Hindi

मैं अपने युवा मुस्लिम प्रेमी से शर्मिंदा क्यों नहीं हूँ

उसे प्यार करने और प्यार किए जाने के लिए एक पुरूष की सख्त ज़रूरत थी; तो क्या हुआ अगर उसका धर्म अलग था और वह उससे कुछ वर्ष छोटा था?
Handsome muslim man

वह 1998 का अंत था, दुखी विधवा होने, और हर मौसम में 16 घंटे काम करने और एक छोटी प्रेस, जो मेरे स्वर्गीय पति मेरे लिए छोड़ गए थे, उसके लिए सामान खरीदने के लगभग तीन साल हो चुके थे। मेरे दो छोटे बच्चे थे, जो नाजु़क और अकेले थे और अपने पिता की अचानक अनुपस्थिति को स्वीकार करने का संघर्ष कर रहे थे।

यह अकेला संघर्ष था

सेक्स या रोमांस के बारे में सोचने का ना तो समय था और ना ही इच्छा। फिर 2000 के आसपास डॉट कॉम बस्ट आ गया और मेरा छोटा सा व्यवसाय बर्बाद हो गया। मुझे प्रेस बंद करना पड़ी और मैं सोच रही थी कि अब मैं अपने परिवार का पेट कैसे पालूंगी। मैं नास्तिक थी इसलिए मुझे सहारा देने के लिए धर्म भी नहीं था, और मैं टूट गई। अचानक उस रात बारिश हुई और रस्सी पर टंगे सारे कपड़े भीग चुके थे और इसलिए उन्हें सूखने के लिए एक दिन और लगता। यह अंतिम दुर्घटना थी….मैं हमारे किराए के मकान के लिविंग रूम में एक फूलों का बड़ा बाउल पेंट कर रही थी। कैनवास इतना बड़ा था कि मैं अपने बच्चों से मूंह छुपा सकती थी, और मैं ज़ोरदार बारिश में दिल खोलकर रोती थी। तीन साल से मैं अकेली थी। मुझे एक साथी की सख्त ज़रूरत थी।

ये भी पढ़े: उसे अविवाहित होने का कोई भी पछतावा नहीं है|

crying woman
Image source

मेरी सहेली काकुली एक पारिवारिक मित्र के घर जा रही थी और मैं भी उसके साथ हो ली। वे इसरो में एक सेवानिवृत्त वरिष्ठ वैज्ञानिक थे और ज्योतिष में भी उनकी रूचि थी। एक मृदुभाषी पुरूष, डेबूबा ने अपनी आवाज़ और धीमी कर ली और मुझे कहा कि मैं एक लंबे, गोरे, हिंदी बोलने वाले पुरूष से मिलूंगी….लेकिन वह मुझसे बहुत छोटा होगा।

मैं इसे अविश्वसनीय मानकर हंस पड़ी और जल्द ही इसके बारे में भूल गई।

बीयर, फ्राइड चिकन पर गुज़ारा करने और तनाव के कारण मेरा वज़न 100 किलो के करीब था…..ऐसा नहीं हो सकता था।

ये भी पढ़े: मेरी एक्स अब मेरी सहकर्मी है और उससे अब भी प्यार है

मैंने एक पुरूष का सपना देखा

मैं बहुत सपने देखती हूँ, और शायद इस सुझाव ने मेरी चेतना को ट्रिगर कर दिया था। और लगभग एक साल तक मैं बार-बार नीली जींस में एक लड़के का सपना देखती रही, मैं सिर्फ घुटनों तक ही देख पाती थी और उसकी हथेलियां फैली हुई होती थीं, जैसे की वह बुला रहा हो। अपने सपनों में मैं खुद को गले लगाती थी और कहती थी ऐसा नहीं हो सकता।

चूंकि व्यापार डूब गया था मैंने एक आईटी फर्म में नौकरी कर ली। घर लौटते समय, मुझे पीछे से एक बस ने हल्की सी टक्कर मार दी और मैं ओल्ड एयरपोर्ट रोड के बीच में गिर पड़ी। बूढ़ा बस ड्राइवर रोने लगा और उसने हाथ जोड़ लिए जैसे की कह रहा हो ‘मुझे माफ कर दो’। मैंने खुद को उठाया और किसी ने मेरी काइनेटिक हौंडा उठाई; मैं बाईक पर बैठी और मनीपाल अस्पताल के दुर्घटना वार्ड में चली गई, और एक स्लिंग के साथ हाथ में प्लास्टर बांधे घर लौटी। 3 हफ्ते बाद भी मेरे हाथ में क्रेप बैंडेज बंधी थी और मुझसे जावा प्रोग्रामिंग सीखने वाली टीम में शामिल होने को कहा गया। यह व्यवस्था की गई कि एक लड़का मुझे बुल मंदिर रोड, बसवानागुड़ी में प्रशिक्षण केंद्र में ले जाएगा अैर वापस सुरक्षित रूप से घर छोड़ेगा।

ये भी पढ़े: मैं 28 वर्ष की विधवा और सिंगल मदर थी जब जीवन ने मुझे दूसरा मौका दिया

वह जींस और वह हाथ

पहले दिन, मैं अपने नियुक्त ड्राइवर का इंतज़ार कर रही थी। बाइक पर बैठ कर, मैंने नोटिस किया कि मेरे सैंडल का वेल्क्रो स्ट्रेप निकल गया था और उसे ठीक करने के लिए नीचे झुकते ही, मैंने स्वैड जूते, नीली जींस और एक हाथ देखा जो चाबी ढूंढने के लिए फैला हुआ था। मैं जानती थी कि मैं इस पुरूष को जानती थी। मैंने ऊपर देखा – मेरा दिल धड़कने लगा और मैं जान गई कि यह वही था- जिसे मैं पिछले साल उन सुंदर सपनों में देख रही थी।

dreaming
Image source

ये भी पढ़े: जब आपको सच्चा प्यार मिलेगा तब आपको कैसे पता चलेगा?

जावा कोर्स तीन महीने का था और हर दिन हम लैंगफोर्ड टाउन जाते हुए रास्ते में एक मस्जिद देखा करते थे। मुझे लगता है उसका नाम अरब लेन मस्जिद था। मैंने कैसुअली उससे पूछा कि क्या वह धार्मिक था; वह हंसा और उसने कहा कि वह पूरी तरह नास्तिक था। उसका नाम हुसैन था। वह रितिक रोशन का भूरी आँखों वाला संस्करण लगता था और वह 26 साल का था – उसके दादाजी एक ईरानी जहाजी थे और हर बंदरगाह पर उनका एक परिवार था। उस शाम, जब उसने मुझे छोड़ा, मैंने उसे घर में आमंत्रित किया। मेरी माँ ने कृपापूर्वक बच्चों की देखभाल में मदद की पेशकश की जो तब क्रमशः 8 और 6 साल के थे।

एक भूखा जवान पुरूष

माँ ने मटन कटलेट की एक प्लेट प्रस्तुत की, और जब हुसैन उसे एक-एक करके खा रहा था तो हम सब देख रहे थे, जब बच्चे उसे चुपचाप आश्चर्य के साथ देख रहे थे; वे उम्मीद कर रहे थे कि उन्हें कम से कम एक टुकड़ा तो मिलेगा! वह यहां अकेला रह रहा था जबकि उसके माता-पिता और भाई बहन मैसूर में रहते थे। और उसकी वजह से बच्चे, माँ और मैं दिल खोल कर हंसे।

उसे हमारे साथ मटन कटलेट ना बांटने के लिए क्षमा कर दिया गया था

एक परिवार के रूप में हम उपयुक्त थे और एक जोड़े के रूप में हम शानदार थे। मेरे दिमाग में यह घूमता रहा कि वह मुझसे 12 साल छोटा था, लेकिन उसकी माँ ने एक बार कहा था कि यह उनके खून में था – पुरूष उनसे बड़ी स्त्री को पसंद करते हैं। ऐसा नहीं है कि उन्हें इससे कोई परेशानी नहीं थी, और जब उन्होंने उसे कसम दी कि बताओ तुम्हारा क्या रिश्ता है। उसने कहा, ‘‘मोहब्बत करता हूँ उससे।”

हमने बहुत से शानदार रोमांच किए थे, जाइव और वॉल्ट्ज़ करना सीखा था, थियेटर में भाग लिया था, तैरना सीखा था। उसने मेरी कार चलाना सीखी और मैंने उसे तांत्रिक सेक्स की सराहना करना सिखाया। हमनें आध्यात्मिक काम, शमनवाद, जादूई पास, मेडिटेशन, योग और विपस्सना आज़माया। मैं सातवें आसमान पर थी। लोगों ने मुझे कूगर, क्रेडल, स्नेचर और रंडी कहा।

मुझे रत्ती भर भी फर्क नहीं पड़ा।

ये भी पढ़े: दो पुरुषों के बीच उसे एक को चुनना था

love car
Image source

वह मेरे अकेले बच्चों के लिए रोल मॉडल पिता/ दोस्त जैसा था, जिसकी मैं अपेक्षा रखती थी। सच यह है, कि मुझे अहसास हुआ कि अगर मेरे पास अपना प्यार अर्पित करने के लिए एक पुरूष नहीं होता, तो मैं अपने बच्चों को प्यार नहीं कर पाती! यह एक भयानक विरोधाभास की तरह लगता है।

लेकिन फिर, मैंने यह कह दिया!

प्यार, दुर्व्यवहार और धोखाधड़ी पर असली कहानियां

मैं उसे स्पेस दे रही हूँ

पिछले सात वर्षों से मैंने फैसला किया कि मैं ब्रह्मचर्य का पालन करूंगी। मेनोपोज़ मेरे लिबिडो में एक अलग बदलाव ले आया, मुझे एकांत की आवश्यकता थी। मुझे यह भी महसूस हुआ कि मुझे चले जाना चाहिए और उसके लिए संभावित विवाह के लिए जगह बनानी चाहिए – अगर ऐसा कुछ हो तो। मेरे बच्चे अब 27 और 25 साल के हैं। एक बार मेरे बेटे ने उससे पूछ लिया – क्या आपको प्यार करने के लिए मेरी मोटी भैंस जैसी माँ ही मिली थी? हुसैन ने सुखद उत्तर दिया -यह हमेशा शरीर के बारे में नहीं होता। यह आत्मा का कनेक्शन है। उसे पता होना चाहिए कि लड़कियां उस पर ऐसे मरती हैं जैसे गुड़ पर मक्खी – और उसने निश्चित रूप से इस रास्ते पर उनमें से कुछ का स्वाद चखा है!

यह सुखी जोड़ा और उनका स्वतंत्र विवाह

प्रेमी से कम, दोस्त से ज़्यादा

30 वर्ष की उम्र में मैंने प्यार के बारे में जाना….यह ओवर रेटेड है

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No