जिस महिला से मैं शादी करने जा रहा था वह अब किसी और पुरूष में अधिक रुचि ले रही है

Man standing with back to wall

सवालः

हैलो मैडम,

मैं एक विवाहित व्यक्ति हूं लेकिन विवाहित महिला के साथ संबंध में हूं। हम एक दूसरे के लिए प्रतिबद्ध हैं और शादी करने की योजना बना रहे हैं, और सब कुछ ठीक चल रहा था,

कुछ दिन पहले हमने कुछ नए दोस्तों से मुलाकात की और मेरी साथी अब उससे बात करने में रूचि दिखा रही है। जब हम बात करने की कोशिश करते हैं, तो उसके पास मुझसे बात करने का कोई विषय नहीं होता है। यह उसके प्रति मेरी असुरक्षा को बढ़ा रहा है। जब मैंने इस समस्या पर उससे बात करने की कोशिश की तो उसने मना कर दिया कि वह उससे बात करना बंद नहीं करेगी।

यह मुझे बुरी तरह परेशान कर रहा है! मैं अपने काम पर ध्यान केंद्रित करने में असमर्थ हूं। यहां तक कि जब हम मिलते हैं तो मैं हमेशा ऐसा महसूस करता हूं कि कुछ गलत हो रहा है … मैं उलझन में हूं। कृपया मुझे बताएं कि क्या करना है और यह सब कैसे रोकूं … कृपया इस से छुटकारा पाने में मेरी मदद करें|

मल्लिका पाठक कहती हैं:

प्रिय नौजवान,

आपके ईमेल से जो मैं समझती हूं वह यह है कि, आप दोनों वर्तमान में विवाहित हैं लेकिन आपके वर्तमान साथी तलाक लेने और एक नया जीवन शुरू करने की योजना बना रहे हैं। मैं उन परिस्थितियों से अनजान हूं जो आपको अपने विवाह के बाहर भावनात्मक आराम की तलाश करने के लिए प्रेरित करते हैं–लेकिन कभी हम अपनी भावनाओं को अन्य व्यक्ति को प्रोजेक्ट करना शुरू कर देते हैं, जिससे आप अभी कमजोर महसूस कर सकते हैं। दूसरे शब्दों में इसका मतलब है कि हो सकता है कि आपकी शादी में अविश्वासी होने की वजह से उन भावनाओं को अपने वर्तमान साथी पर प्रोजेक्ट कर रहे हैं।

आपकी वर्तमान समस्या पर आने के लिए, किसी और से बात करने के बारे में असुरक्षा क्यों? अगर वह किसी निश्चित कमर्फ्ट लेवल के साथ किसी से बात करने में सक्षम है, तो मुझे नहीं लगता कि उसके मन में उस पुरूष के लिए कोई विशेष फीलिंग्स है। क्या आपने कोई अन्य संकेत देखा है जिससे पता लगे कि उसकी उस पुरूष में रूचि है? यदि नहीं, तो मुझे लगता है कि आपको यह समझने की जरूरत है कि शायद यह सिर्फ दोस्ती हो और कुछ नहीं।

इस तथ्य के बारे में कि आप दोनों अब चर्चा करने के लिए विषयों को खोजने में असमर्थ हैं, कोशिश करें और सोचें कि क्या यह हमेशा से रहा है और इससे पहले आप इस पर ध्यान नहीं देते थे जितना ध्यान आप अभी दे रहे हैं। इसमें अंतर्दृष्टि रखने से आपको यह समझने में मदद मिल सकती है कि आप जो सोच रहे हैं क्या वह वास्तव में ऐसा कुछ है जिसके बारे में आपको चिंतित होना चाहिए।

चूंकि आपने दोनों ने अपने जीवन को एक साथ बिताने का फैसला किया है, इसलिए मैं दृढ़ता से सलाह देती हूँ कि आप दोनों बैठकर अपने भविष्य और असुरक्षाओं पर चर्चा करें। कोई भी संबंध मजबूत संचार और स्पष्टता की मौजूदगी के साथ ही बढ़ेगा। अपनी भावनाओं के बारे में उससे बात करें, और उसे सुनें। क्या गलत है इस पर ध्यान केंद्रित न करें, बल्कि यह समझने पर ध्यान दें कि आप स्थितियों को कैसे सुधार सकते हैं।

शुभकामनाएं,

मल्लिका

Hindi counselling

Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.