मैं अकेले फिल्में देखने जाना पसंद करने लगी हूँ

woman alone in theatre

मैंने अकेले फिल्में देखने जाना क्यों शुरू किया

यह सब वास्तव में तब शुरू हुआ जब मेरे साथ बाहर घूमने के लिए कोई नहीं था। मैं कनाडा में नई थी। कोई दोस्त नहीं। कोई नौकरी नहीं। और कोई आत्मविश्वास नहीं। और परिणामस्वरूप … कोई मज़ा नहीं। हाँ, मैं बिल्कुल मज़ा नहीं कर रही थी। मुझे पता था कि कभी ना कभी इसे बदलना तो पड़ेगा। मुझे एहसास हुआ कि मज़े करना ही इंसान होना है। सामान्य। वास्तविक।

सबसे लंबे समय तक, मैं भारत बिताए गए पलों पर ही अटकी हुई थी – कॉफी पीने के दौरान या इंडिया गेट पर छोटा सा चक्कर लगाने के लिए एक दोस्त का हाथ पकड़ना या सिर्फ मटन पैटी खाने के लिए कनॉट प्लेस के वैंगर्स में जाने के लिए मेरी माँ को मजबूर करना।

लेकिन फिर वे सिर्फ यादें थीं। हाँ, वे बहुमूल्य थीं लेकिन मैं उन्हें अपने वर्तमान में नहीं ला सकती थी।

इसलिए, एक नया आप्रवासी होने के नाते, परिवार और नई नौकरी की कमी के साथ, मेरे पास एक्सप्लोर करने और बाहर की चीज़ों में शामिल होने के लिए बहुत कम चीज़ें थीं।

मैंने मज़े लेने की ओर छोटे कदम उठाने का फैसला किया। यह शो टाइम था – सचमुच! और एक दिन, एक आवेग पर मैंने अपने शर्मीलेपन को दूर करने और लाइट-कैमरा-एक्शन को मूवी हॉल में अनुभव करने का फैसला किया। आदर्श रूप में मुझे एक स्व-सहायता या जीवन बदलने वाली फिल्म के लिए जाना चाहिए था, लेकिन मैं घर से बाहर निकलने के लिए और “मज़ा लेने” के अर्थ का स्वाद दुबारा चखने के लिए बहुत उत्साहित थी, मैंने अक्षय कुमार की भूमिका वाली ‘बेबी ’ देखने का फैसला किया। और वास्तव में मुझे कोई पछतावा नहीं है। फिल्म बहुत अच्छी थी। मुझे मज़ा आया।

मैंने स्वयं के साथ का मूल्य सीखा

सालों बाद आज भी, मुझे सभी फिल्में अकेले देखने जाना पसंद है और मैं उस अनुभव को कभी छोड़ूंगी नहीं, भले ही मेरे सारे पड़ोसी मेरे दोस्त बन जाएं। क्यों? क्योंकि यह मुझे अजीब, अटपटा या अकेला महसूस करवाए बिना स्वयं के साथ का मूल्य सिखाता है।

जो पहली फिल्म मैंने अकेले देखी, वह शाम हमेशा मेरे साथ रहेगी। शुक्र है, जीवन दयालु था और उसने मुझे कनाडा में यह अनुभव देने का फैसला किया। मैं आपको बताऊँगी क्यों। ऐसा इसलिए है क्योंकि कनाडा में सप्ताहांत समेत किसी भी औसत दिन, आप मूवी हॉल में 10 से अधिक लोगों को नहीं देख पाएँगे। और इस स्थिति ने मेरे पक्ष में काम किया। यहाँ कनाडा में, अकेले चीजें करना या अकेले रहना इतना आम है कि यदि आपके पास स्थिर दोस्त और रिश्तेदार हैं, तो आप दुर्लभ प्रजातियों से संबंधित होंगे! इसके अलावा, उस शहर में (एडमोंटन) जहाँ मैं रहती हूँ – देसियों  का दिखना दुर्लभ है।

वैसे, इस अनुभवी यात्रा से पहले, मैंने यह तय करने के लिए दो घंटे बिताए कि मुझे मेरी इस डेट के लिए क्या पहनना है। मैं बहुत आसान, बहुत कमजोर, बहुत बूढ़ी, बहुत जवान, बहुत मोटी, बहुत पतली, बहुत बोल्ड, बहुत अजीब दिखना नहीं चाहती थी … तो दो घंटे के आत्मनिरीक्षण के बाद, मैंने वह चुना जिसमें मैं सबसे ज्यादा आरामदायक महसूस करती थी – एक जोड़ी शॉर्ट्स और एक आरामदायक टीशर्ट!

girl deciding what to wear
Representative Image source

भारत से आने के बाद, मेरा पहला अजीब पल आया जब मुझे अकेले लाइन में खड़ा होना पड़ा। सीधे भटिंडा से आए देसी जोड़े – नकली गुच्ची के लिए नए-नए प्यार के साथ – पापाजी और मम्मीजी की नजर से दूर, हाथ पकड़े हुए मुझे ऐसे घूर रहे थे जैसे मैं उनके सामने ही पौटी कर रही हूँ।

मुझे और हाथ चाहिए!

मेरी दूसरी बॉर्डरलाइन चिंता तब शुरू हुई जब मुझे फिल्म हॉल में प्रवेश करना पड़ा – पॉपकॉर्न, पॉप (पेप्सी/कोक) और मूवी टिकट लेकर- जो मेरी उँगलियों के बीच था। यह वह क्षण है जहाँ आप महसूस करते हैं कि आप वास्तव में अकेले हैं। क्योंकि आपको इन सभी वस्तुओं को सावधानीपूर्वक केवल दो हाथों से पकड़ना है … और ध्यान रहे, हॉल का दरवाज़ा भी खोलना है।

कनाडा के पास एकल फिल्म देखने वाले के लिए कुछ और चुनौतियां भी थीं। तापमान। यदि यह बाहर -40 डिग्री है तो मैं अपनी बड़ी सर्दी की जैकेट पहन रही हूँ जिसे हॉल के अंदर जाने पर उतार दिया जाना चाहिए (यह इन्सुलेट किया गया है)। और पॉपकॉर्न, ड्रिंक, मूवी टिकट/ नैपकिन और मेरी सर्दी की बड़ी जैकेट को संभालना बहुत अभ्यास और धैर्य का काम है। और भूलना नहीं कि जब मैं इस सब के साथ जगल कर रही हूँ तब जोड़ों की आँखें मुझे अजीब तरह से घूर रही हैं।

यह मेरी कथारटिक यात्रा के साथ अन्याय होगा यदि मैंने आपके साथ साझा नहीं किया कि मेरे ऊबर ड्राइवर ने वास्तव में फिल्मों के लिए मेरे साथ जाने की पेशकश की – “केवल अगर वह उपलब्ध होगा!” “नुकसान मेरा है!” मैंने उससे कहा।

लैदर। रिंस। दोहराएँ।

मी-मूवी डेट्स ने मुझे मुक्त कर दिया है

मैंने तीन वर्षों तक हर दो सप्ताह में इस अनुभव को दोहराया है और इसमें निपुण बन गई हूँ। अभ्यास परफेक्शन नहीं बनाता है, यह केवल स्थायित्व बनाता है। मेरे मामले में, जितना अधिक मैं मूवी डेट पर अपने साथ गई, उतना ही मैं अपना अवरोध, अपना अटपटापन और दूसरों पर सह-निर्भरता खत्म करने के करीब आई।

यह अनुभव मेरे लिए सिर्फ फिल्मों के मुकाबले कहीं ज्यादा रहा है। कई मायनों में, इसने मुझे मुक्त कर दिया है।

लोगों की टकटकी या यहाँ दोस्तों की कमी, मुझे इतना परेशान नहीं करती है। हाँ, और अधिक साथ होना अच्छा लगेगा, लेकिन जब तक ब्रह्मांड मुझे वह देने के लिए तैयार नहीं है, तब तक मैं फिल्मों के लिए अकेले जाना जारी रखूँगी।

Spread the love
Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.