Hindi

मेरे बॉयफ्रेंड ने मुझसे ब्रेकअप कर लिया जब मैंने उससे कहा कि मेरा शोषण किया गया है

विवाह पूर्व सेक्स में शामिल होने के लिए पर्याप्त आधुनिक होने के बावजूद, उसका प्रेमी इतना रूढिवादी है कि उसके कौमार्य खोने से नाराज़ हो गया।
sad-woman-after-break-up

धीमा संगीत, मंद रोशनी और उत्साह के क्षेत्र को छूती दो आत्माएं, जिन्हें मेरे शब्दकोश में लवमेकिंग कहा जाता था। उसके लिए, एक हाइमेन और रक्त का एक धब्बा लवमेकिंग को परिभाषित करता था। और जिस दिन हमने सेक्स किया था, उसके बिस्तर पर कोई खून का धब्बा नहीं था। हाँ! मैं इसे सेक्स कहती हूँ क्योंकि प्यार और खुशी के मेरे शब्दकोश में, यह वही सब था।

हमारा रिश्ता 9 साल पहले शुरू हुआ जब मैं 12 वीं कक्षा में थी। दोस्त, सबसे अच्छे दोस्त, समस्या हल करने वाला और फिर प्रेमी। बिस्तर पर कदम प्राकृतिक था। मेरे ऊपर कोई पाबंदी नहीं थी और न ही मैं प्लैटोनिक प्यार में विश्वास करती हूँ। तो, दुर्गा अष्टमी की पूर्व संध्या पर, हमारे रिश्ते ने उस ओर अंतिम कदम उठाया जहाँ कोई बाधा नहीं थी।

ये भी पढ़े: वो मुझे मारता था और फिर माफ़ी मांगता था–मैं इस चक्र में फंस गई थी

मेरा गुप्त डर

लेकिन मेरे दिल की गहराई में खुशी के साथ, एक डर भी था। मेरे पूर्व शिक्षक श्री सेनगुप्ता ने स्वामी विवेकानंद के प्रति बहन निवेदिता के समर्पण के नाम पर, मुझसे दुर्व्यवहार किया था। उन्होंने कहा, “सिस्टर निवेदिता स्वामी विवेकानंद की सबसे बड़ी शिष्या थीं और यहां तक कि उनके बीच शारीरिक गठजोड़ था, क्योंकि निवेदिता अपने गुरु को आत्मा और शरीर समर्पित करने पर सहमत हुई थी।” मुझे अभी भी पता नहीं है कि यह कितना सच था। मैंने इसका विरोध किया, और आखिरकार ट्यूशन में जाना बंद कर दिया। यह वह दिन था जब मैंने स्वतंत्रता प्राप्त की थी।

मुझे अपने बॉयफ्रेंड के साथ अपने रिश्ते की ताकत या उसकी समझ का यकीन नहीं था, और इसलिए, उसे मैं शोषण की कहानियां नहीं बता सकी। मुझे टकराव का डर था। जब हमने सेक्स किया तब मैंने पहली बार उस पर और मेरे लिए उसके प्यार पर भरोसा किया।

couple showing support each other

ये भी पढ़े: उसकी मां ने कभी उसके पिता को नहीं छोड़ा लेकिन इसकी बजाय उन्होंने आत्महत्या कर ली

मैंने उसे अपना रहस्य बताया

मैंने उसका नंबर डायल किया। मैंने दूसरी ओर से एक हैलो सुना और मेरे आँसू फूट पड़े। जो कुछ गहराई से छिपा हुआ था वह भावनाओं के झरने जैसा बाहर निकल पड़ा जिसकी कोई सीमा नहीं थी। मैं खुल गई और उसे उस चरण के बारे में बहुत विस्तार से बताया जो मैंने अपने दिल के अंदर गहराई से दफना रखा था।

और उसने निराश नहीं किया। उसने मुझे सुकून दिया, मुझे सांत्वना दी, मुझे अपने दिल को हल्का करने में मदद की। बातचीत यह कहते हुए बंद हुई “मैं अब भी तुम्हारा सम्मान करता हूं, मैं निश्चित रूप से कोई बदला नहीं लूँगा क्योंकि यह चॅप्टर खत्म हो चुका है, लेकिन मैं अपनी दुनिया को य़ह दिखाने के लिए अपनी पूरी कोशिश करूंगा कि तुम मेरी हो। कोई भी तुम्हारी ओर देखने की हिम्मत नहीं करेगा।”

ये भी पढ़े: अभी जब मैं माँ को खोने के गम से उबर रही हूँ, तुम क्या मेरा इंतज़ार करोगे?

रिश्ते बनाना मुश्किल है, उन्हें बनाए रखना और भी मुश्किल

उसके मन में मेरे खिलाफ कटुता आ गई

और उसके बाद कुछ दिनों बाद यह सब उस मुद्दे पर लड़ते हुए अलग हो गया जो इतना छोटा था कि दूसरे ही दिन भुलाया जा सकता था। उसने गुस्से में कहा, “और याद रखों कि मैंने तुम्हें तब भी स्वीकार किया जब मैंने चादरों पर खून नहीं देखा!“

मुझे लगता है कि मेरे दिल, मेरा विश्वास सबकुछ टूट गया। उसकी माफी और अपील अर्थहीन लग रही थी। मैं उसका सम्मान कभी नहीं कर सकती थी, उस दिन के बाद मैंने उसे कभी भी मेरा प्यार नहीं कहा। मैंने आखरी बार फोन रखने से पहले एक बात कहीः “अगर मेरा हाइमेन मेरे लिए तुम्हारा प्यार तय करता है, तो उस प्यार को आज मर जाने दो। हमेशा के लिए।”

शादी के साथ आई ये रिवाज़ों की लिस्ट से मैं अवाक् हो गई

मेरी शादी लड़के से नहीं, उसकी नौकरी से हुई थी

मेरे मामा ने मुझे गलत तरीके से छूआ

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No