Hindi

ओह माई गॉड! कामुकता के बारे में पौराणिक कथाओं का क्या दृष्टिकोण है

विभिन्न संस्कृतियों और महाद्वीपों की पौराणिक कथाओं में कामुकता के बारे में दृष्टिकोण कितना अलग या समान है? लेखक और माइथलॉजिस्ट देवदत्त पटनायक टिप्पणी करते हैं....
Lord Krishna

विभिन्न संस्कृतियों और महाद्वीपों की पौराणिक कथाओं में कामुकता के बारे में दृष्टिकोण कितना अलग या समान है?

ईसाई पौराणिक कथाओं में सेक्स पाप है। ईस्लामिक पौराणिक कथाओं में, स्वर्ग (जन्नत) में नूर और हूर, परी जैसी कामुक सुंदरी का वादा होता है। दोनों ही धर्म होमोसैक्सुआलिटी के प्रति असहज हैं। इब्राहीम के भगवान, यहोवा ने यौन दुर्व्यव्हार के चलते सदोम और गमोरा को नष्ट कर दिया था। लोग मानते हैं कि यह यौन दुर्व्यव्हार होमोसैक्सुआलिटी है, लेकिन जब आप मूल अनुवाद पढ़ते हैं तो ऐसी कोई बात है ही नहीं: इसका मतलब सिर्फ उन अजनबियों के साथ स्वतंत्रता लेना है जिन्होंने आश्रय मांगा है, और इस प्रकार आतिथ्य कोड को तोड़ दिया है।

दोनों ही लोत की अपमानजनक कहानियों से व्याकुल नहीं लगते हैं (इस्लामिक पौराणिक कथाओं में लूत)। यूनानी पौराणिक कथाओं में, हम देखते हैं कि जी़उस विभिन्न परियों को उसके साथ सेक्स करने के लिए मजबूर करता है। फिर भी, कौशल और ज्ञान के लिए जानी जाने वाली एथेना और आर्टेमिस जैसी कई देवियाँ, कुंवारी रहने का विकल्प चुनती हैं।

भारतीय और यूनानी पौराणिक कथाओं की महिलाओं के बीच आप समानांतरता कैसे दर्शाएंगे?

ये बहुत अलग पौराणिक कथाएं हैं। दोनों ही कई देवी-देवताओं का उल्लेख करते हैं लेकिन ग्रीक माइथोलॉजी एक जन्म में विश्वास करती है और यह भी की भगवान मनुष्य से डरते हैं जबकि हिंदू माइथोलॉजी कई जन्मों में विश्वास रखती है और यह भी कि भगवान किसी इंसान से नहीं डरते। ज़ीउस द्वारा एल्सेमीन को अपने साथ सेक्स करने के लिए छला जाता है, जब वह उसके पति का रूप ले लेता है, जैसा इंद्र अहिल्या के साथ सेक्स करने के लिए करता है, लेकिन एल्सेमीन इस छल से अन्जान है और हरक्यूलस की माँ बन जाती है, जबकि अहिल्या को अपने इस ‘अपराध’ के लिए दंडित किया जाता है और पत्थर में बदल दिया जाता है। हेलेन पेरिस के साथ भाग जाती है। रावण द्वारा सीता का अपहरण कर लिया जाता है। दोनों ही मामलों में, पति अपहरणकर्ताओं के साथ युद्ध करते हैं। इसलिए सतही समानताएं मौजूद हैं लेकिन एक बड़ा अंतर है।

Please Register for further access. Takes just 20 seconds :)!


Facebook Comments

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No