि बच्चे अपने शयनकक्ष में सफलतापूर्वक सेट हो चुके हैं। इस बीच, हम अभी भी उम्मीद कर सकते हैं। मैंने अपनी प्रेरणाओं को चार्ट आउट किया था।

क्या विवाह सेक्स के आनंद को खत्म कर देता है?

सेक्स अजीब/मज़ेदार क्षणों के बारे में है

प्लीज़, सेक्स नहीं, हम विवाहित हैं

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No