Hindi

लिव-इन संबंध…केरल के संबंधम विवाहों का एक विस्तार?

समारोह साधारण था, और संबंध किसी भी अन्य संबंध से अलग था
kerela

वह साधारण सा मुंडु सेट पहने हुए थी और सफेद चमेली के फूल उसकी लंबी चोटी को सुशोभित कर रहे थे – जो उसके द्वारा पहना गया एकमात्र आभूषण था, एक मोटी सोने की चैन के अलावा। और मेरी युवा आँखों को वह प्यारी लग रही थी। जैसी सुंदर दुल्हन वह थी। दूल्हे के लिए, मैं कहना चाहूंगी कि मैं थोड़ी निराश थी। वह कहीं अधिक उम्र का दिख रहा था। ऐसे किसी के लिए जिसने रोमांस की बारीकियों को समझना शुरू ही किया था, यह निरूत्साहित करने वाला था कि दूल्हा कहीं से कहीं तक मिल्स एंड बून्स रोमांस, जो मैं अपनी माँ से छुपकर पढ़ा करती थी के नायकों जैसा नहीं था। और मैं हैरान थी कि वह शादी के लिए सहमत कैसे हो गई थी। लेकिन वह संकोची और शर्मीली थी। वह मधूर और परवाह करने वाला था। जिस विनम्रता के साथ वह उसका दुलार करते हुए बात करता था और उत्तर में कैसे वह शर्म से लाल हो जाया करती थी यह देखकर किसी को भी यकीन हो सकता था कि यह जोड़ा ईश्वर द्वारा बनाया गया है। और इस तरह वह अगले कुछ दिनों के लिए वहां था और शायद अगले 20 वर्षों तक वह दुल्हन के घर आता रहेगा।

कई वर्षों बाद और कई शादियां देखने के बाद मुझे अहसास हुआ कि उस शादी में ना केवल नाच-गाना-संगीत-मेहंदी आजकल की अन्य शादियों से भिन्न थे, बल्कि उसके बाद जो हुआ वह भी।

ना कोई बिदाई हुई; ना साथ में घर सजाना, और इससे भी महत्त्वपूर्ण, कोई एकल सास-ससुर नहीं, जैसा आजकल हम उन्हें कहते हैं।

इस जोड़े का साथ में आना जैसे एक अन्य समय, अन्य युग का था।

ये भी पढ़े: प्रेमी से कम, दोस्त से ज़्यादा

सदियों से, नायर- केरल के सामरिक उच्चपद के लोगों ने विवाह की एक ऐसी प्रणाली का पालन किया है जो संबंधम नाम की एक व्यवस्था से विकसित हुई है। एक ज्योतिषी तिथि तय करता है और उस दिन दुल्हा अपने कुछ ममेरे पुरूष संबंधियों के साथ, दुल्हन के घर पहुंचता है। वह सजे-धजे मंडप के नीचे बैठता है जब प्रौढ स्त्रियां शंख और नागस्वरम की आवाज़ के साथ दुल्हन को लाती हैं। नीयत समय पर, वह सोने की बोर्डर वाले दो वस्त्र दुल्हन को सौंपेगा और बदले में दुल्हन उसे सुपारी के पत्ते और सुपारी युक्त अथंबुलम देगी। मिलन को दृढ करने के लिए बस इतनी ही चीज़ों की आवश्यकता थी।

BONOBOLOGY

ना कोई पुजारी, ना मंगलसूत्र, ना अंगूठियों का आदान-प्रदान और निश्चित रूप से मंत्रों का जाप भी नहीं। सुनहरे और काले रंग का एक अलंकृत ड्रम जो चावल और केले के पुष्पों से भरा होता था, जिसे बहुत महत्त्व प्राप्त है, उसके पास जलता एक दीपक (आज भी सभी नायर विवाह समान प्रकृति के होते हैं, बस अंगूठी और मंगलसूत्र के साथ)। उसके बाद हमेशा एक भव्य दावत होती थी – साध्य। और चूंकी सभी लड़कियां की शादी ऊंचे घर में करना आवश्यक था, नायर परिवार जितना अधिक प्रमुख या जाति में उच्चतर होता था, वे ब्राह्मण या नम्पूथिरी से शादी करते थे (जाति में नायर से ऊंचे) और वह अधिकांशतय, ब्राह्मण या नम्पूथिरी पुरूषों की दूसरी या तीसरी पत्नी बन जाती थी जिनकी स्वयं की जाति की एक या दो पत्नी और बच्चे पहले से ही होते थे।

ये भी पढ़े: यह जानकर मैं निराश हो गई की मेरे पति का कोई विवाहेतर संबंध नहीं था

और उस दिन मैंने यह देखा – मैं तब 12 या 13 वर्ष की रही होऊंगी -तब मैंने अपनी मम्मी की मौसी का संबंधम देखा। लेकिन यह ऐसा संबंधम था जो पहले की तुलना में अधिक नियमित और स्थायी किया जाने के लिए समय के साथ विकसित हुआ था, क्योंकि मेरी मम्मी की मौसी ने कई बच्चों को जन्म दिया जो मातृभावी प्रणाली के तहत उनके घर में बड़े हुए, जबकि उनके पति (अपनी पहली पत्नी और बच्चों को घर पर छोड़कर) अक्सर वहां आया करते थे। यह सब बहुत सभ्य था और यहां तक कि कभी-कभी वे सभी लोग मिला करते थे।

संबंधम विवाह अनुबंधात्मक होते थे और किसी भी पक्ष को पीड़ित किए बगैर इच्छानुसार भंग किए जा सकते थे।

वे काफी व्यवस्थित थे, क्योंकि दुल्हन के लिए कुछ रीति रिवाज होते थे, जिन्हें त्यागना जाति से बहिष्कृत होने का कारण बन सकता था।

आजकल लिव-इन संबंध में जोड़े संभवतः प्राचीनकाल के संबंधम का ही पालन कर रहे हैं लेकिन एक संयुक्त परिवार या समारोह के लाभ और हानि के बिना। क्या आप सहमत हैं?

भारत में लिव-इन संबंध में रहने की चुनौतियां

मैं एक वेश्या के पास क्यों गया

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No