मेरे पति मुझे महत्त्वहीन महसूस करवाते हैं

by Snigdha Mishra
Girl-sitting-by-the-beach

प्रश्नः

नमस्ते मैडम,

मैं एक कामकाजी महिला हूँ। मेरे पति पिछले दो महीनों से विदेश में हैं (काम के सिलसिले में)। उन्हें एक बढ़िया अवसर मिला है और वो वहां अगले 8-10 महीनों तक रहेंगे। वो कुछ महीनों में एक बार एक सप्ताह के लिए यहां आते हैं। जब वो वहां होते हैं, तो मुझे कभी कभार मैसेज करते हैं। ऐसा लगता है कि वो ऐसा केवल रूटीन के लिए करते हैं इसलिए नहीं कि क्योंकि वो करना चाहते हैं। लेकिन जब वो पिछली बार मेरे पास आए थे, तो मैंने उन्हें महिला मित्रों को व्हाट्एैप पर मैसेज करते देखा। वो मुझे इन मित्रों के बारे में कुछ नहीं बताते हैं। साथ ही वो पार्टी करने जाते हैं और यहाँ तक कि उन्होंने धुम्रपान भी शुरू कर दिया है। उन्होंने मुझे इनमें से कुछ भी नहीं बताया।

ये भी पढ़े: मेरा पति स्वयं को बहुत लिबरेटेड दर्शाता था लेकिन …

जब मैंने पूछा, उन्होंने सीधा उत्तर नहीं दिया। मुझे लगता है वो और उनकी आवश्यकताएं बदल गई हैं। मुझे यह नहीं समझ आता कि जब वो मुझे ‘मैं व्यस्त हूँ’ का उत्तर देते हैं, तो उन्हें दूसरी लड़कियों से बात करने की क्या आवश्यकता है। वो काम से देर से लौटते हैं और मुझसे ठीक से बात नहीं कर सकते। इसने मुझे पहले से भी अधिक आशंकित कर दिया है। कृपया सुझाव दें।

Hindi counselling

सलाहकार स्निग्धा मिश्रा कहती हैं:

प्यारी सहेली,

आपने बहुत सही तरह से लिखा है कि ‘‘मैं पहले से भी अधिक आशंकित हो गई हूँ” । यह समझा जा सकता है कि जब आपके पति दूर होते हैं तब आपको उनकी याद आती है और आप चाहती हैं कि वो आपको थोड़ी तवज्जो दें। लेकिन यह बात भी है कि उनकी भिन्न आवश्यकताएँ हो सकती हैं। आप आपके पति के साथ इन मामलों पर बात कर सकती हैं और अपनी इच्छाएँ बता सकती हैं और आपको ऐसा करना ही चाहिए। आप उनसे उनकी ज़रूरतों के बारे में भी पूछ सकती हैं और यह भी कि आप क्या कर सकती हैं। याद रखिए कि एक संबंध में दो लोग होते हैं। आप उनसे कह सकती हैं कि उनके जीवन की श्रृंखला में आपको भी जोड़े जिससे उनके दूर होने पर आपको भी महसूस होगा कि आप उनके जीवन का एक भाग हैं।

ये भी पढ़े: अपना कैरियर यागने के लिए मेरी आलोचना की गई लेकिन मेरे पति ने मेरा साथ दिया

रिश्ते में सहानुभूति और प्रेम का संचार करना विश्वास बनाने में एक अहम भूमिका निभाता है। दूसरा, आप उनकी साथी हैं। उनसे बात करें। बस इतना ही। चूंकि आपने जो जानकारी दी है वो बहुत सीमित है इसलिए मैं ज्यादा कुछ नहीं बता सकती। साथ ही, मैं आपसे पूछना चाहूँगी कि इस पूरे मामले में ऐसा क्या है जो आपको इतना चिंतित कर रहा है, मुझे इस बारे में अधिक स्पष्टता प्राप्त करने की आवश्यकता है कि यहाँ वास्तविक परेशानी क्या है। जहां तक संवाद करने का प्रश्न है, याद रखिए कि इसका अर्थ गुस्सा, असहाय महसूस करना या रोना नहीं है।

शुभकामनाएँ,

स्निग्धा

मैं अत्याचारी पति से अलग हो चूकी हूँ लेकिन तलाक के लिए तैयार नहीं हो पा रही हूँ

अपने विवाह में परास्त की गई

Hindi counselling

1 comment

Deepti February 11, 2018 - 8:45 pm

How can I approach u….

Reply

Leave a Comment

Related Articles