पति मुझसे पिता से रुपए मांगने के लिए ज़बरदस्ती कर रहे हैं.

man-with-wallet

प्रश्न:
प्रिय नेहा जी

Table of Contents

मैं बहुत ही परेशान हूँ. शादी के दो महीने बाद मेरे पति ने मुझसे कहा की उन्हें एक फ्लैट खरीदना है, जिसकी कीमत पचास लाख है. मेरे पति ने कहा की उन्हें दस लाख की ज़रुरत है, और मेरे पिता से पैसे मांगो. उसने कहा की क्योकि मेरे माँ पिता अमीर हैं, उन्हें इतनी रकम देने में मुश्किल नहीं होगी, वही दूसरी तरफ मेरे सास ससुर उनकी मदद नहीं कर सकते हैं.

मैंने साफ़ मन कर दिया. शादी के दो महीने बाद ही मैं ऐसे कैसे उनसे इतने रूपये की फरमाइश कर सकती थी. वो हमारे बारे में क्या सोचेंगे. मगर मेरे पति को मेरी बात समझ न आ रही है. उसने कहा की मेरे पिता को या तो लोन ले कर पैसों का इंतज़ाम करना चाहिए या फिर वो पूँजी जो उन्होंने मेरी छोटी बहन की शादी के लिए बचाये हैं, वो अभी हमें दे देने चाहिए.

ये भी पढ़े: जब शादी ने हमारे प्रेम को ख़त्म कर दिया

मैं उसके इस रवैए से बहुत आहत हुई हूँ. क्या मुझे ऐसे असंवेदनशील और लालची इंसान से तलाक़ ले लेना चाहिए? जब मैंने अपने घरवालों से बात की तो उन्होंने भी यही कहा की मुझे उससे तलाक़ ले लेना चाहिए क्योंकि वो दहेज़ की मांग कर रहा है.

इसके अलावा मेरे पिता ने मेरे पति को बहुत डांटा जिससे की स्तिथि और भी बिगड़ गई है. मेरे पति मुझसे नाराज़ है की मैंने अपने घरवालों को ढंग से सारी बात नहीं बताई. मैं क्या करूँ?

नेहा आनंद कहती हैं:

प्रिय सखी

मेरी सहानुभूति तुम्हारे साथ है.

सबसे पहले तो मैं सराहना करती हूँ तुम्हारी हिम्मत की कि तुमने खुल कर अपनी परेशानी साझा करने का कदम उठाया. ये कदम तुम्हारे आत्म विश्वस और आत्म बल को साफ़ दिखता है. तुम्हारे प्रश्न से लगता है की तुम्हारी अरेंज्ड मैरिज हुई है. तुम्हे एक बात फिर से याद दिलाना चाहूंगी की किसी भी तरह से दहेज़ का लेन देन अपराध है. इसके अलावा ये लड़की के घरवालों के लिए एक बहुत ही तकलीफदेह अनुभव होता है.

मुझे बताओ की क्या तुमने अब तक अपने पति और ससुरालपक्ष से अपने मन की इस दुविधा को शेयर किया है या नहीं? ये ज़रूरी है की आप बेधड़क कोई ढोस फैसला लें और उनसे सब कुछ साफ़ साफ़ कहें. ऐसी किसी बातचीत के बाद ही तलाक़ जैसा बड़ा कदम उठाने के बारे में सोचे.

ये भी पढ़े: ज़िन्दगी के सच के बीच फेसबुक वाले झूठ

यह अच्छी बात है की आपके परिवार वाले आपके साथ है. बिना डरे अपने पति को सारी बातें साफ़ साफ़ समझाएं. उसे दहेज़ के खिलाफ कानून की जानकारी भी दें और सचेत करें की दहेज़ लेने वालों के साथ कानून बहुत सख्ती से पेश आता है और उन परिवारों के लिए वो काफी कष्टप्रद हो सकता है.

याद रखें की अगर आप निर्भय हो कर सारी बात करेंगी तो आपको किसी से भी डरने की ज़रुरत नहीं है.

मगर मेरी मानिये तो इस समय तलाक़ के बारे में ज़्यादा न सोचे. वो सबसे आखिरी उपाय होना चाहिए. इस समय पूरी कोशिश करें की आपकी शादी बच जाये. अगर आपके पति को लगता है की आपने अपने बातें सही तरीके से नहीं बताई तो अपने पति से बात कर के उसकी ग़लतफ़हमी दूर करें. और अगर सारी कोशिशों के बाद भी चीज़ें सुधरती नहीं दिखें तो फिर आप अलग होने के बारे में सोच सकती हैं. आपके और आपके पति के बीच में जो भी ग़लतफ़हमी है, उसे दूर करें. अगर ज़रूरी लगे तो किसी प्रोफेशनल हेल्प के बारे में भी सोचें.

सुभेक्षा
नेहा

एक संबंध में आपको इन 12 चीज़ों के साथ कभी समझौता नहीं करना चाहिए

मेरा पति स्वयं को बहुत लिबरेटेड दर्शाता था लेकिन उसने मेरे जीवन के हर पहलू को नियंत्रित करने की कोशिश की

Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.