Hindi

जिसने मुझे धोखा दिया उस प्रेमी के लिए एक पत्र

अब जब की धोखे का पता चल गया है और इसे स्वीकार कर लिया गया है यह आगे बढ़ने का समय है। एक धोखेबाज़ के साथ किसी को दुबारा प्यार कैसे होता है?
lady-writing-a-letter

(जैसा जोई बोस को बताया गया)

डीयर,

मैं मानती हूँ कि तुमने धोखा दिया और तुम भी यह स्वीकार करते हो। और जब मैं तुम्हें अपना प्रेमी नहीं बल्कि दगाबाज़ कहती हूँ, तो तुम जानते हो कि दुख होता है। यह हमारे बीच चुप्पी को तोड़ देता है। और फिर वापस चुप्पी फैल जाती है। मैं सांस नहीं ले पाती। ना ही तुम। और हम अपने रास्ते अलग कर लेते हैं।

लेकिन क्या तुम्हें अहसास नहीं है कि एक कृत्य भले ही वह कितना भी गंभीर क्यों ना हो, एक संबंध को राख नहीं कर सकता? एक संबंध मर नहीं सकता, क्योंकि यह भौतिक सीमाओं द्वारा बंधा हुआ नहीं है। यह प्यार द्वारा पोषित है। यह खुशी द्वारा सांस लेता है। यह प्यार पर पलता है। और मैं तुमसे बस थोड़ा सा और प्यार चाहती हूँ, एक मरहम चाहती हूँ। यह शांत करता है। यह दिल की धड़कन को सुकून देता है। यह सर्दियों की रात में एक गर्म आलिंगन है।
[restrict]
ये भी पढ़े: अपने मन की बात कहने की वजह से मेरी शादी टूट गई

जब मुझे पता चला कि तुमने मुझे धोखा दिया

क्या तुम्हें याद है कि जब मुझे पता चला कि तुमने मुझे धोखा दिया तो मैंने किस तरह तुम्हारे ऊपर बोतल फैंकी? मुझे इस बात का दुख हुआ था कि तुमने किसी और में अपनापन पाया। यह कि मैं ठंडी पड़ रही थी और मेरा जोश पर्याप्त नहीं था। मैंने शीशे में देखा था। क्या मेरी झुर्रियाँ ज़्यादा स्पष्ट हो रही थीं? क्या मेरी कमर की चर्बी अब ज़्यादा ही घृणित दिख रही थीं? क्या प्यार करते समय मेरी मांसपेशियां तुम्हारा वज़न उठाने में सक्षम नहीं थीं? क्या मेरे बालों की सफेद धारियां तुम्हें रूकने को कहती थी जिस प्रकार जेब्रा क्रॉसिंग कार को रूकने के लिए कहती है?

रिश्ते गुदगुदाते हैं, रिश्ते रुलाते हैं. रिश्तों की तहों को खोलना है तो यहाँ क्लिक करें

तुम्हारी आँखों में, मैं खुद को एक रानी के रूप में देखती हूँ। तुम्हारी आँखें एक व्यापक समुद्र है और मैं हमारे प्यार के टाइटेनिक पर खड़ी लियोनार्डो डी कैप्रियो हूँ और चिल्ला रही हूँ, ‘‘मैं दुनिया का राजा हूँ…’’ और जब मुझे पता चला कि मैं इकलौती नहीं हूँ, तो मुझे लगा जैसे मेरी गद्दी छीन ली गई है। मैं नाराज़ थी। मैं अपनी हार बरदाश्त नहीं कर सकी। इसीलिए मैंने तुम पर वे सब चीज़ें फैंकी थी। तुम्हारे शब्दों ने मुझे उतनी ही चोट पहुँचाई जितनी मैटल बॉटल ने तुम्हारे चेहरे को चोट पहुंचाई और तुम्हारी त्वचा चीर कर खून बहा दिया। यह निशान तुम्हारे चेहरे पर रहेगा। यह निशान मेरे दिल में रहेगा। लेकिन अब, क्या तुम चीज़ों को दुबारा ठीक नहीं कर सकते?

ये भी पढ़े: दो विवाह और दो तलाक से मैंने ये सबक सीखे

मुझे तुमसे प्यार करने की याद आती है

मैं तुमसे प्यार करना चाहती हूँ, फिर से। मैं सोते समय तुम्हें पकड़ना चाहती हूँ। मैं तुम्हारे चेहरे पर वह आश्चर्य देखने के लिए तरसती हूँ जब मैं सोकर उठूं और तुम्हारे माथे और गालों पर किस करूं। मैं तुम्हारे होंठों को चूमते हुए कई मिनट बिताने के लिए तरसती हूँ। मैं तुम्हारे शरीर की खुश्बू के लिए तरसती हूँ। मैं उन अर्थहीन बातों के लिए तरसती हूँ जो हम किया करते थे। मैंने भी यह किसी और के साथ आज़माया है और यह समान नहीं था। यह कभी भी समान नहीं हो सकता क्योंकि दूसरा व्यक्ति तुम नहीं थे।

i-miss-u

ये भी पढ़े: “उसे मुझसे ज़्यादा मेरे पिता में दिलचस्पी थी”

मैंने अक्सर तुम्हारे साथ फिर से प्यार में पड़ने की कल्पना की है। फिर से क्यों? मुझे लगता है मैं अब भी तुमसे प्यार करती हूँ। मैं जानती हूँ मैं करती हूँ। जानते हो, मैं यह कल्पना कर रही थी कि तुम मुझे दुखी करने के बारे में बहुत बुरा महसूस करो। मैं कल्पना करती हूँ कि तुम पूरी दुनिया के सामने झुके हुए हो, तुम्हारी आँखों से आँसू बह रहे हैं और तुम माफी मांग रहे हो। और मैं भी रोती हूँ और तुम्हें अपनी बाँहों में, अपने जीवन में जगह देती हूँ।

फिर से प्यार में पड़ने के लिए, मेरे लिए यह करो

मैं चाहती हूँ कि तुम अपने किए पर पछताओ, लेकिन मैंने कभी कल्पना नहीं की कि तुम जान बूझ कर दूसरे के अधीन हो जाओगे। मैं उस लड़की को दोष देती हूँ जिसने तुम्हें लुभा लिया। फिर तुम्हें अहसास होगा कि किसी के अधीन होने का अर्थ है मेरे बिना जीवन जीना और तुम ये नहीं कर सकते। मैं अपने सपनों और दिवास्वप्नों में कोहीनूर बन गई। मैं कल्पना करती हूँ कि तुम मेरे लिए ब्राउनियां बना रहे हो। या केक बना रहे हो। और चाय बना रहे हो। और फिर तुम और मैं बात करते हैं। हम तब तक बात करते हैं जब तक रात सुबह में ना बदल जाए। और तुम्हारी आँखों में, मैं एक राजकुमारी में बदल जाती हूँ…….

तुम्हें धोखेबाज़ कहने में मुझे उससे ज़्यादा दर्द होता है जितना तुम्हें उसे सुनने में होता है। मैं फिर से तुम्हें जान कब बुला सकती हूँ? हम फिर से प्यार में कब पड़ सकते हैं? हम दोनों फिर से ‘हम’ कब बन सकते हैं? क्या तुम नहीं जानते कि मैं बस इतना ही चाहती हूँ?

प्यार के साथ,

तुम्हारी
[/restrict]

 

क्रोध में ये १० चीज़ें कभी न बोलें

जब उसके पति ने उसे प्यार सीखाने के लिए छोड़ा


Notice: Undefined variable: url in /var/www/html/wp-content/themes/hush/content-single.php on line 90
Facebook Comments

Notice: Undefined variable: contestTag in /var/www/html/wp-content/themes/hush/content-single.php on line 100

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:


Notice: Trying to get property of non-object in /var/www/html/wp-content/themes/hush/footer.php on line 95

Notice: Trying to get property of non-object in /var/www/html/wp-content/themes/hush/footer.php on line 96

Notice: Trying to get property of non-object in /var/www/html/wp-content/themes/hush/footer.php on line 97