Hindi

क्या आप एक संयुक्त परिवार में रहने जा रहे हैं? यहाँ कुछ अप्रत्याशित सुख हैं जिनकी उम्मीद एक जोड़ा कर सकता है।

नव-विवाहितों के लिए जो संयुक्त परिवार में फँसने की चिंता करते हैं, यहाँ कुछ अप्रत्याशित सुख हैं जिनका आप निश्चित तौर पर आनंद लें सकते हैं।
Vivaah movie

एक संयुक्त परिवार में जीवन

एक संयुक्त परिवार में रहना ज्यादातर लोगों को एक दुःस्वप्न की तरह लगता है। हालांकि, भारत में कई लोगों के लिए यह अभी भी एक वास्तविकता है। ऐसे मामले में हम क्या करते हैं? क्या हम कभी भी मन की शांति प्राप्त किए बिना जीवित रहते हैं? क्या हम दूसरों के लिए हमारी निजता का त्याग करते हैं? क्या हमारे लिए कभी यौन जीवन नहीं होगा? सच्चाई इस सब से दूर है।

एक संयुक्त परिवार में बड़े होने का मतलब यह है कि मैं इसे पसंद भी करती हूँ और इससे नफरत भी करती हूँ। संयुक्त परिवार जो खुदबुदाहट बनाता है, वास्तव में क्लॉस्ट्रोफोबिक हो सकती है, लेकिन यह वह जगह भी है जहां से सामान्य सुख निकलते हैं

नव-विवाहितों के लिए जो संयुक्त परिवार में फँसने की चिंता करते हैं, यहाँ कुछ अप्रत्याशित सुख हैं जिनका आप निश्चित तौर पर आनंद लें सकते हैं।

1. एक गुणवत्तापूर्ण यौन जीवन

एक संयुक्त परिवार में यौन जीवन रखना मुश्किल है जिसकी वजह से आपको प्राप्त हुए थोड़े क्षण भी बेहतर बन जाते हैं। मैंने कई लोगों को जानती हूं जिन्होंने चुप्पी में सेक्स करते हुए घंटों बिताए हैं क्योंकि उन्हें छोटे कोनों की खुशी पसंद है।

याद रखें, आपके साथी पर सलाह की बरसात की जाएगी और आप पर भी, इसलिए सेक्स अक्सर एक अनैतिक कर्तव्य की बजाय एक मजेदार काम में बदल जाता है। जब वे बिस्तर पर आते हैं तो हर रात साझा करने के लिए बहुत सारे अनुभव होते हैं और वे पूरी तरह सिर्फ आपके होते हैं।

सही पल में हल्का सा चुंबन कभी-कभी एक विशाल महल में घबराहट भरे सेक्स संबंध से अधिक मायने रखता है।

Image source

2. आपकी देखभाल करने के लिए सबसे अच्छे लोग

बचपन में जीवन के सबसे सरल सुखों में से एक, चिकन सूप था जो मेरे बिमार पड़ने पर मेरी मामी मेरे लिए बनाती थी। संयुक्त परिवार एक साथ रहते हैं, इसलिए, यदि आपको फ्लू है और दुनिया खराब होती दिख रही है, तो आपके पास बात करने के लिए हमेशा कुछ रिश्तेदार होंगे जो आपके लिए उपहार भी लाएंगे।

संयुक्त परिवारों का यह भी अर्थ है कि आप कमजोर महसूस करते समय अपने आस-पास रहने के लिए बच्चों को सर्वश्रेष्ठ चॉकलेट और मिठाई के साथ रिश्वत दे सकते हैं। गौरतलब है, यहाँ तक कि अकेले रहने के दौरान भी, मुझे बीमार पड़ने से नफरत थी क्योंकि मुझे तब नर्सों की मदद नहीं मिलती थी।

3. रसोई में किस

मुझे पता है, मुझे पता है, ऋतिक रोशन ने इसे एक विज्ञापन में किया था। बचपन में, मेरी पसंदीदा यादों में से एक यह थी कि जब मेरे चाचा ऑफिस से वापस आते तो रसोई घर में घुस जाते और अपनी पत्नी से किस चुरा लेते थे। यह मेरे लिए सच्चे प्यार जैसा दिखता था।
अपने लव्ड वन द्वारा “ई दुष्टु“ सुनने से ज्यादा आनंददायक कुछ नहीं होता जब आप किचन में जाते हैं और अपनी माँ से छुपकर उसे किस कर लेते हैं, या जब ससुरजी के सोने जाते ही एक किस चुरा लेते हैं।

रिश्ते बनाना मुश्किल है, उन्हें बनाए रखना और भी मुश्किल

4. भोजन

टेलीविजन श्रृंखला हर भयंकर सास को दिखाती है जो चाहती है कि आप ही खाना पकाएं। संयुक्त परिवारों में ऐसा नहीं है। अधिकांशतः, आप शायद अपने सभी अलग-अलग रिश्तेदारों द्वारा तैयार किए जाने वाले दिन में पांच प्रकार के व्यंजनों का लुत्फ उठाएंगे, भले ही आप बस आराम करना चाहते हों।

इसके अलावा, संयुक्त किचन में बहुत आसानी के कारण खाना बनाने में बहुत मजा आता है। जब आप बाथरूम में जाते हैं तो आपको ओवन को देखने की ज़रूरत नहीं होती है, अधिकांश दिनों में आपको बेड टी और नाश्ते के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं होती।

Mother in law with daughter in law
Image source

5. चारों ओर प्यार

चाहे आपकी ननद हर रात 7 बजे के आस-पास आपके साथ अपनी पसंदीदा सीरीज़ देखने के लिए आए और शिकायत करे कि आपका पति कितना बेवकूफ है, या जब आप थोड़ी सी फिसल जाती हैं तो आपके ससुरजी अत्यधिक सुरक्षात्मक जाते हैं, संयुक्त परिवार देखभाल में ढले होते हैं। प्यार रिश्तों को टिकाउ बनाता है। मेरी बात पर यकीन नहीं? संयुक्त परिवारों में रहते हुए स्वर्ण सालगिरह मनाने वाले हुए कई जोड़ों से पूछें। यह तथ्य हम जैसे अलग-थलग रहने वाले लोगों के लिए वरदान है कि आपके पास हमेशा रोने के लिए एक कंधा होता है और जब आप बड़बड़ा रहे हों तब आपकी बात सुनने वाला कोई होता है।

संयुक्त परिवार को संभालना सबसे आसान नहीं हो सकता है, लेकिन जब आप इस पर विचार करते हैं तो वे पूर्ण आनंद का स्रोत हो सकते हैं। तो, आगे बढ़ें, डुबकी लें, हो सकता है कि आपके पास सबसे सुनहरा प्रेम जीवन न हो, लेकिन, आपका मज़े करना निश्चित है।


Notice: Undefined variable: url in /var/www/html/wp-content/themes/hush/content-single.php on line 90
Facebook Comments

Notice: Undefined variable: contestTag in /var/www/html/wp-content/themes/hush/content-single.php on line 100

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:


Notice: Trying to get property of non-object in /var/www/html/wp-content/themes/hush/footer.php on line 95

Notice: Trying to get property of non-object in /var/www/html/wp-content/themes/hush/footer.php on line 96

Notice: Trying to get property of non-object in /var/www/html/wp-content/themes/hush/footer.php on line 97