मेरे पति की रेजिमेंट ने किचन में मुझसे बदला लिया

Woman cooking happily

आधी रात को एक विवाहित जोड़े पर आक्रमण, रेजिमेंट में हमारे दिनों में अपवाद की बजाय एक सामान्य चीज़ थी। कभी-ना-कभी हर कोई मोटरबाइक (विवाहित और कुंआरे ऑफिसर्स की) के हॉर्न और हेडलाइट से जाग जाता था, वे लोग भोजन के लिए दरवाज़ा पीटते थे, और अधिकतर उनकी अगुवाई मेरे पति करते थे। सभी विवाहित अफसर (पढ़ें: उनकी पत्नियां) मेरे पति की शादी का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे ताकि वे अहसान चुका सकें जो मेरे पति ने नियमित रूप से उनपर किया था।

उन दिनों मेरे पति, जो अब भी नवविवाहित अधिकारी की भूमिका में ताज़ा थे, बाहर के दरवाज़े को भीतर से बंद किया करते थे (मतलब ताला लगाते थे)। और फिर एक दिन, हमारी बारी थी! मैं हमारे फ्रंट यार्ड से आती हुई डरावनी आवाज़ सुनकर और हमारे ड्रॉइंग रूम में आती हुई आँखों को चौंधिया देने वाली रोशनी से जाग गई। यह जानकर कि यह एक रेड थी, मेरे पति जाग गए और दरवाज़ा खोलने के लिए भागे, फिर देखा कि…सरप्राईज़…वह बंद था!

उलझन और बाहर से आते शोर के बीच, बहुमूल्य क्षण चाबी खोजने की कोशिश में व्यर्थ हो गए। जब तक हमने दरवाज़ा खोला, हमें उन सब द्वारा फूहड़ मज़ाक, शरारती विंक्स और कपटी हंसी प्रस्तुत की गई। और इस एकल हाथ के मास्टरस्ट्रोक के साथ, हमने आने वाले लंबे समय के लिए रेजिमेंट के लोकगीत में प्रवेश कर लिया!

स्त्री का बदला

हमारे आधी रात के रोमांच वहीं खत्म नहीं हुए। देखिए, मेरे पति अपने कुंवारे दिनों में पार्टी की जान थे और उन्होंने कई अफसरों की पत्नियों से डिनर पार्टी के बाद भी अतिरिक्त भोजन बनवाया था। हमारे कमांडिंग ऑफिसर की पत्नी ने कई तरह के मौकों पर मेरे पति और उनके दो दोस्तों की अच्छी तरह से मेज़बानी की थी और वह सिर्फ रेजिमेंट में मेरे प्रवेश करने का इंतज़ार कर रही थी। एक रात, वह अपना हिसाब चुकाने के लिए सभी अफसरों और उनकी पत्नियों को मेरे घर ले आई (और दरियादिल सीओ साहब सबसे विनती कर रहे थे कि मुझे बख्श दे लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ) और मुझे आधी रात को सबके लिए आलू के पराठे बनाने पड़े!

तो, रात में लगभग 2 बजे के आसपास हमारे घर में भीड़-भाढ़ देखना एक आम बात थी, गप्पे लगाते हुए खुश लोग जो मेरे द्वारा गर्मागर्म पराठे, अंडा भुर्जी और घर का आम का अचार  परोसे जाने का इंतज़ार करते थे! मेरे दिन जितने बोझिल होते थे, मेरी रातें उतनी ही जीवंत होती थी। मुझे ऐसा लगने लगा था कि सेना की दुनिया में सूर्यास्त के बाद ही सब काम होते थे!

उनके बेस्ट फ्रैंड्स

मेरे पति तब सबसे ज़्यादा खुश होते थे जब उनके दो बेस्ट फ्रैंड्स के साथ होते थे (उनमें से एक अपने कुंआरेपन के टैग को हटाने वाला था!) और हर दूसरे दिन उनके हमारे घर आने की राह देखते थे। दूर से आती मोटरसाइकिल की आवाज़ उनके आने का संकेत देती थी (जबकि मैं भगवान की दया से अनजान होती थी) और वह आगे आने वाली मज़ेदार शाम की संभावना पर खुश होते थे। काश की वह मेरे बदलते मूड के प्रति भी उतने ही एकरूप होते जितना वह दूर से आती मोटरबाइक की आवाज़ के प्रति होते थे!

कई शामें मैंने सिर्फ अपने थके हुए चेहरे को छुपाने की कोशिश में (ऐसा नहीं है कि इस बात से उन तीनों को कोई फर्क पड़ता था) और दैनिक कार्य के खत्म होने की इच्छा करते हुए गुज़ारी थी!

मुझे अहसास हुआ कि जब तक मैं स्टार्टस परोसती रहती थी, वे कभी डिनर नहीं मांगते थे – यह मान लिया जाता था कि वे डिनर हमारे साथ ही करेंगे – और वे पूरी रात बिना रूके आगे बढ़ेंगे। इसलिए मैं किचन में कढ़ाई और बेलन  पटकती रहती थी और अक्सर ज़ोर से आवाज़ें करती थी ताकि वे समझ जाएं कि डिनर तत्काल परोसा जाना होगा। मेरे पति ऐसी प्रतिक्रिया देते थे जैसे वे अचानक बेहोशी से जागे हों। वे अपने दोस्तों से डिनर के लिए आने का आग्रह करते थे और मुझसे दब्बू बनकर माफी मांगते थे, जो शायद सिर्फ मुझे मनाने के लिए होती थी क्योंकि अगली ही शाम सारी चीज़ें फिर से दोहराई जाती थीं।

Having food together
दोस्त रात का खाना साथ खाते हैं

स्टाईल से भेजना

डिनर होस्ट करने की मेरी शुरूआत भी बहुत जल्दी हो गई। एक दिन, मेरे पति घर आए और उन्होंने घोषणा कर दी कि एक रेजिमेंट अफसर का तबादला हो गया है और उन्होंने मेरी प्रतिक्रिया का इंतज़ार किया। मेरे स्तंभित चेहरे को देखकर मुझे बता दिया गया कि उन्होंने उन्हें डिनर के लिए आमंत्रित कर लिया है क्योंकि वे सारा दिन पैक करते हुए थक जाएंगे और खाना नहीं बना पाएंगे।

मैं आज तक यह नहीं समझ सकती कि अफसर, और उनकी पत्नी को पूरा दिन सामान पैक करने के लिए कमरतोड़ मेहनत करने के बाद तैयार होकर डिनर पर आने के लिए उत्साह और ऊर्जा मिली कहां से। जब मैं अपने घर का सामान पैक किया करती थी तो इतनी थक जाया करती थी कि अगर कोई सीधे मेरे मुंह में खाना ठूंस देता तो मुझे बड़ा आराम मिलता और मैं सो कर अपनी थकान उतारती! तैयार होकर, पूरी शाम मुस्कुराने का (क्योंकि सिर्फ आपने ही पूरा दिन पैकिंग में बिताया है, बाकी लोग पूरी तरह तरोताज़ा हैं), छोटी छोटी बातें करने का, और उबासी को छुपाते हुए मेज़बान की पूरे दिन की मेहनत के साथ न्याय करने का विचार आज भी मुझे डरा देता है।

शुक्रिया माँ!

तो यहां मैं थी, एक या दो महीने पुरानी एक दुल्हन, जो यह जानने की कोशिश कर रही थी कि किचन की दुनिया में मेरी उपलब्धियों की छोटी सी सूची से क्या प्राप्त किया जा सकता है। मैंने अनखुली कुकरी किताबों को एहतियात से खोला, जो मेरी माँ ने मुझे बहुत सोच विचार कर दी थी ताकि मैं मिशेलिन स्टार वाली शेफ बन जाउं और उनके दामाद को स्वादिष्ट भोजन प्रदान कर सकूं। मैं चिकन-दो-प्याज़ा नामक चिकन के व्यंजन की विधि मिलने पर हुई खुशी कभी नहीं भूल सकती, जिसमें किसी भी नखरे और मिश्रण की ज़रूरत नहीं थी बल्कि सिर्फ प्याज और टमाटर को काटना था और खड़े मसालों के साथ हल्का सा तलना था! मेरे कभी विफल नहीं होने वाले साधारण से कस्टर्ड-केक-फ्रूट डेसर्ट के साथ एक या दो सब्जियां और इसके साथ मैं एक प्रस्तुत करने योग्य भोजन बना देती थी और अपने पति को पूरी शाम गर्व से डींगे हांकते देखकर खुश होती थी।

मैं नहीं जानती थी कि यह सिर्फ शुरूआत थी और अपनी बेटी को पूरी तरह से किचन में शामिल देखने और उसके परिवार के लिए पांच भोजन वाला विविध प्रकार का खाना बनाते देखने का मेरी माँ का सपना हकीकत में बदलने वाला है।

मेरी छिपी प्रतिभा मिलना

अगर आपके पति सेना में है और खाने के शौकीन हैं, तो आपके पास एक अच्छा कुक बनने के सिवा और कोई चारा नहीं है! इसलिए मैंने अपने अंदर कहीं गहराई से दफ्न खाना पकाने की गुप्त प्रतिभा को बाहर निकाला और जल्द ही मैं अपने परिवार की खुशी के लिए चिकन मेरिलैंड्स, शेफर्ड पाई और रम में डूबी चॉकलेट आइसक्रिम बनाने लगी!

woman cooking
मैंने अपने अंदर कहीं गहराई से दफ्न खाना पकाने की गुप्त प्रतिभा को बाहर निकाला

और अगर आपका फ्रिज पूरे साल उबले हुए आलू, कटे हुए प्याज टमाटर, अदरक-लहसुन के पेस्ट और गुथे हुए आटे से भरा नहीं होता, ताकि आप तत्काल दिन (या रात) के किसी भी समय किचन में जाकर आलू की सब्जी और रोटी (या आपकी श्रृद्धा अनुसार कुछ और) बना दें, तो आप नाम मात्र की आर्मी वाले की पत्नी हैं। यह कुंआरों की छोटी सी आक्रमणकारी सेना के लिए है। फिर आप आर्मी अफसरों की पत्नियों की प्रसिद्धि के हॉलोड हॉल में मजबूती से फंस चुकी हैं।

Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.