Hindi

मैं अपमानित महसूस करता हूँ क्योंकि मेरी पत्नी मेरे लिए सजती संवरती नहीं है

वह इस तथ्य को महसूस करता है कि वह घर पर तैयार नहीं होती है, इसका मतलब है कि वह पति की राय की परवाह नहीं करती बल्कि सिर्फ अपने कम्फर्ट के बारे में सोचती है
lady thinking

वह घर पर इतने खराब कपड़े क्यों पहनती है?

“मेरी एक बहुत अजीब समस्या है। अगर आप मेरी बात सुनेंगे तो आप मेरे शब्दों में समस्या ढूंढेंगे लेकिन यकीन मानिये कि मुझे एक गंभीर समस्या है और मैं इस समस्या को हल नहीं कर पा रहा हूँ। मेरी पत्नी शामी के लिए यह छोटी सी बात है लेकिन मेरे लिए यह दिन-ब-दिन बढ़ती ही जा रही है।”

“हम दोनों वकील हैं और प्रतिष्ठित कानूनी फर्मों के लिए काम कर रहे हैं। उसने हमारे बेटे को पालने के लिए एक ब्रेक लिया था। मैं एक ऐसे वकील के ब्रेक लेने और घर पर बैठने से खुश नहीं था जो प्रतिष्ठित कॉलेज से थी और एक सर्वश्रेष्ठ कानूनी फर्म में काम कर रही थी। मैंने उससे कहा कि हम एक आया रख सकते हैं और उसकी कंपनी ने उसे वर्क फ्रॉम होम का विकल्प दिया। वह स्पष्ट रूप से पूर्णकालिक माँ बनना चाहती थी। मैं उसके फैसले और निर्णय से सहमत था, लेकिन वह एक सक्षम कोर्पोरेट वकील है। मैं उसके साथ अपने सारे केस पर चर्चा करता हूँ और उसके प्रेजेंस ऑफ माइंड और विश्लेषण से इंप्रेस हो जाता हूँ। उसे कानून जल्द ही याद आ जाता है और मैं वास्तव में उसकी सराहना करता हूँ। इसलिए जब वह घर पर होती है और परामर्श भी नहीं देती है, तो मुझे लगता है कि उसकी प्रतिभा व्यर्थ जा रही है,’’ शशांक ने कहा।

शशांक के विचार प्रगतिशील थे और यह बात सुखद थी कि वह समानतावादी था।

ये भी पढ़े: मेरे प्रेमी की प्रिय पत्नी, मैं तुम्हारा घर तोड़ने के लिए खुद को दोषी नहीं मानती

हम कपड़ों पर बहुत पैसा खर्च करते हैं

“हम मितव्ययी नहीं हैं और हम दोनों के कपड़ों पर बहुत खर्च करते हैं। वह शहर में अधिकांश डिज़ाइनर शो में जाती है और कपड़े खरीदती है। जब मैं घर लौटता हूँ तो मुझे एक फीके कपड़े पहनी पत्नी मिलती है। कभी-कभी जब मैं घर आता हूँ तो वह मुझे फटे हुए टी-शर्ट और दाग लगी हुई पैंट पहनी हुई मिलती है। हमारे पास वॉशिंग मशीन है और नौकरानी भी, तो वह दाग धोती क्यों नहीं है? और फटे-पुराने टी-शर्ट का क्या? मैं आपको यह भी बता दूँ कि हम फटे पुराने कपड़े पहन कर पैसे नहीं बचा रहे हैं। घर पर हम हर कपड़े की इस्त्री करते हैं, अंतःवस्त्र समेत। मैं जानता हूँ कि अब हमें एक दूसरे को फूल देने और इंप्रेस करने की ज़रूरत नहीं है, लेकिन तैयार होना हमेशा एक मनोदशा होती है,’’ शशांक शिकायत करता है।

अब दुर्लभ समस्या दिलचस्प हो रही थी। अधिकांश औरतें शिकायत करती हैं कि उनके पति नोटिस नहीं करते कि वे क्या पहनती हैं और यहां यह इंप्रेसिव मामला था जिसमें पति को परवाह थी कि पत्नी घर पर क्या पहनती है।

“अब उसके ड्रैसिंग सैंस को हाइलाइट करने के लिए, यहां एक डाइकोटॉमी है। ऐसा मत सोचना की वह हमेशा फटेहाल कपड़े पहनती है और हमेशा से ऐसे ही कपड़े पहनती आ रही है। जब वह बाहर जाती है तो वह कपड़े पहनने, मेकअप करने, परफ्यूम लगाने और बेहद आकर्षक दिखने का पूरा ध्यान रखती है। वह छोटी-छोटी चीज़ों में कई घंटे लगाती है। बाहर जाते समय उसके तैयार होने से मुझे कोई समस्या नहीं है। मुझे एक अच्छी तरह से तैयार महिला के बगल में चलने में गर्व होता है और मैं हमेशा उसकी स्टाइल को सूट भी करता हूँ। मैं बस इतना कहना चाहता हूँ कि वह इसलिए तैयार होती है ताकि वह भीड़ में अलग नज़र आए और उसे लोगों द्वारा तारीफें सुनना बहुत पसंद है। अब मुझे लगने लगा है कि वह सिर्फ दूसरों के लिए तैयार होती है खुद के लिए नहीं,’’ शशांक ने आगे कहा।

ये भी पढ़े: मैं प्यार के लिए तरसती हूँ, स्वीकृति के लिए तरसती हूँ

क्या वह मेरे लिए तैयार होने की परवाह नहीं करती है?

जिस समस्या का वह सामना कर रहा था वह यह थी कि शामी सिर्फ तभी तैयार होती थी जब वह बाहर जाती थी और घर पर फटे-पुराने कपड़े पहनती थी।

“मैंने खुद को विरोधाभासी आंतरिक आदेश का पालन करने के लिए मजबूर किया कि प्रत्येक व्यक्ति के पास ड्रैसिंग का अपना विकल्प है। मैं घर पर ना तो मिस युनिवर्स की उम्मीद करता हूँ और ना ही भरत नाट्यम डांसर की और मैं यह भी चाहता हूँ कि वह जान ले कि हमारे विवाहित जीवन में लुक्स ही सबकुछ नहीं हैं। इस बात से मैं इसलिए दुखी हो जाता हूँ क्योंकि हालांकि मैं चाहता हूँ कि वह घर पर पूरी तरह सहज रहे, लेकिन सच कहूं तो उसके इस व्यवहार से मैं अपमानित महसूस करता हूँ। मैं सीधे घर आता हूँ और नहाने चला जाता हूँ और तरोताज़ा और खुश महसूस करता हूँ। जब मैं अंदर आकर उसे देखता हूँ, मुझे लगता है कि वह दुखी या निराश है। जब मैं उसे इस तरह देखता हूँ तो मुझे लगता है कि मैं अपने ही घर में अवांछित हूँ,’’ शशांक ने समझाया।

he doesnt like to dress up for me
Representative Image source

शशांक घर पर प्रेसेंटेबल और खुश दिखने की पूरी कोशिश करता था और वह शामी से भी यही उम्मीद रखता था।

मैं जो महसूस करता हूँ, वह उसे बताने से डरता हूँ

आमतौर पर हमारे बीच संचार बहुत अच्छा है। मेरी समस्या यह है कि यह एक संवेदनशील विषय है और वह उसे प्यार की कमी के साथ जोड़ेगी। मैं इसे बताने का ऐसा तरीका नहीं ढूंढ पा रहा हूँ जिससे यह आरोप जैसा ना लगे और वह रक्षात्मक ना हो जाए। मैं यह नहीं कह रहा हूँ कि वह मेरा सम्मान नहीं करती है, क्योंकि यह निश्चित रूप से सच नहीं है। हमारे संबंध में विश्वास और सम्मान का उच्च स्थान है। मैंने वास्तव में अपने दिमाग में कई बार इस चर्चा का अभ्यास किया है, लेकिन मुझे लगता है कि इसे अच्छी तरह से नहीं लिया जाएगा क्योंकि हमारी शादी में बहुत सी स्पेस और निर्णय लेने का अधिकार है। इस विषय को उठाना प्यार और आकर्षण की बजाए स्पेस पर हमले जैसा लगेगा,’’ शशांक ने कहा।

sad couple
Representative Image source

ये भी पढ़े: मेरे ससुराल वालों ने हमें अपने घर से बाहर निकलने के लिए कहा

एक विवाह कई कारकों पर टिकता है और एक दूसरे को आकर्षक दिखना एक मुख्य कारक है। आकर्षक होना सिर्फ सेक्स के लिए ही नहीं है बल्कि एक दूसरे के साथ में सहज होने के लिए भी है।

“उसने कई बार घोषित किया है कि उसे घर पर तैयार होना इतना पसंद नहीं है और उसे आरामदायक होने की इच्छा है। मुझे उन बदरंग और फटे पुराने कपड़ों में कोई आराम नज़र नहीं आता जो कचरे के डिब्बे में जाने योग्य हैं।’’

“उसने कई बार घोषित किया है कि उसे घर पर तैयार होना इतना पसंद नहीं है और उसे आरामदायक होने की इच्छा है। मुझे उन बदरंग और फटे पुराने कपड़ों में कोई आराम नज़र नहीं आता जो कचरे के डिब्बे में जाने योग्य हैं।”

“उसके अधिकांश कपड़े मुक्ति पाना चाहते होंगे। वह घर पर पहनने के लिए हमेशा अच्छे आरामदायक कपड़े पहन सकती है,’’ शशांक ने कहा।

ये भी पढ़े: जब एक गृहणी निकली प्यार की तलाश में

कभी-कभी यह आपके लुक्स के बारे में ही होता है

शादी प्रयासों के ही बारे में है। यह एंटी-फेमिनिस्ट दृष्टिकोण नहीं है, लेकिन आपको आकर्षण बरकरार रखने के लिए जीवन के सभी पहलुओं में प्रयास करने की ज़रूरत है। विवाह सम्मान के बारे में भी है और जब कोई आपके लिए अच्छे कपड़े पहनने की परवाह ना करे, तो यह ऐसा कहने के बराबर है कि वे आपको आकर्षित नहीं करना चाहते हैं। इसलिए, घर पर होना आकर्षण मानकों को गिराने का कोई बहाना नहीं है। सजना सवंरना नारी का ही गुण है, खासतौर पर जब आपका पति इसकी सराहना करता है।

हालांकि जब आप फटे-पुराने कपड़ों में हो तब प्यार किया जाना अद्भुत है, लेकिन अपने लुक्स के प्रति लापरवाह होना निश्चित रूप से आपके साथी और विवाह की गरिमा को कमज़ोर बनाती है।

कहीं ना कहीं भारतीय महिलाओं पर गर्भावस्था के बाद लापरवाह होने का आरोप लगाया जाता है और हम इस अनुपात में वृद्धि क्यों करें? पूरा दिन बुरा दिखने को अपना विकल्प ना बनाएं। पोशाक में गरिमा बनाएं रखें क्योंकि घर ही वह जगह है जहां आप दिन का अधिकांश समय बिताते हैं।

क्या आप शिकायत किए बिना उसे यह बता सकते हैं?

शशांक को बिना आरोप लगाए यह विषय उठाना चाहिए। वह शामी को शॉपिंग कराने ले जा सकता है ताकि वह ऐसे घर के कपड़े खरीद ले जो उसके आराम के अनुरूप हों और उसे पसंद हों। वह उसे बता सकता है कि एक प्यारे सुखी घर में आना अच्छा लगता है।

ऐसे भी समय होते हैं जब महिलाएं खुद को जाने देती हैं और बस खुश होना चाहती हैं, लेकिन सवाल यह है कि क्या वे वास्तव में इसमें खुश हैं या यह सिर्फ एक बहाना है? विवाह को सफल बनाने के लिए प्यार और बुद्धिमत्ता ही आकर्षण होना चाहिए लेकिन लुक्स को नज़रंदाज़ नहीं किया जा सकता है। यह सिर्फ सुंदर दिखने के बारे में नहीं है बल्कि आकर्षक दिखने के बारे में है। जब हम कुछ घंटों के लिए अपने दोस्तों से मिलने जाते हैं तो हम तैयार होते हैं और शादी सबसे महत्त्वपूर्ण दीर्घकालिक संबंध है, तो अपने पति से मिलने के लिए तैयार क्यों ना हों?

ये भी पढ़े: वह मुझे रात भर जगाए रखता है

प्यार, दुर्व्यवहार और धोखाधड़ी पर असली कहानियां

हमारी सलाहकार स्निग्धा मिश्रा अपनी राय देती हैं:

प्रिय शशांक,

एक ऐसे पति की बात सुनना बहुत सुखद है जो अपनी पत्नी के लिए समान अवसर चाहता है। तो फिर घर पर उसके कपड़ों की पसंद के बारे में यह प्रतिबिंबित क्यों नहीं होता? आप इतने यकीन के साथ कैसे कह सकते हैं कि जब वह बाहर जाती है तो वह खुद के लिए तैयार नहीं होती? आपको ऐसा क्यों लगता है कि वह अन्य लोगों के लिए तैयार होती है? हो सकता है कि घर पर वह मलीन और अव्यवस्थित होना पसंद करती हो और इस बात की परवाह ना करती हो कि वह कैसी दिखती है और क्या पहनती है।

साथ ही, मुझे लगता है कि अब तक आपने शामी के साथ अपनी चिंता साझा कर दी होगी। मुझे उम्मीद है कि आपने उसे बता दिया होगा कि आप चिंतित हैं कि वह घर पर अपनी देखभाल क्यों नहीं करना चाहती, और देखभाल से आपका मतलब है अच्छे कपड़े पहनना।
वैसे क्या आप जानते हैं कि एक फटी-पुरानी घिसी पिटी टी-शर्ट कितना आराम दे सकती है? घर पर घिसे-पिटे और फटे-पुराने कपड़े जिस तरह का बेपरवाह आराम दे सकते हैं।

उसके साथ खुल कर बात करें, क्योंकि यह वास्तव में कोई समस्या है ही नहीं। बस उससे बात करें और उसे यह तय करने दें कि वह किसके साथ सहज है।

कैसे टिंडर के एक झूठ ने तोडा एक छोटे शहर के युवक का दिल

क्या एक भावनात्मक अफेयर ‘चीटिंग’ है?

8 लोग बता रहे हैं कि उनका विवाह किस प्रकार बर्बाद हुआ

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No