Hindi

मेरी पत्नी मुझे शराब पीने नहीं देती, मगर प्रेमिका साथ जाम टकराती है..

उसकी पत्नी को उसका शराब पीना बिलकुल ही नागवार है, मगर दूसरी तरफ उसकी प्रेमिका की सोच बिलकुल अलग है....
couple-drinking-wine (1)

(जैसा प्रिय चापेकर को बताया गया)

अक्सर मैंने यह देखा है की शादी के बाद पुरुष पीने पिलाने की अपनी आदतें अपने पुरुष मित्रों या ऑफिस सहकर्मियों के साथ ही रखते है. कम से कम मैं तो उन्ही पुरुषों में से एक हूँ. जब तक दो लोग शादी के बंधन में नहीं बंधते और बस प्रेमी प्रेमिका ही रहते है, तब बहुत सारी नयी आदतें अपनाते हैं और कई पुरानी आदतों को ख़ुशी ख़ुशी अलविदा भी कह देते हैं. मगर शादी कुछ अलग ही होती है. अचानक शादी के बाद दो बिलकुल अलग अलग व्यक्तित्व के लोग पिघल कर एक बन जाते है, या कम से कम बनने की कोशिश तो करते ही हैं. मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ.

जहां तक मैं जानता हूँ, ज़्यादातर विवाहित दम्पति शराब एक साथ पीना पसंद नहीं करते. लाइफ पार्टनर तो होते है, मगर ड्रिंकिंग पार्टनर बनने में ज़्यादा दिलचस्पी नहीं दिखाते. मगर जर्नल ऑफ़ गैरन्टोलॉजी: सीक्योलॉजिकल साइंसेज, में छपी एक खोज की माने तो जो विवाहित दम्पति साथ पीते हैं, या साथ ही पीने से परहेज़ रखते हैं, वो अपने दांपत्य जीवन में कम दुखी रहते हैं. खैर, इस समय हम परहेज़ की बातें नहीं करते.

ये भी पढ़े: जब आपका साथी पार्टी में कुछ ज़्यादा ही शराब पी ले

alcohol
Image Source

हम दोनों में समानताएं कम थी

कुछ भी बताने से पहले यह बात रखना चाहूंगा कि मेरी कहानी में मसला ये नहीं कि कोई कितनी शराब पीता है, बात तो यह है कि कोई पीता ही क्यों है. मैं और मेरी पत्नी ने लगभग १० सालों तक एक दुसरे को डेट किया. वह एक बहुत ही आध्यात्मिक, शांत और मैच्योर व्यक्तित्व कि स्वामी है और मैं बिलकुल बिंदास, मस्तमौला इंसान जिसे हर कुछ दिनों में पहाड़ अपने पास बुलाने लगते थे. हमारे दोस्त हमेशा हमें देख कर “विपरीत आकर्षण” का तर्क देते थे, मैं कहीं खुद से पूछता था कि क्या कुछ एक जैसा होना हमारे रिश्ते के लिए बेहतर नहीं होता. खैर, हमने शादी कर ली. हम यूं तो बहुत अलग थे, मगर उसकी घरेलु विचारधारा से काफी प्रभावित भी था, और मन ही मन प्रसंशा करता था जिस तरह वो हमारे घर का ध्यान रखती थी. मैंने भी वक़्त रहते अपनी एकल यात्राएं और ओल्ड मोंक की बोतल को अलविदा कह ही दिया.

Please Register for further access. Takes just 20 seconds :)!

दूसरे पुरूष पर मेरी गुप्त आसक्ति ने किस तरह मेरे विवाह को सशक्त किया!

मैं उसका गुप्त रहस्य नहीं बनना चाहती थी

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No