Hindi

मैंने अपने मैनिपुलेटिव पति से पीछा छुड़ाया और नया जीवन शुरू किया

तलाक लेने का फैसला करते समय उसे विभिन्न मोर्चों पर चुनौतियों का सामना करना पड़ा
Man with many faces woman divorces

(जैसा की टीम बोनोबोलॉजी को बताया गया)

जब मैंने अपना प्रेम विवाह छोड़ा और अपने नियंत्रण करने वाले और मेनिपुलेटिव पति से तलाक लेने की अर्जी दायर की, तो ऐसे कई क्षेत्र थे जिनमें मुझे चुनौतियों का सामना करना पड़ा। उनसे पार पाना मुश्किल था लेकिन मैं साबित कर सकती हूँ कि आप वास्तव में मजबूत बने रह सकते हैं और एक विजेता बनकर बाहर आ सकते हैं।

अफवाहें

अपमान, झूठ और भयानक कहानियों से लगातार पीड़ित होने के बाद भी अपना दिमागी संतुलन बनाए रखने से ही मेरी ताकत उत्पन्न हुई। तलाक का सबसे कठिन हिस्सा है प्रतिक्रिया नहीं करना। यह कि जिससे आप इतना प्यार करते थे, जिसके साथ आपने बिस्तर और जीवन साझा किया, जिसे अपना एक हिस्सा माना, वह दिल को छलनी करने वाली बातें कह सकता है। अकेले खड़े होने और स्थिति का सामना करने के लिए साहस चाहिए होता है, यह जानना कि आपको अपने जीवन के सबसे करीबी लोगों द्वारा धोखा दिया गया है; और विशेष रूप से जब फैलाई जाने वाली अफवाहें इतनी बुरी, भयानक और काफी हद तक असत्य होती हैं।

ये भी पढ़े: हम दम्पति तो नहीं है, मगर माता पिता अब भी हैं

इसका सामना करने का एकमात्र तरीका है लगातार खुद को याद दिलाना किः मैं यह विवाह नहीं चाहती हूँ, मैं वहां कभी वापस नहीं जाने वाली हूँ, और उसके शब्द सिर्फ शब्द हैं।

जो अफवाहें उसने और उसकी टीम ने मेरे बारे में फैलाई थीं, वे बहुत ज़्यादा थीं और लगभग हंसने योग्य थीं। उसके द्वारा फैलाई गई सबसे बुरी अफवाहें मेरे परिवार के बारे में थीं, जिसमें वह हमारा रिश्ता टूटने के लिए उन्हें दोषी ठहरा रहा था। नार्सिसिस्ट लोगों की यही खराबी है – वे किसी भी चीज़ का दोष लेने से इन्कार कर देते हैं। वे उंगलियां उठाते हैं (उसने तलाक के लिए मेरी बेस्ट फ्रैंड को भी दोषी ठहराया, और फिर उसी के साथ सो भी गया)

सच तो यह है कि मेरे माता-पिता को यह अंदाज़ा नहीं था कि मैं किस हद तक पीड़ित और दुःखी थी। जिस दिन मैंने अपने पति का घर छोड़ा, उसी सुबह मैंने उन्हें बताया कि मैं तलाक लेना चाहती हूँ। पहले मैं अकेली वकीलों के पास गई। यह मेरा निर्णय था और मैं अपने जीवन की ज़िम्मेदारी खुद लेना चाहती थी। उसके द्वारा मेरे परिवार को टार्गेट किया जाना भी सबूत था कि मेरे ऊपर लगाने के लिए उसके पास कोई भी वास्तविक इल्ज़ाम नहीं था, क्योंकि हर किसी ने देखा था कि मैंने अपने विवाह में हर चीज़ सही की थी।

दोस्त

जिस दिन मैंने घर छोड़ा, मैं पहले से ही उन गतिविधियों के बारे में जानती थी जो वह मेरे पीठ पीछे किया करता था। शुरूआती हफ्तों में ही, मुझे इतनी ज़्यादा जानकारी मिल गई जिसकी वजह से मुझे अहसास हुआ कि दोस्तों के लिए लड़ने का कोई अर्थ नहीं है। मैंने पहले से ही उसके अगले कदमों का अनुमान लगा लिया था और उसने मुझे सही साबित कर दिया। मैं इस तरह के व्यक्तिगत पारिवारिक मामले में ज़्यादा लोगों को शामिल नहीं करना चाहती थी। इस बात ने भी मदद की कि मैं किसी के साथ भी बात करने या सोशलाइज़ करने के मूड में नहीं थी।

ये भी पढ़े: आपका शोषण करने वाला पति कभी नहीं बदलेगा

सबसे ज़्यादा आश्चर्य मुझे इस बात का हुआ कि इस अलगाव अवधि में भी उसके सभी दोस्त मुझ तक पहुंचे और मेरे साथ खड़े रहे, जबकि मेरी बेस्ट फ्रैंड उसके साथ सोने लगी और अपने बेचारे पति को तलाक दे दिया। और वह भी मेरे चरित्र पर कीचड़ उछालने में उसके साथ शामिल हो गई। उसने मुझे गालियां दी, मुझे पागल करार दिया और मेरे परिवार को भी बदनाम किया। लेकिन मेरे पति के दोस्तों ने मेरी सराहना की और तारीफ की।

यह कहावत सही है कि आपको कठिन समय में ही लोगों की सच्चाई पता चलती है। कुछ लोगों ने यह बताने के लिए मुझे कॉल भी किया कि मेरी पीठ पीछे क्या चल रहा है क्योंकि वे खुद को दोषी महसूस करते थे कि उन्होंने पहले क्यों कुछ नहीं कहा – इन खुलासों ने उन झगड़ों को समझने में मेरी मदद की जो पहले मुझे समझ नहीं आते थे। मेरी पीठ पीछे उसका पूरा व्यक्तित्व और जीवन अलग ही था जिसके बारे में मैं पूरी तरह अनभिज्ञ थी। वह अब भी नहीं जानता कि मैं उसके और उसकी घृणित गतिविधियों के बारे में कितना जानती हूँ और अब भी वह हमेशा मेरे बारे में बुरा भला कहता है -एक साल से ज़्यादा समय हो चुका है। अब तो यह बात मुझे चोट भी नहीं पहुंचाती।

मुक्ति

मैं उससे मुक्त होने के अलावा और कुछ भी नहीं चाहती थी। मैंने एक ब्रेकअप मुक्ति की -मैंने उसकी सारी तस्वीरें डिलीट कर दी, हर वह चीज़ फैंक दी जो मुझे मेरे पति या मेरी शादी की हल्की सी भी याद दिला सकती हो। इस अवधि के दौरान उन दोनों के प्रति नफरत में फंसना और ज़्यादा समस्याएं उत्पन्न करना बहुत आसान था भले ही मैंने उन्हें पूरी तरह से अकेला छोड़ दिया था।

मैंने अपने पति, अपनी बेस्ट फ्रैंड और हर किसी से नफरत करना बंद कर दिया। नफरत ने मुझे अनिद्रा दी थी और मेरे फोकस को अस्त-व्यस्त कर दिया था -इसकी बजाए मुझे अहसास हुआ कि मुझे दोनों का शुक्रिया अदा करना चाहिए। मैं अपनी बेस्ट फैंड को धन्यवाद देती हूँ कि उसने उसके साथ इतनी जल्दी अफेयर कर लिया, उसके साथ मेरा परिवार शुरू होने से भी पहले और इसलिए भी क्योंकि बहुत देर होने से पहले ही उसने मुझे उसकी असलियत दिखा दी। मैं अपने पति का शुक्रिया अदा करती हूँ कि उसकी वजह से ही मुझे अहसास हुआ कि मैं कितनी मजबूत और बहादुर व्यक्ति हूँ।

मैंने एक नया कोर्स पढ़ा, यात्रा की। मैंने अपने तलाक पर चर्चा करने या किसी का पक्ष लेने के लिए किसी को भी फोन नहीं किया। दूसरे उद्देश्य वाले लोगों द्वारा प्रभावित होने के बाद आप सबसे ज़्यादा बुरी चीज़ यही कर सकते हैं।

मैं किसी भी ऐसे व्यक्ति से नफरत नहीं करती जिसे मैंने तलाक में खो दिया है, इसकी बजाय, लोगों को बेहतर तरीके से समझने और जज करने में इसने मेरी मदद की है। जब विश्वास करने की बात आती है तो अब मैं बहुत ज़्यादा संरक्षित हूँ। मैंने एक स्वस्थ जीवनशैली अपनाई और हर उस चीज़ से दूर रही जिसमें मुझे कमज़ोर करने की थोड़ी सी भी क्षमता थी – यह करना तब बहुत आसान होता है जब आप अपने परिवार के साथ रहते हों जो पूरी तरह आपका समर्थन करता हो।

ये भी पढ़े: खोए हुए प्यार की निशानियों से कैसे निपटें

बड़ा व्यक्ति होना

मैंने एक बार भी अफवाहों को संबोधित नहीं किया; मैंने पूरे समय चुप्पी बनाए रखी। यह करना सबसे कठिन काम था, और यह आपको कई तरीकों से प्रभावित करता है। मैं अपने आप से निरंतर कहती रही कि थोड़े समय में सच सबकी नज़रों के सामने आ जाएगा।

मैंने कभी भी उनमें से किसी के भी लिए एक भी बुरा शब्द नहीं कहा, क्योंकि सच में मुझे कोई परवाह नहीं है; मेरे तलाक दायर करने से कहीं पहले मेरी शादी टूट चुकी थी, और वह किसी के साथ कुछ भी करे उससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता, बल्कि राहत मिलती है कि वह बस कागज़ात पर साइन करके मुझे जाने देगा। और सिर्फ इसी प्रेरणा ने मुझे सशक्त बनाए रखा। मैंने एक नए करियर में फिर से काम करना शुरू कर दिया जिसके बारे में मैं लंबे समय से सोच रही थी। मैं फिर से मुस्कुराने और हंसने लगी, मैंने यात्रा की, मैंने अच्छा भोजन किया। मैं फिर से अच्छा जीवन जी रही थी।

उम्मीद ना छोड़ें

ऐसे समय में, आपको हिम्मती लोगों का महत्त्व पता लगता है और यह भी की काले और सफेद जैसी कोई चीज़ नहीं होती है बल्कि ग्रे का हर शेड होता है। निश्चित रूप से, दोस्त आगे बढ़े और संपर्क में रहे, लेकिन जब उसने मेरे और मेरे परिवार के बारे में आपत्तिजनक बातें कही तो वे भी चुप रहे। कोई भी एक ‘पारिवारिक’ मामले में शामिल नहीं होना चाहता। हालांकि ये लोग आगे भी बढ़े और यह भी कहा कि ‘वह एक प्यारी लड़की है जिसने अपने पति की हर ज़्यादती के बावजूद खुद को इतना शालीन बनाए रखा है’।

मेरे पास इतने लोगों का मूक समर्थन है जिसका महत्त्व समय के साथ गिना जाएगा। एक साल हो चुका है और सच्चाई अभी से सबके सामने आ गई है और सभी का चरित्र लोगों द्वारा जज करने के लिए उनके सामने है। मैंने जाना है कि लोगों को वास्तव में कोई परवाह नहीं होती कि क्या कहा जा रहा है – अगर आप अच्छे इंसान है तो यह अंततः पता लग ही जाता है।

ये भी पढ़े: एक तलाकशुदा स्त्री को भारत में अभिशाप के रूप में क्यों देखा जाता है?

रिश्ते गुदगुदाते हैं, रिश्ते रुलाते हैं. रिश्तों की तहों को खोलना है तो यहाँ क्लिक करें

मेरे विनम्र, परिपक्व व्यवहार का नतीजाः मेरे जिन दोस्तों ने उसका साथ दिया था, उन्हें अब इसके लिए जज किया जा रहा है और उन्होंने अब उसके कुख्यात बुरे व्यवहार का स्वाद चख लिया है; मेरे पति ने अपने सभी करीबी दोस्तों को खो दिया है।

सामाजिक कार्यक्रमों में जाना अब भी चुनौतीपूर्ण है और जितना संभव हो मैं उससे बचती हूँ। मैं भीड़-भाड़ वाली पार्टियों में घबराई हुई रहती हूँ। मैं अब भी प्यार, दोस्ती और शादी में विश्वास रखती हूँ लेकिन मुझे जल्दी नहीं है। मुझे अपने सच्चे दोस्त मिल गए हैं और मैं जीवन की सभी खूबसूरत चीज़ों के प्रति आभारी हूँ। और सबसे महत्त्वपूर्ण बात तो यह है कि मैं आज जितनी खुश और निश्चित अपने जीवन में कभी नहीं थी। आज मैं एक पंछी की तरह आज़ाद हूँ।

क्यों मुझे क्लोज़र नहीं मिला?

सोशल मीडिया पर अपने एक्स को देख रहे हैं? क्या इसका कोई तुक बनता है?

तीस साल के खूबसूरत साथ के बाद अब मैं अकेले रहना कैसे सीखूं?

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No