“उसे मुझसे ज़्यादा मेरे पिता में दिलचस्पी थी”

जैसा सौरभ दास को बताया गया (पहचान छुपाने के लिए नाम बदले गए हैं) हमारी शादी दिसंबर २०१३ में हुई थी और हम मेरे माँ बाप के साथ रहने लगे. मेरे डैड, जो आर्मी से रिटायर हुए थे, अपने आकर्षक व्यक्तित्व के लिए काफी जाने जाते थे. जब मेरी शादी हुई, डैड बहुत खुश थे. … Continue reading “उसे मुझसे ज़्यादा मेरे पिता में दिलचस्पी थी”