जब किसी स्त्री का पति एक हॉट लड़की से बात करता है तो उसके मन में ये विचार आते हैं

जहां ईर्ष्या को सात घातक पापों में से एक माना जाता है जो निश्चित रूप से आपको नर्क में ले जाते हैं, वहीं हम सबने कई बार ईर्ष्या की होगी, है ना? और जहां हमें अपनी इस बुरी भावना पर गर्व नहीं होता है, वहीं हममें से कोई भी इससे बच नहीं पाता है। खासतौर से अगर आप मेरे जैसी असुरक्षित स्त्री हों, आपके पास इससे बचने का कोई रास्ता नहीं है, भले ही आप कितनी भी ज़्यादा कोशिश कर लें। फीलिंग्स तब तो विशेष रूप से खराब हो जाती हैं जब वह व्यक्ति भी परिदृश्य में शामिल हों जिसकी हम परवाह करते हैं। मुझे ऐसे नखरे करने के लिए जाना जाता है जिनके सामने 5 साल का बच्चा भी शर्मा जाए, वह भी सिर्फ इसलिए क्योंकि मेरी माँ किसी रैंडम बच्चे को तवज्जो देने लगी। फिर से कहूँगी कि मुझे इसपर गर्व नहीं है, लेकिन मुझे लगता है यह हममें से अधिकांश के साथ ऐसा होता है।

ये भी पढ़े: लड़कों की कुछ बातें जो लड़कियों को हमेशा खिन्न कर देती हैं!

तो, यह वास्तव में आश्चर्य की बात नहीं है कि आपके प्यारे पति को किसी रैंडम हॉट लड़की से बात करते हुए देखना ऐसा लगता है जैसे आपके मन पर किसी ने पंच मारा हो। यह मूर्खतापूर्ण, बकवास और फिर भी अपरिहार्य है। ऐसी कोई भी स्थिति आपके दिमाग को डरावने शोर और विचारों से भर देगी जो आपको शैतान के पसंदीदा मिनियन में बदल सकते हैं। लेकिन अगर आप ऐसा महसूस कर रही थीं कि सिर्फ आप ही ऐसा करती हैं, तो आपको बता दूं कि असल में ज़्यादातर महिलाएं इसी स्थिति से गुज़रती हैं और यही करती हैं।

यहां उन चीज़ों के कुछ उदाहरण हैं जो एक स्त्री के दिमाग से गुज़रती हैं जब वह अपने पति को एक हॉट लड़की के साथ बात करते देखती हैः

1. ‘‘क्या वह सुंदर है? क्या उसे यह सुंदर लग रही है? पक्का ऐसा ही है”

सच कहूँ तो यह एक सुखी विचार नहीं है। खासतौर से जब आप ब्लॉटिंग वाले पेट के साथ जागी हों और अब अपने मूड के अनुसार कॉफी के दाग वाला एक ढ़ीला स्वेटर पहने हुए हों।

2. हे भगवान, मुझे अपने बाल धो लेने चाहिए थे। मैं सच में भिखारी दिख रही हूँ”

क्या मैं एकमात्र ऐसी लड़की हूँ जिसके बाल धोने के 5 मिनट बाद ही चिपचिपे और बगैर धुले दिखते हैं? नहीं? ऐसा कहा जाता है कि हम उन दिनों में सबसे बुरे दिखते हैं जब हम अचानक ही अपने एक्स से टकरा जाते हैं। मुझे लगता है तब भी बिल्कुल ऐसा ही होता है जब आपका पति उस अप्सरा जैसी लड़की से बात कर रहा होता है जो स्कूल के दिनों से ही उसकी पुरानी दोस्त है। अगर आप ऐसी स्थिति में रही हैं और असुरक्षा के एक भी विचार ने आपको परेशान नहीं किया, तो मैं आपको सलाम करती हूँ। आप बहुत आगे जाएंगी!

क्या मैं एकमात्र ऐसी लड़की हूँ जिसके बाल धोने के 5 मिनट बाद ही चिपचिपे और बगैर धुले दिखते हैं
हे भगवान, मुझे अपने बाल धो लेने चाहिए थे

ये भी पढ़े: मुझे अपने कजिन से प्यार हो गया

3. ‘‘उन खूबसूरत बालों, सुंदर नाखूनों को देखो। उसका मेकअप बिल्कुल परफेक्ट है”

एक बार किसी बहुत बुद्धिमान व्यक्ति ने दावा किया था कि असुरक्षा प्रशंसा का मार्ग प्रशस्त करती है। और हाँ वह बुद्धिमान व्यक्ति मैं ही हूँ। मतलब एक ही पल में आप आपके शारीरिक अपीयरेंस में अंतर की वजह से खाई में डूब मरने के लिए तैयार हो जाती हैं और अगले ही पल आप उसके परफेक्ट घुंघराले बालों की सराहना करने लगती हैं जो उसकी ड्रेस की स्ट्रेप को हल्के से छू रहे हैं। जो हमें अगले बिंदु पर ले जाता है।

4. ‘‘एक मिनट, क्या मैं थोड़ी सी लेस्बियन हूँ? मैं उसके लिए पूरी तरह लेस्बियन बन सकती हूँ। कोई आश्चर्य नहीं कि वह उसे पसंद करता है”

इसे प्रशंसा, सराहना या चाहे जो भी कह लो; आप जानती हैं कि आप उसे घूर रही हैं। शायद आपको जाने से पहले यह पूछ लेना चाहिए कि वह अपने बालों और नाखूनों के लिए किस पार्लर में जाती है?

5. ‘‘कहीं मैंने स्टोव ऑन तो नहीं छोड़ दिया?’’

क्या? बहुत अजीब होना और साथी ही बेहद आत्मविश्वासी महसूस करने की कोशिश करना उबाऊ हो जाता है। खाली दिमाग में ऐसे ही फालतू विचार आते हैं।

ये भी पढ़े: यह कैसे सुनिश्चित करें कि प्यार में आपकी कोशिशें समझी जाएं

6. ‘‘30 मिनट से ज़्यादा हो चुके हैं। इनकी बातों में इतनी दिलचस्प चीज़ क्या है?’’

इनकी बातों में इतनी दिलचस्प चीज़ क्या है
इनकी बातों में इतनी दिलचस्प चीज़ क्या है

नहीं, ऐसा आपको लगता है। हकीकत में तो मुश्किल से सिर्फ 5 मिनट हुए हैं।

7. ‘‘हालांकि वह थोड़ी कूल है। वैसे भी कोई कूल लड़की उसे भाव नहीं देगी। मेरे अलावा। मैं कूल तो हूँ ना?’’

वह मज़ेदार और कूल है। लेकिन वह तो आप भी हो, है ना? यह बात हर कोई जानता है। आपकी बेस्ट फ्रैंड आपसे कहती रहती है कि आपको बेहतर लड़का मिल सकता था। लेकिन आप उससे बेहद प्यार करती हैं, इसलिए आप इस बात पर गौर नहीं करतीं। लेकिन कभी कबार खुद को यह याद दिलाना अच्छा लगता है।

कोई कूल लड़की उसे भाव नहीं देगी
कोई कूल लड़की उसे भाव नहीं देगी

अगर मानवता को एक शब्द में वर्णित करना हो, तो वह शब्द ‘भावनात्मक’ होगा। या शायद ‘नाटकीय’ शब्द ज़्यादा बेहतर फिट बैठता है। दोनों ही तरह से, यह एक तथ्य है कि मानव जाति हमेशा गहन भावनाओं से घिर रहती है और एकमात्र भावना जो प्यार जितनी ही गहरी है वह ईर्ष्या है। लेकिन कोई भी ऐसा व्यक्ति जिसे जीवन में किसी से भी ईर्ष्या नहीं हुई हो वह संत है। हालांकि अगर आप उस श्रेणी में आती हैं, तो हमें भी इसका राज़ बताएं। अगर ऐसा नहीं है, तो आपके व्यक्तिगत नर्क में आपका स्वागत है। यह गर्म, गंदा और पूरी तरह से निराशाजनक है। आपको यह बहुत पसंद आएगा।

Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.