मेरी पत्नी मुझे छोड़ कर चली गई लेकिन मुझे तलाक दायर करने से डर लगता है कि कहीं वह मेरे खिलाफ दहेज का झूठा मामला ना दर्ज कर दे

sad man

प्रश्नः

हैलो!

मैंने जनवरी 2017 को दिल्ली में शादी की थी। मेरी पत्नी से अपेक्षा थी कि वह शादी के बाद मेरे साथ अहमदाबाद में रहेगी क्यांकि मैं वहीं नौकरी करता हूँ। यह तय किया गया था कि वह नौकरी छोड़ देगी और मेरे साथ रहने के लिए आएगी। हालांकि, उसने शादी के बाद अपनी नौकरी नहीं छोड़ी और किसी ना किसी बहाने से जून 2017 तक मेरे साथ अहमदाबाद रहने नहीं आई। हम लगभग डेढ़ महीनों तक अकेले रह रहे थे (मतलब माता-पिता के बिना)। वहां, उसने मुझे झूठे दहेज और उत्पीड़न के मामले की धमकी दी। जब मैं आर्थिक रूप से संघर्ष कर रहा था तब उसने पैसों के लिए मुझे ब्लेकमेल किया। वह फालतू कारणों से मुझे और मेरे माता-पिता को लगातार गालियां देती रहती थी।

ये भी पढ़े: कर्ज़दार मुझे धमकी भरे फ़ोन करते है क्योंकि पति का कुछ पता नहीं

हम एक ही छत के नीचे रहते थे, लेकिन अलग-अलग। वह जुलाई 2017 के अंत में अपने घर चली गई। तब हमने समस्याओं पर बात करने के लिए उसके परिवार तक पहुंचने की कोशिश की, तो उसने मुझ पर झूठा आरोप लगाया कि मैं उसे मारता था और शराब पीता था, आदि। पिछले तीन महीनों से दोनों पक्षों से कोई संचार नहीं हुआ है। मुझे तलाक चाहिए। मैं नहीं जानता कि क्या वह भी यही चाहती है। मुझे डर है कि कहीं वह झूठा 498 मामला ना दर्ज करवा दे। मुझे तलाक के लिए किस तरह आगे बढ़ना चाहिए। कोई विवाह प्रमाण पत्र नहीं बनाया गया था। क्या विवाह रद्द करना संभव है?

नंदीश ठाकर कहते हैं:

हैलो!

आप क्रूरता और विलंब के आधार पर आपके निवास क्षेत्र या विवाह के स्थान पर संबंधित पारिवारिक न्यायालय के समक्ष तुरंत तलाक याचिका दायर कर सकते हैं।

वह दहेज प्रोहिबिशन एक्ट के तहत और भारतीय दंड संहिता की धारा 498 ए के तहत मामला दर्ज कर सकती है, लेकिन माननीय सर्वोच्च न्यायालय के अनुसार, आपको गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है।

ये भी पढ़े: उसकी पत्नी की साफ सफाई ना रखने की आदत की वजह से उनका तलाक हो गया

दूसरा, अगर उसके द्वारा दायर किए गए किसी भी मामले से पहले आपके द्वारा तलाक दायर किया गया है, तो आप कोर्ट को यह भी बता सकते हैं कि उसने करारे जवाब के रूप में आपके खिलाफ एक झूठा मामला दर्ज किया है।

अंत में, अगर आप फिर से एक साथ रहने का इरादा नहीं रखते हैं तो तत्काल तलाक दायर कर दें।

शुभेच्छा,
नंदीश ठाकर

बैली नृत्य द्वारा अपने भीतर की एफ्रेडाइट को जागृत करना

तलाक मेरी मर्ज़ी नहीं, मजबूरी थी

ये करें जब साथी सबके बीच आपकी आलोचना शुरू कर दे

Spread the love
Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.