Hindi

क्यों पति पत्नी का अलग कमरों में सोना अच्छी सलाह है

ये एक नयी विचारधारा है और अधिकतर लोग इसे बेमानी मानते हैं. मगर जो कुछ लोग इसके साथ हैं, इसका पुरजोर समर्थन करते हैं…
young-woman-sleeping-in-bed

एक दम्पति के लिए अलग अलग कमरों में सोने का सुझाव कई लोगो को काफी आश्चर्य में डाल सकता है. ज़्यादातर लोगों ने तो शायद इसके बारे में कभी सोचा भी नहीं होगा और कुछेक ने अगर ऐसा कुछ सोचा होगा तो उसी समय उस विचार को छिटक दिया होगा. यूँ तो अधिकतर पति पत्नी अलग बैडरूम के विचार मात्र को बहुत बेढंगा मानते है, सच पूछिए तो मैं हमेशा ही इस आईडिया की वकालत करता आया हूँ. अगर उनकी आर्थिक स्तिथि उन्हें अलग अलग कमरों की आज़ादी देती है, तो दम्पतियों को इस बारे में ज़रूर सोचना चाहिए.

ये भी पढ़े: जब उसके पति ने उसे प्यार सीखाने के लिए छोड़ा

धीरे धीरे ये डर की अलग अलग कमरों में सोने से उनके बीच का जुड़ाव कम हो जायेगा, ये भ्रम अब उड़ रहा है. हाल में किये गए एक सर्वे के मुताबिक आजकल हर पांच में से एक दम्पति अपने अलग बैडरूम में सोना पसंद करते हैं. ऐसा करने से उनका काम और पारिवारिक जीवन का संतुलन बना रहता है. पुराने ज़माने में भी हिन्दू जीवन में आश्रम एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण भाग था एक व्यक्ति के जीवन का और पति पत्नी को साथ रहने के लिए भी एक अंतराल ही निश्चित था. चलिए, ज़रा गौर से देखे की आखिर क्यों अलग कमरों में रहना दम्पतियों के लिए अच्छी सलाह है.

1. एक अच्छी नींद से बड़ी कोई चीज़ नहीं

आज के भागते दौड़ते दिन अक्सर हमारी रातों की नींद उड़ा देते हैं. और इतनी तनावपूर्ण ज़िन्दगी में एक अच्छी नींद हमारी शारीरिक और मानसिक स्वस्थ्य के लिए बहुत अनिवार्य है. अगर आप अच्छे से सोते हो तो आप चुस्त और खुश उठते हो. यह स्फूर्ति और ताज़गी आपके लिए बहुत ज़रूरी है. मगर आपका साथी अगर रात को बार बार करवटें बदलता है, चादर खींच लेता है, या खुर्राटे लेता है, तो एक गहरी नींद तो सपने में ही मुमकिन है. और तब क्या करें जब साथी को नींद में बोलने की बीमारी हो? आप रात को आधी अधूरी नींद में सोयेंगे तो सारा दिन चिड़चिड़े और थके हुए ही रहेंगे.

lady-sleeping-peacefully
Image Source

ये भी पढ़े: क्या सिखाते हैं देवी-देवता हमें दांपत्य जीवन के बारे में

2.सफाई और स्वस्थ्य हमारा निजी मामला है

किसी दयालू और सहनशील महिला से कभी आपने उसे पति की व्हिस्की वाली डकारों के बारे में पुछा है या फिर उस धुएं के बारे में जो कमरे में फ़ैल जाती है जब वो सोने आता है. हो सकता है पति से पूछे तो वो भी शुरू हो जाये पत्नी के अजीब सी खुशबु वाली क्रीम या से. इसके अलावा आप सर्दी खांसी या कोई और इन्फेक्शन बहुत जल्दी पकड़ सकते हैं अगर आप एक ही रूम में सोते हैं.

3. कुछ भी “बहुत ज़्यादा” अच्छा नहीं

याद कीजिये जब आपके घर कोई मेहमान आया था. आप उससे कितनी शिद्दत से मिले थे, उसकी खातिरदारी की थी मगर दो तीन होते होते आपका प्यार काफूर होने लगा. सोचिये उस बेचारे अतिथि के लिए जब दो दिन ही काफी थे तो आप दोनों के बीच का प्यार इतने सालों में कुछ तो धूमिल हो सकता है न. विश्वास कीजिये, दो अलग बिस्तर ही कभी कभी काफी हैं एक दुसरे के बीच के प्यार को बढ़ाने के लिए.

4. कुछ दूरियां पास लाती हैं

जब भी पति पत्नी थोड़े दिन को अलग होते हैं, उनका मिलान बहुत सुखद होता है. दोनों के बीच एक नयी चाह और आतुरता होती है एक दुसरे से मिलने की. ज़्यादा न मिलने पर साथी कहीं ज़्यादा सेक्सी और वांछित हो जाता है.

ये भी पढ़े: उसकी भावनाओं को चोट पहुचाए बिना बिस्तर में ना करने के 5 उपाय

5. शांत वातावरण आपको भी नयी ऊर्जा देता है

अपने साथ अकेले समय बिताना उतना ही सुखद अनुभव होता है जितना खुद को तब खुजलाना जब आपको कोई देख न रहा हो. कभी कभी ये विचार की आपको किसी की चिंता करने की ज़रुरत नहीं और इस समय कोई आपकी भी चिंता नहीं कर रहा है–यह एक बहुत ही सुकून देने वाला भाव है. वर्ना आप ही सोचिये की क्यों नयी नवेली दुल्हन अपने मायके जाने के लिए इतनी उत्सुक होती है. शान्ति से बेफिक्र हो कर सोना उनके लिए बहुत ही लाभदायक होता है. ठीक ऐसे ही जब पति पत्नी अलग अलग सो कर अगली सुबह मिलते है तो एक दुसरे के साथ का मान और स्वाद और बढ़ जाता है.

happy-lady-at-hil
Image Source

6.सेक्स न करने के बहाने बनाने की ज़रूरत नहीं

एक दम्पति के जीवन में शारीरिक सम्बन्ध बहुत मायने रखता है. लेकिन अगर एक बहुत थकान भरे दिन के बाद एक साथी सेक्स चाहे और दूसरा आनाकानी करे, तो स्तिथि अक्सर थोड़ी कड़वी हो जाती है. अलग अलग कमरों में सोने से कम से कम बहाने और ज़ोर ज़बरदस्ती से दोनों ही साथी बच सकते हैं. मगर हाँ, यहाँ में बता दूँ की शायद अलग सोने से सेक्स काफी कम भी हो जाये क्योंकि कई बार छोटे छोटे कदम लेते हुए ही दम्पति “मूड” में आते हैं.

7. दूरियां विश्वास भी बढ़ाती हैं

अगर आप अपने साथी की एक एक हरकत नहीं देख पा रहे तो कई फ़िज़ूल के सवालों और उत्सुकता से आप खुद भी बचेंगे और साथी भी. अगर आप दो अलग कमरों में हो तो बार बार एक दुसरे के फ़ोन या मैसेज नहीं देख सकते और ये आप का अपने साथी पर विश्वास और बढ़ाएगा. हमें ये बताने की ज़रुरत नहीं की विश्वास किसी भी रिश्ते में, खासकर इस रिश्ते, में कितना अनिवार्य होता है.

ये भी पढ़े: उसने मेरे माथे को चूमा और मैं फिर से जी उठी

couple-hug
Image Source

8. शारीरिक आराम मानसिक शान्ति का अभिन्न अंग है

हम चाहे ट्रैन का सफर करें, चाहे फ्लाइट का, चाहे ऑफिस ख़रीदा या घर, हर जगह हम ज़्यादा जगह ही ढूंढते हैं. इससे सिर्फ आराम ही नहीं मिलता बल्कि एक ख़ुशी का भी अनुभव होता है. अपने रूम में सोने से आप बेफिक्र होते है, कोई आलोचना नहीं होती की आपकी ये आदत कैसी है और वो कैसी है. किसी के साथ कम्बल के लिए रस्साकशी करने की ज़रुरत नहीं, बिस्तर से धम्म से गिर जायो तो चोट के साथ शर्म छुपाने की कोई ज़रुरत नहीं होती. बिस्तर के जिस कोने पर सोना है, सो जाओ, जिधर से उठना है उठो.

मेरा तो मांनना है की जल्दी ही घर बेचने वालों को अपने घर ये कह कर बेचने चाहिए –“इन घरों में दो बैडरूम हैं, एक आपका और एक आपके साथी का”

जब आप विवाह में सुखी हों और किसी और से प्यार हो जाए

विवाहित लोगों द्वारा 11 कथन जो बताते हैं कि उन्होंने सेक्स करना क्यों समाप्त कर दिया

Published in Hindi
Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *