क्या स्त्रियों के लिए सेक्स एक दैनिक कार्य जैसा है?

पुरूष अपेक्षा करते हैं कि स्त्रियाँ उनकी यौन/कामुक प्रकृति को एक झटके में बदल सकती हैं। वास्तविकता यह है कि सही स्थिति और वातावारण आवश्यक है ताकि स्त्री सेक्स के प्रस्ताव पर प्रतिक्रिया दे सके।

हाल ही में, मेरे पास एक जोड़ा आया जो एक वर्ष से विवाहित था। यह एक अरेंज मैरिज थी और जोड़ा गांधीनगर में संयुक्त परिवार में रहता था। पत्नी अहमदाबाद में नौकरी करती है जो एक घंटे की दूरी पर है। उसे घर पर भी काम करना होता है, साथ ही फिल्म देखने जाने आदि को लेकर रोक-टोक भी है और उसे घर में घूंघट भी पहनना पड़ता है, जो उसे कठिन लगता है। उसका पति एक कॉल सेंटर में रात की पारी में काम करता है और उसे कोई नहीं कहता कि उसे क्या करना है और क्या नहीं। वह अपनी मां के घर लौट गई है जहां उसका पति तीन महीनों से उससे मिलने जा रहा है, जबकि वह वापस जाना नहीं चाहती। पति शिकायत करता है कि पत्नी उसे फोरप्ले तक नहीं करने देती; क्योंकि वह हमेशा थकी हुई होती है। मैंने उसे कहा कि अपनी पत्नी से नौकरी छोड़ने को कहो, लेकिन शायद वह भी पैसे चाहता है।

ये भी पढ़े: सेक्स तब और अब


कई संयुक्त परिवारों में, सामान्य दैनिक घरेलू कामकाज करने के लिए पत्नी को सुबह जल्दी उठना पड़ता है। साथ ही, कई घरों में सास और बहू के बीच कम से कम थोड़ा तनाव तो रहता ही है।

हालांकि पति अपेक्षा करता है कि चाहे पत्नी की मनोदशा कैसी भी हो, वह उसके साथ सेक्स करे। इस प्रकार की अपेक्षा के साथ, ज़ाहिर है कि बिस्तर में बिल्कुल भी संतुष्टि नहीं मिलने वाली। अंततः स्त्रियाँ यह महसूस करने लगती हैं कि सेक्स एक काम है जो उन्हें किसी तरह पूरा करना है।

सेक्स ना करने के स्त्री कारकों में योनी संकुचन शामिल है – जब भी वे यौन संबंध बनाने की कोशिश करते हैं, योनि की मांसपेशियों में ऐंठन आ जाती है जिसके कारण प्रवेश नहीं हो पाता। पहला स्थान जहां जोड़े जाते हैं वह है स्त्री रोग विशेषज्ञ, जो सलाह देते हैं कि पत्नी को सर्जरी की आवश्यकता है। लेकिन वास्तविकता यह है कि अंगसंकोच मनोवैज्ञानिक होता है – किसी सर्जरी की आवश्यकता नहीं है। याद रखा जाना चाहिए कि योनि ही वह अंग है जिसके द्वारा स्त्री सेक्स करती है, मासिक धर्म से गुज़रती है और एक बच्चे को जन्म देती है।

सेक्स ना करने के स्त्री कारकों में योनी संकुचन शामिल है
सेक्स ना करने के स्त्री कारकों में योनी संकुचन शामिल है


ये भी पढ़े: पूर्वनिर्धारित अंतरंगता भी संतोषप्रद हो सकती है

कोई भी व्यक्ति जो इन 4 बातों से संबद्ध है – धूम्रपान (किसी भी रूप में तंबाकू), स्कॉच (किसी भी प्रकार की शराब), जीवन में तनाव और शकर (मधुमेह रोग) उसके पास सेक्स के लिए कोई समय शेष नहीं है। -डॉ. पारस शाह, मुख्य सेक्सोलॉजिस्ट, गुजरात रीसर्च एंड मैडिकल इंस्टीट्यूट और निर्देशक, सानिध्य इंस्टीट्यूट एंड रीसर्च सेंटर फॉर सेक्स, सेक्सुआलिटी एंड हेल्थ

रिश्ते बनाना मुश्किल है, उन्हें बनाए रखना और भी मुश्किल

Tअपने विवाह में जोश बरकरार रखने के लिए आपको अपने साथी को गुणवत्ता वाला समय देने की आवश्यकता है। पत्नियां मुझसे हर समय शिकायत करती हैं कि उनके पति के पास बिल्कुल समय या इच्छा नहीं है कि वह उसके नए कपड़े देखे, या उसकी प्रशंसा करें, लोगों के सामने उसका हाथ पकड़े या फिर उसके प्रति खुल कर अपना प्यार जताए। मैं पतियों को सलाह देता हूँ कि कम से कम दोपहर में अपनी पत्नी को फोन करें, उन्हें बताएं कि वे उन्हें कितना प्यार करते हैं, साथ में फिल्म देखने जाएं और कम से कम एक ड्रिंक या पॉपकॉर्न ज़रूर खाएं। मैं जोड़ों के, मोबाइल के विकर्षण के बगैर, कम से कम 15 मिनट के लिए, साथ में सैर के लिए जाने का पूरी तरह समर्थन करता हूँ। यौन समागम करने का प्रयास करने से पहले सही माहौल बनाया जाना चाहिए, यदि जोड़ा एक संतुष्टिदायक अनुभव चाहता है।

अपने विवाह में जोश बरकरार रखने के लिए आपको अपने साथी को गुणवत्ता वाला समय देने की आवश्यकता है
अपने विवाह में जोश बरकरार रखने के लिए आपको अपने साथी को गुणवत्ता वाला समय देने की आवश्यकता है


(जैसा रक्षा भराड़िया को बताया गया)

क्या विवाह सेक्स के आनंद को खत्म कर देता है?

पूर्वनिर्धारित अंतरंगता भी संतोषप्रद हो सकती है

Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.