Hindi

महिलाएं अब्यूसिव संबंधों में क्यों रहती हैं?

एक अब्यूसिव संबंध का समाधान बाहरी व्यक्ति के लिए बहुत आसान लग सकता है, लेकिन संबंध में शामिल किसी व्यक्ति के लिए वास्तविकता पूरी तरह अलग होती है।

जब हम सुनते हैं कि कोई स्त्री अब्यूसिव संबंध में है, तो हमारे दिमाग में पहली बात यह आती है कि वह इसे छोड़ क्यों नहीं देती? वह अब्यूसिव संबंध में क्यों रूकी हुई है? अगर आप भाग्यशाली हैं कि आप किसी अब्यूसिव संबंध में नहीं रहे हैं, तो पीड़ित पर सवाल उठाना आपके लिए आसान हो सकता है। लेकिन वास्तविकता काफी अलग है। यह कहना बहुत आसान है कि अब्यूसिव संबंध या नियंत्रण करने वाले साथी को छोड़ दिया जाए लेकिन करना मुश्किल है, और हम आपको बताएंगे कि क्यों।

ये भी पढ़े: क्या प्यार हमें सहमति को नज़रंदाज़ करने की अनुमति देता है, नहीं, भले ही बॉलिवुड ऐसा कहे!

जोड़े का संबंध यिन और येंग की तरह होता है जो दोनों व्यक्तियों में अच्छाई और बुराई को खूबसूरती से स्वीकार करते हैं और एक परिपूर्ण जीवन के लिए संतुलन प्राप्त करने के लिए उन्हें प्रेरित करते हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि यह हमेशा जोड़े के लिए एक सुखी चिन्ह रहेगा। अन्य रिश्तों की तरह, यह जोड़ा भी अच्छे और बुरे समय, समझौतों और बहसों आदि से गुज़रता है। लेकिन, जैसा कि यिन और येंग की अवधारणा बताती है, एक स्वस्थ जोड़ा इन सभी मतभेदों में भी खुशी महसूस करता है और जीवन में तारतम्य और पूर्णता की भावना का आनंद लेता है। यह तब होता है जब साझेदार स्वस्थ संबंधों पर पारस्परिक रूप से काम करते हैं।

यह स्वस्थ और परिपूर्ण समीकरण एक रिश्ते में गायब होता है जहां विवाह को बनाए रखने का बोझ केवल एक साथी पर होता है। उन पर एक अपमानजनक रिश्ते में रहने का दबाव डाला जाता है। शोध बताते हैं कि अब्यूसिव संबंध हर किसी को प्रभावित कर सकता है भले ही वह पुरूष हो या स्त्री हो। वे दोनों अपने संघर्ष और परेशानियां किसी को बताए बिना चुपचाप पीड़ा झेलते रहते हैं। चुपचाप इन पीड़ाओं को झेलने के पीछे कई कारण हैं, जिन्हें हम आगे एक्सप्लोर करेंगे। लेकिन, ऐसा करने से पहले, आइये हम अब्यूसिव संबंध के बारे में गहराई से जानते हैं और यह भी कि महिलाएं इसकी प्रवृत्त क्यों हैं।

अब्यूसिव संबंध क्या हैं?

अब्यूसिव संबंध को वर्तमान अंतरंग साथी के विरूद्ध भावनात्मक, वित्तीय, शारीरिक और यौन व्यवहार के पैटर्न द्वारा परिभाषित किया जाता है। आमतौर पर यह अशिष्ठ वास्तविकता विवाह के बाद या पार्टनर के साथ रहते हुए एक महिला द्वारा अनुभव की जाती है। ये छोटी घटनाओं से शुरू होता है जो धीरे-धीरे बड़ी होती जाती हैं और भावनात्मक रूप से, शारीरिक रूप से, मानसिक और वित्तीय रूप से एक महिला को प्रभावित करती हैं। ऐसे कई तरीके हैं जिनमें एक महिला को घर में पुरूषों द्वारा अनादर दिखाया जाता है। गैसलाइटिंग, मैन्सप्लेटिंग, मौखिक ताने, परिवार के लिए उसपर करीयर छोड़ने का दबाव बनाना कुछ अब्यूसिव पैटर्न हैं जो महिला उसके साथी के साथ अनुभव करती है। महिलाओं की यह पीड़ा कई बार परिवार और दोस्तों द्वारा नहीं देखी जाती क्योंकि वह चुप रहने का विकल्प चुनती है।

ये भी पढ़े: वो मुझे मारता था और फिर माफ़ी मांगता था–मैं इस चक्र में फंस गई थी

लेकिन आप सोच सकते हैं कि एक आधुनिक, शिक्षित कैरियर उन्मुख महिला क्यों चुप्पी में पीड़ा झेलने वाले इस जीवन का चयन करती है । उसके मन में जटिल गतिशीलताएं शामिल हैं जो उसे एक रिश्ते में बने रहने पर मजबूर करती हैं और उसे नुकसान पहुंचाती हैं। आइये हम संभावित कारणों का पता लगाएं कि वह अपमानजनक अनुभवों की श्रृंखला के बावजूद एक रिश्ते या विवाह में क्यों टिकी रहती है।

महिलाएं अब्यूसिव रिश्तों में क्यों टिकी रहती है?

महिलाओं के अब्यूसिव रिश्तों में टिके रहने के कारणों का विश्लेषण करने से पहले हमें उनके भावनात्मक स्वभाव को समझने की ज़रूरत है। भावनात्मक रूप से वायर्ड महिलाओं की तुलना में पुरूष ज़्यादा प्रेक्टिकल होते हैं। जब उन्हें लगता है कि उन्हें अपने सपनों का राजकुमार मिल गया है, तो वे रोमांटिक मिलन के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हो जाती हैं। एक अब्यूसिव बॉयफ्रैंड को यह स्वभाव सुविधाजनक लगता है ताकि वे उस महिला को अपनी इच्छाओं के अनुसार मोल्ड कर ले। उम्मीद के अनुसार, महिला अपने जीवन, स्वभाव में थोड़े समझौते करने लगती है और अपने कैरियर लक्ष्यों को आगे बढ़ाने से भी बचती है।

अगला स्तर विवाह है, जो एक आदमी के मुकाबले एक महिला से अलग प्रतिबद्धता चाहता है। अपने कम्फर्ट ज़ोन और जीवन की सभी विलासिताओं को छोड़ने के बाद, वह एक विवाहित महिला के रूप में चुनौतीपूर्ण जीवन का नेतृत्व करने, नए घर में समायोजन करने और अपने ससुराल वालों की गतिशीलता को संतुलित करने का विकल्प चुनती है। यह एक दोषपूर्ण अवधारणा है जहां कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह कितनी सक्षम या स्वतंत्र है, उससे हमेशा उम्मीद होती है कि वह शादी को बनाए रखे। आदर्श रूप में, यह पति पत्नी दोनों पर समान रूप से लागू होना चाहिए, लेकिन उम्मीदें हमेशा एक विवाहित स्त्री से ही अधिक होती है।

इसके अलावा, एक महिला के लिए अब्यूसिव विवाह या प्रेम संबंध में रहने के क्या कारण हैं? सामाजिक मानदंडों या त्याग का डर, आत्म-सम्मान की कमी और पति पर आर्थिक निर्भरता विभिन्न संभावित कारण हैं जिनकी वजह से एक महिला अब्यूसिव संबंध को अनदेखा करती है या उनके साथ रहने लगती है। हमने सबसे आम कारण नीचे सूचीबद्ध किए हैं

ये भी पढ़े: मेरे बॉयफ्रेंड ने मुझसे ब्रेकअप कर लिया जब मैंने उससे कहा कि मेरा शोषण किया गया है

महिलाओं के अब्यूसिव विवाह या संबंधों में रहने के 8 कारण

1. सामाजिक ढोंग: कई महिलाएं सामाजिक दबावों के कारण अब्यूसिव संबंधों में रहती हैं। यहां तक कि इस आधुनिक समय में भी वे सार्वभौमिक प्रश्न का सामना करने के लिए तैयार नहीं हैं कि ‘लोग क्या कहेंगे।’ नतीजतन, वे खुद को शादी में समझौता करने के लिए मजबूर करती हैं। लेकिन यह कोई नया चलन नहीं है। यह असमान पैर्टन कई पीढ़ियों से चल रहा है। क्या हमने अपने जीवन में ऐसे कई उदाहरण नहीं देखे हैं जहां एक महिला का अपने पति द्वारा मज़ाक उड़ाया जाता है या अपमान किया जाता है और वह भी पूरे परिवार और बच्चों के सामने? यह भविष्य की पीढ़ी के लिए एक असमान पैटर्न सेट करता है जो सोचती है कि इस तरह का अजीब व्यवहार बनाए रखना भारतीय परिवारों में जीवन का एक सामान्य तरीका है

2. मानसिकता में असमानताः यह बर्ताव परिवार और रिश्तेदारों के सामने शादी के मंडप से ही शुरू हो जाता है। रिवाज़ के एक हिस्से के रूप में, एक महिला की ज़िम्मेदारियों को प्रतीकात्मक रूप से एक पुरूष अर्थात उसके पिता द्वारा कन्यादान के रूप में दूसरे पुरूष अर्थात उसके पति को सौंप दिया जाता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हमारा समाज कितना प्रगतिशील और उदार है, अवधारणा एक महिला के दृष्टिकोण से प्रतिकूल है। अगर पति और ससुराल वाले किसी भी प्रकार का दुर्व्यव्हार कर रहे हों, तो पत्नी की शरण के लिए कोई जगह नहीं है। कभी-कभी उसके माता-पिता भी उसे समझने में विफल रहते हैं और अपने पति के घर वापस जाने के लिए मजबूर करते हैं। इन जटिल प्रतिक्रियाओं से बचने के लिए, वह इस विवाह में चुपचाप पीड़ा झेलने का विकल्प चुनती है।

ये भी पढ़े: उसकी मां ने कभी उसके पिता को नहीं छोड़ा लेकिन इसकी बजाय उन्होंने आत्महत्या कर ली

3. डर: यह शायद एक अब्यूसिव संबंध में होने का सबसे उल्लेखनीय पहलू है। यहां पति भावनात्मक रूप से नियंत्रण रखता है और हिंसा और परिवार और बच्चों को नुकसान पहुंचाने की धमकियों द्वारा अपनी पत्नी के व्यवहार को नियंत्रित करता है। अपने प्रियजनों की सुरक्षा के खातिर स्त्री परिवार के किसी भी सदस्य को बताने में भी विफल रहती है और इस ज़हरीले रिश्ते में रहने का विकल्प चुनती है।

4. अलगावः घरेलू दुर्व्यव्हार में दुर्व्यव्हार करने वाले व्यक्ति अलगाव के द्वारा महिलाओं को भावनात्मक और मानसिक रूप से टार्गेट करते हैं। नियंत्रण करने वाले व्यक्ति का अनिश्चित और नियंत्रण करने वाला स्वभाव महिलाओं में सामाजिक और पारिवारिक अलगाव का कारण बनता है। ऐसे कई उदाहरण हैं जहां पीड़ित शर्मिंदा महसूस करता है और उसे अपने परिवार और दोस्तों से जुड़ना मुश्किल लगता है। ऐसे मामलों में, वे अपने आसपास के लोगों से वैराग्य लेने लगते हैं और दूर होने लगते हैं। वे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से संपर्क तोड़ सकती हैं।

5. कम आत्म-सम्मान की भावनाः अगर एक महिला लंबे समय से अपमानजनक संबंध में रही है तो वह तेज़ी से अपना आत्म-सम्मान खो सकती है। एक समय ऐसा आ सकता है जब वह अपने आत्म मूल्य पर संदेह करने लगे और सोचने लगे कि वह अब्यूस के ही लायक है। उसका आत्मसम्मान खत्म हो जाता है, और आत्मा पर अपमानजनक ज़ख्मों से छुटकारा पाने के लिए बहुत भावनात्मक मरहम की ज़रूरत होती है।

प्यार, दुर्व्यवहार और धोखाधड़ी पर असली कहानियां

ये भी पढ़े: मैं एक अब्यूसिव विवाह में हूँ और उम्मीद करती हूँ कि मेरा पति बदल जाएगा

6. उन्हें लगता है कि यह सामान्य हैः कई बार, हम सोचते हैं कि कई महिलाएं वर्षों तक अब्यूस क्यों सहन करती जाती हैं, और फिर से अपने पति के पास क्यों चली जाती हैं। यह शोषण करने वाले और पीड़ित के बीच में एक तरह का पैटर्न बन जाता है। लेकिन लोग बार-बार अब्यूसिव रिश्तों पर क्यों लौटते हैं? अब्यूसिव संबंध में कई महिलाएं सोचती हैं कि यह सामान्य है। वे हिंसा और दुर्व्यव्हार को प्रेम की अभिव्यक्ति समझने की भूल कर बैठती हैं। महिलाएं सोचती हैं कि हर अंतरंग संबंध ऐसा ही होता है। वे अब्यूस को वैवाहिक जीवन के उतार चढ़ाव का ही एक रूप मानने की भूल कर बैठती हैं और सामंजस्य कर लेती हैं। फिर, शायद उन्होंने अपने परिवार में समान प्रकार का अब्यूसिव व्यवहार देखा होगा, जिसकी वजह से वे स्थिति स्वीकार कर लेती हैं और अब्यूसिव रिश्ते में रहती हैं।

7. साथी पर निर्भरताः दुर्व्यव्हार के बावजूद, सामाजिक अलगाव के परिणामस्वरूप साथी पर निर्भरता अधिक हो सकती है। शायद वे अभी भी उस व्यक्ति से प्यार करती हों। वे उसके कृत्यों को बिना शर्त का प्यार मान कर न्यायसंगत बनाने की कोशिश करती हैं। अब्यूसर शायद पूरी तरह से बुरा व्यक्ति ना हो। कई मामलों में, शायद अब्यूसर खुद लंबे समय से दुर्व्यव्हार का सामना कर रहा हो और नहीं जानता हो कि उसकी भावनाओं का सामना कैसे करे। अगर दुर्व्यव्हार करने वाला थोड़ा स्नेह दिखा दे तो शायद महिला को ऐसा लग सकता है कि शोषण खत्म हो जाएगा।

8. वित्तीय मजबूरीः एक अतयधिक नियंत्रण करने वाला और अब्यूसिव साथी एक महिला के वित्त को पूरी तरह से नियंत्रित करने की कोशिश करेगा। कई मामलों में, वे उन्हें नौकरी करने की अनुमति नहीं देते हैं, जिसके परिणामस्वरूप दुर्व्यव्हार करने वाले पर वित्तीय निर्भरता बढ़ जाती है। एक महिला को वित्तीय रूप से अब्यूसिव संबंध से बाहर निकलना मुश्किल लगेगा क्योंकि उसके पास ऐसा करने के साधन नहीं हैं।

“मैंने प्यार को उस स्थान पर बहुत ढूंढ लिया जहां वह है ही नहीं। सूखे कूओं से पानी पीने के प्रयासों से मुझे धूल के सिवा और कुछ नहीं मिला।” – मैगी जॉर्जिया यंग

ये भी पढ़े: मेरी शादी ने मुझे इतना डरा दिया कि मैंने आत्महत्या करने की कोशिश की लेकिन मेरे पति ने मुझे बचा लिया

abuse
Image source

महिलाएं अब्यूसिव संबंधों से बाहर कैसे निकल सकती हैं?

अब्यूसिव संबंध का समाधान बाहरी व्यक्ति को बहुत आसान लग सकता है जो तर्कसंगत रूप से इसे छोड़ने का सुझाव देगा। लेकिन रिश्ते में शामिल किसी व्यक्ति के लिए वास्तविकता पूरी तरह अलग है। अब्यूसिव संबंध से बाहर निकलना बहुत मुश्किल निर्णय है। कोई भी गंभीर कदम उठाने से पहले, परिणामों के बारे में सोच लें। अब्यूसिव रिश्ते में होने के संकेतों की जांच करें और पता लगाएं कि आपका अब्यूसिव संबंध कितना ज़हरीला है। अगर आप ज़्यादातर संकेत पाती हैं, तो संबंध तोड़ने का समय आ चुका है। दुर्व्यव्हार को गंभीरता से लें। समझें कि हिंसक संबंधों में टिके रहने का निर्णय नुकसान पहुंचाता है। हम सभी को गरिमापूर्ण और गर्व भरा जीवन जीने का अधिकार है और जब कोई दुर्व्यव्हार करने वाला इसे बर्बाद कर देता है, तो नए सिरे से शुरू करने के लिए टुकड़ों को इकट्ठा करना वास्तव में मुश्किल हो जाता है।

हमारे संबंध सलाहकार यह समझते हैं कि हिंसक संबंधों में छोड़ने का निर्णय बहुत मुश्किल होता है और अपके विवेक और आत्मा को नुकसान पहुंचाता है। ऐसी स्त्रियों के लिए, यहां एक उपाय है – ऐसे व्यक्ति से बात कीजिए जिस पर आप भरोसा करती हैं। आपको असहज बनाने वाली चीज़ों के बारे में मुखर होने का प्रयास करें। कभी-कभी तटस्थ परिप्रेक्ष्य दुर्व्यव्हार की तीव्रता की पहचान करने में मदद करता है। अपने अनुभवों को दैनिक रूप से डायरी में लिखने की कोशिश कीजिए और अपनी भावनाओं के लिए एक आउटलेट खोजिए। यह निश्चित रूप से एक जादूई गोली है जो भावनात्मक उपचार में मदद करती है।

ये भी पढ़े: मेरे पति की उम्र मुझसे दुगनी थी और वह हर रात मेरा बलात्कार किया करता था

अगला कदम बाहर निकलने के मार्ग के लिए तैयार करना है। आपका पासपोर्ट, शैक्षणिक डिग्रियां और अन्य महत्त्वपूर्ण दस्तावेज़ अपने पास रखें। अपने परिवार को अब्यूस की तीव्रता और इसे जारी रखने में आपके श्रमिक प्रयासों के बारे में बताएं। उन्हें अपने विश्वास में लें और घर से बाहर निकल जाएं। बाद में, आप अपना करियर फिर से शुरू कर सकती हैं और एक नई उम्मीद के साथ दूसरी पारी शुरू कर सकती हैं।
याद रखें, जीवन में 3 चीज़ें महत्त्वपूर्ण हैं: विकल्प, अवसर और परिवर्तन। आपको विकल्प चुनने का अवसर लेना होगा नहीं तो आपका जीवन कभी नहीं बदलेगा। अब्यूसिव संबंधों के बारे में, बेहतर जीवन चुनने की, जीवन बदलने की और एक पीड़ित की बजाए एक सरवाइवर के रूप में जीने की शक्ति सिर्फ आपके पास है।

क्या आप ऐसी किसी स्त्री के बारे में जानते हैं जो अब्यूसिव संबंधों से गुज़री है? या फिर अगर आप सरवाइवर हैं, तो हमारी बोनोबोलॉजी टीम रिश्ते में शोषण से लड़ने की आपकी कहानी के बारे में जानना चाहेगी।

मैं अपने एब्यूसिव पति से बच निकली और अपने जीवन का फिर से निर्माण किया

एक सामान्य संबंध और प्रताड़ित करने वाले संबंध में क्या अंतर है

जब पति अचानक एक मानसिक बीमारी से ग्रसित हुए

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No