कृष्ण द्वारा छोड़ने के बाद राधा का क्या हुआ

किवदंती हमें बताती है कि जब राधा को कृष्ण से प्यार हुआ तब वह पहले ही विवाहित थी और जब वह मथुरा चला गया तो उसका दिल टूट गया। उन्होंने एक दूसरे को फिर कभी नहीं देखा। उत्तर भारत में तो यही कहानी चलती है। लेकिन बंगाल कुछ अलग ही कहानी बताता है।

बंगाल के गांवों में, महिलाएं अयान घोष के गीत गाती है। अयान घोष कौन था? वह और कोई नहीं बल्कि राधा का उम्रदराज़ और अनुग्रहकारी पति था। कुछ लोग कहते हैं कि वह ऊन का व्यापारी था, और अपनी माँ और बहनों की देखरेख में अपनी प्यारी युवा दुल्हन को छोड़कर, अपना माल बेचने के लिए दूर दराज़ की यात्रा किया करता था।

ये भी पढ़े: ब्रह्मा और सरस्वती का असहज प्यार

एक तनहा जीवन

वे यह भी बताते हैं कि ससुराल वाले उस लड़की के प्रति कितने क्रूर और भयानक थे। किस तरह वे कभी-कभी उसे मारते भी थे और उसका बनाया हुआ सारा भोजन फैंक देते थे और कई बार फिर से उससे खाना पकवाते थे।

उसका एकमात्र स्वयं का समय तब होता था जब वह अपनी सहेलियों के साथ नदी से पानी लेने जाती थी। और ज़ाहिर है वह वहां कृष्ण से मिली। अपने जीवन में किसी भी दया से वंचित रहने के कारण, राधा को उससे प्यार हो गया।

मिलने का स्थान यमुना नदी के तट पर, नदी की नावों में, जंगल की झाड़ियों में होता था। जब भी कृष्ण अपनी मोहक बांसुरी बजाता था, राधा अपने प्यार से मिलने दौड़ी चली जाती थी।

ये भी पढ़े: गांधारी का अपनी आँखों पर पट्टी बांधने का फैसला गलत क्यों था

गॉसिप करने वाले

निश्चित रूप से उनका मज़ाक उड़ाया गया। बृन्दावन ने गॉसिप किया। और अयान की माँ और बहने द्वेश और नफरत फैलाने में उनके साथ थीं। और जब अयान उसकी एक यात्रा से वापस लौटा, उन्होंने उसे उस कुंज में भेज दिया जहां राधा और कृष्ण मिल रहे थे।

वह अपनी पत्नी के बारे में बुरा भला सुनने को तैयार नहीं था लेकिन बहनों के तानों की जांच करने के लिए कुंज में चला गया जहां उसने राधा को अपनी कुलदेवी काली माँ की पूजा करते हुए देखा। चुपचाप वह दूर चला गया और अपनी निर्दोष पत्नी के खिलाफ अपने दिमाग में ज़हर घोलने के लिए अपने परिवार को फटकार लगाई।

ये भी पढ़े: कैकेयी का बुरा होना रामायण के लिए क्यों ज़रूरी था

कृष्ण ने राधा को बचाने के लिए काली का रूप धर लिया था।

लेकिन फिर शांतीपूर्ण जीवन समाप्त हो गया और कृष्ण को मथुरा जाना पड़ा। वह उसकी बांसुरी छोड़ गया। उसने फिर कभी कोई धुन नहीं बजाई….कभी नहीं….एक शासक के रूप में उसका जीवन शुरू हो गया….राधा के जीवन में उसका अध्याय खत्म हो गया था।

लेकिन अयान? उसके टूटे हुए दिल को देखकर, अब वह किसपर विश्वास करेगा? राधा रोई और उसने अपने पति से कुछ नहीं छुपाया। उसने उसे सबकुछ बता दिया। और अयान की माँ ने ज़ोर देकर कहा कि वह अपनी धोखा देने वाली पत्नी को छोड़ दे और दुबारा शादी कर ले।

radha with friends
बृन्दावन ने गॉसिप किया

प्यार का मतलब है स्वीकृति

उसने ऐसा नहीं किया। अयान ने उसकी बहनों और माँ को दूसरे गांव में भेज दिया। राधा और उसने साथ में एक नया जीवन शुरू किया। और गॉसिप खत्म हो गया।

अपने नए घर में राधा के लिए सम्मान था। अयान ने इतनी यात्रा करना बंद कर दिया था और अपनी पत्नी को प्यार से सरोबर कर दिया। घर में हंसी थी, गाने थे…और कुछ समय बाद बच्चों की चटर पटर।

ये भी पढ़े: एक मंदिर जो स्त्री की प्रजनन शक्ति को पूजता है

क्या अयान घोष को बुरा नहीं लगा कि उसकी पत्नी ने उसे धोखा दिया था? क्या उसे कोई परवाह नहीं थी कि हर कोई जानता था कि वह व्यभिचारी का पति था?

शायद उसे फर्क पड़ता था।

लेकिन वह एक इंसान था।

और कहानी कहती थी कि उसकी पत्नी को एक भगवान ने प्यार किया था। जो उसे बिखरा हुआ छोड़ कर चला गया। और वह अपने पति के पास लौट आई।

शायद अयान को कुछ समय के लिए बुरा लगा। लेकिन उसे अपनी पत्नी की ज़्यादा परवाह थी और उसके लिए यह महत्त्वपूर्ण था कि उसकी पत्नी उसके साथ अपने जीवन के बिखरे टुकड़ों को फिर से जोड़ ले।रिश्ते बनाना मुश्किल है, उन्हें बनाए रखना और भी मुश्किल

ये भी पढ़े: दुर्योधन की बेटी होकर भी इस राजकुमारी का जीवन दुखमय रहा

एक रिश्ते का पुनर्जन्म हुआ

गांव में राधा की स्थिति बहाल हो गई थी और अयान ने उसे दोष नहीं दिया बल्कि कोमलता और प्यार के साथ सब कुछ स्वीकार कर लिया।

और अपने पति के प्रति इस नई भावना ने राधा को फिर से परिपूर्ण कर दिया…

उत्तर भारत कहता है कि कृष्ण के जाने के बाद राधा ने आत्महत्या कर ली थी। लेकिन बंगाल में यह अस्पष्ट क्षेत्र है। यहां वे कहते हैं कि राधा को अयान के साथ खुशी मिल गई। और वह जीवित रही।

वह अपनी पत्नी से कितना ज़्यादा प्यार करता होगा…कि वह उसे पूरी तरह समझ पाया। इसलिए राधा के जीवन में बांसुरी का संगीत कभी खत्म नहीं हुआ…

कन्नकी, वह स्त्री जिसने अपने पति की मृत्यु का बदला लेने के लिए एक शहर को जला दिया

तुम्हीं मुझे सबसे ज़्यादा परिभाषित करती होः द्रौपदी के लिए कर्ण का प्रेम पत्र

प्रेम संबंध मेरी सेक्स रहित शादी को बचाने में मेरी मदद करता है।

Spread the love
Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.