नवविवाहित जोड़ों के लिए सबसे अच्छे गर्भनिरोधक कौन से हैं?

गर्भ निरोधकों के विस्तृत विकल्प

जिस जोड़े की हाल फिलहाल में बच्चे को जन्म देने की कोई योजना नहीं है या जो यौन संक्रामक रोगों से बचना चाहते हैं उन्हें गर्भनिरोधक अपने पास रखना चाहिए। परिवार नियोजन पर चर्चा करनी चाहिए। क्या हमें बच्चे पैदा करने चाहिए? हमें बच्चे कब पैदा करने चाहिए? एक अनियोजित गर्भावस्था की स्थिति में क्या किया जाए?

अपने आसपास कंडोम रखना हमेशा सही होता है, लेकिन कोई भी गर्भनिरोधक पूरी तरह शुक्राणु मुक्त नहीं होता है। जोड़े के विवाह के तुरंत बाद उत्पन्न होने वाला डोपामाइन एक शक्तिशाली, मज़बूत और अद्भुत सेक्स प्रदान करता है। और सेक्स के बीच में, सही गर्भनिरोधक का प्रश्न पूरी तरह गुम हो सकता है।

नवविवाहितों के लिए गर्भनिरोधक की बात करते समय, यह इस बात पर निर्भर करता है कि वे कितने बच्चे चाहते हैं और ये बच्चे उन्हें कब चाहिए। विज्ञान के विकास के साथ, दीर्घकालीन गर्भनिरोधक और अल्पकालीन गर्भनिरोधक दोनों उपलब्ध हैं। बेशक कंडोम यौन संक्रमित संक्रमण और रोगों के खिलाफ सबसे अच्छे गर्भ निरोधक हैं। लेकिन आज नवविवाहित जोड़ों के पास चुनने के लिए गर्भनिरोधक के विस्तृत विकल्प मौजूद हैं।

ये भी पढ़े: काश हमारे बॉयफ्रैंड्स को हमारे पीएमएस के बारे में पता होता

अगर किसी जोड़े की बच्चे पैदा करने की योजना ही नहीं है, तो अपरिवर्तनीय गर्भ निरोधक एक सही रास्ता है।

दीर्घकालिक, अपरिवर्तनीय गर्भनिरोधक

1. स्त्रियों के लिए स्टेरलाइज़ेशन

स्टेरलाइज़ेशन उन स्त्रियों के लिए प्रभावी गर्भनिरोधक है जो बच्चे ना पैदा करने का फैसला करती हैं। यह एक अपरिवर्तनीय गर्भ निरोधक विधि है और किसी भी तरह से यह चरमोत्कर्ष को प्रभावित नहीं करेगी और शरीर में कोई हार्मोनल असंतुलन उत्पन्न नहीं करेगी। यह प्रक्रिया एक शल्य चिकित्सा है जिसमें फैलोपीयन ट्यूब को सील कर दिया जाता है जो अंडाशय से गर्भाशय तक अंडे ले जाती है। यह शुक्राणुओं के साथ अंडों के संलयन को रोकता है और इसलिए अवांछित गर्भावस्था नहीं हो सकती।

2. पुरूषों के लिए नसबंदी

नसबंदी पुरूषों के लिए एक अच्छा तरीका है। यह एक साधारण प्रक्रिया है जहां शुक्रवाहिकाओं (शुक्राणु ले जाने वाली ट्यूब) को सील कर दिया जाता है ताकि स्खलन के दौरान निकले तरल पदार्थ में शुक्राणु प्रवेश ना कर सकें। अंडकोष शुक्राणुओं का उत्पादन करना जारी रखते हैं लेकिन वे शरीर द्वारा अवशोषित कर लिए जाते हैं। पुरूष नसबंदी के बाद भी स्खलित हो सकते हैं लेकिन स्खलन के पदार्थ में शुक्राणु नहीं होते हैं इसलिए गर्भावस्था का कोई डर नहीं।

ये भी पढ़े: ये प्रश्न पूछने से सभी डरते हैं…

लंबी अवधि, अपरिवर्तनीय गर्भनिरोध तरीकों के अलावा, अल्पकालिक, परिवर्तनीय तरीकें भी हैं। इन तरीकों को किसी भी समय बदला जा सकता है और इसके बाद गर्भावस्था भी संभव है। ये तरीकें उन जोड़ों द्वारा चुने जा सकते हैं जो कुछ वर्षों तक उन्मुक्त यौन संबंध का आनंद लेना चाहेंगे और उसके बाद परिवार नियोजन पर चर्चा करना चाहेंगे। ये लगाए जाने के साथ ही तुरंत काम शुरू कर देते हैं और एक अवांछित गर्भावस्था से बचाव प्रदान करते हैं।

अल्पकालिक, परिवर्तनीय गर्भनिरोधक

 1. गर्भनिरोधक इंजेक्शन

इंजेक्शक का एक शॉट तीन तहीने तक चल सकता है। इस इंजेक्शन का उद्देश्य गर्भाशय के चारों ओर श्लेष्म परत को मोटा करना है जो शुक्राणु का गर्भाशय तक जाना मुश्किल बनाता है। इंजेक्शन जिसे डेपो-प्रोवेरा के नाम से जाना जाता है, उसमें प्रोजेस्टेरोन हार्मोन होता है जो अण्डोत्सर्ग को रोकता है। यह 99 प्रतिशत की सफलता दर के साथ अत्यधिक प्रभावी गर्भनिरोधक है।

गर्भनिरोधक इंजेक्शन
गर्भनिरोधक इंजेक्शन

ये भी पढ़े: मैंने अपने ब्वायफ्रैंड के साथ कामसूत्र की मुद्राएं करने का प्रयास किया और हुआ कुछ ऐसा

2. इम्प्लांट

गर्भनिरोधक इंजेक्शन, जो प्रोजेस्टेरोन उत्पन्न करता है उसकी तरह, गर्भनिरोधक की यह विधि एक प्रत्यारोपण है जो ऊपरी भुजा में रखी जाती है। गर्भ निरोधक इम्प्लांट एक 4 इंच लंबी लचीली रॉड होती है जिसे ऊपरी भुजा में लगाया जाता है जो प्रोटेस्टेरोन उत्पन्न करती है। प्रभाव काफी हद तक गर्भनिरोधक इंजेक्शन की तरह होता है। यह अंडोत्सर्ग को रोकता है और गर्भाशय के चारों ओर श्लेष्म को मोटा करता है। एक गर्भनिरोधक इंजेक्शन और इंप्लांट में अंतर यह है कि इंप्लांट एक दीर्घकालिक समाधान है। जबकि इंजेक्शन की वैधता तीन हफ्तों बाद धीरे-धीरे लुप्त होने लगती है, एक इंप्लांट पांच वर्षों तक प्रभावी होता है। इंप्लांट की सफलता दर 99 प्रतिशत होती है और 2000 में से केवल एक स्त्री गर्भवती होगी। इंप्लांट हटाते ही प्रजनन क्षमता लौट आएगी। यह कंडोम और आई-पिल से कहीं बेहतर सुरक्षा है।

3. कॉपर टी

यह लंबी अवस्था की सुरक्षा है और 12 वर्ष तक चलती है। कॉपर टी एक छोटा प्लास्टिक और तांबा यंत्र होता है और गर्भाशय ग्रीव्हा के माध्यम से गर्भाशय में डाला जाता है और इस प्रक्रिया में केवल कुछ ही मिनट लगते हैं। यह एक शुक्राणु के साथ अंडे के संलयन या फिर गर्भाशय में अंडे के प्रवेश को रोकता है। यह एक दीर्घकालिक, परिवर्तन योग्य विधि है और पूरी तरह से हार्मोन मुक्त है।

पिछली विधियों की तरह, यंत्र को हटा दिए जाने के बाद प्रजनन क्षमता ठीक हो जाती है और गर्भधारण करना संभव हो जाता है।

ये गर्भनिरोधक विधियां लंबे समय तक चलने वाली और परिवर्तन योग्य होती हैं और कंडोम या आई-पिल से कहीं ज़्यादा प्रभावी होती हैं।

और फिर दैनिक तरीकें हैं जिनका इस्तेमाल जोड़ों द्वारा किया जाता है।

ये भी पढ़े: मज़बूत यौन संबंध के लिए सेक्स टॉयज़ः हाँ या ना

नियमित गर्भनिरोधक

1. आई-पिल

एक छोटी सी गोली बहुत लंबा रास्ता तय कर सकती है। वे नवविवाहित जिन्होंने किसी भी दीर्घकालिक गर्भ निरोधकों का उपयोग नहीं किया है और वास्तव में उस समय गर्भावस्था नहीं चाहते, उनके लिए आई-पिल एक वरदान है। अगर जोड़े ने असुरक्षित यौन संबंध बनाया है, तो यह गोली संभोग के दो दिन बाद तक भी प्रभावी रहती है। यह अगली सुबह की गोली के नाम से भी जानी जाती है, यह गोली शरीर के हार्मोन को मादा अंडे के रास्ते को अवरूद्ध करने में भी मदद करती है। हालांकि यह विधि शरीर में एक हार्मोनल परिवर्तन छोड़ जाती है जो इसके दैनिक उपयोग के बाद ध्यान देने योग्य हो सकती है। लेकिन यह संभोग के बाद आपातकालीन गर्भनिरोधक विधि के रूप में श्रेष्ठ कार्य करती है।

आई-पिल

ये भी पढ़े: तीन मुख्य कष्टप्रद बातें जो लोग सेक्स के बाद करते हैं

2. कंडोम

और अंत में, कंडोम सबसे आम गर्भनिरोधक हैं। यह ना केवल गर्भ निरोध प्रधान करता है बल्कि यह एकमात्र तरीका है जो यौन संक्रमक रोग और एसटीआई को भी नियंत्रित करता है। कंडोम के अलावा गर्भनिरोधक का कोई अन्य रूप यौन संक्रमित बिमारीयों से रोकथाम प्रदान नहीं करता। लेकिन कंडोम फट भी सकता है और उस स्थिति में, एक आई-पिल खा लेनी चाहिए।

कंडोम
कंडोम

बैली नृत्य द्वारा अपने भीतर की एफ्रेडाइट को जागृत करना

क्या विवाह सेक्स के आनंद को खत्म कर देता है?

Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.