मेरी पत्नी मुझे लगातार धोखा दे रही है

Snigdha Mishra
man crying

प्रश्न:

प्रिय मैम

मेरी अपनी प्रेमिका से ही आज से छह साल पहले शादी हो गई थी. उन दिनों चीज़ें बहुत ठीक नहीं थी क्योंकि शादी के पहले वो आये दिन मुझे धोखा देती थी मगर फिर भी हमने शादी कर ही ली. मगर शादी के बाद उसका सख्त व्यवहार अब हिंसा में बदलने लगा और वो कहीं अधिक क्रोधित रहने लगी. २०१४ में हम एक छुट्टी में दोस्तों के साथ गए थे जब मैंने उसे हमारे एक मित्र को किस करते देखा. वो मित्र हम दोनों को हमारी शादी से पहले से जनता था. जब मैंने उन दोनों से पूछताछ की तो शुरू में तो दोनों ही किसी भी बात से इंकार करते रहे मगर फिर मेरी पत्नी ने कहा की उन्होंने ड्रग्स के नशे में ये सब किया.

ये भी पढ़े: जब जीवनसाथी से मन उचटा तो इंटरनेट पर साथी ढूंढा

ये भी पढ़े: कैसे टिंडर के एक झूठ ने तोडा एक छोटे शहर के युवक का दिल

मैंने उसे माफ़ कर दिया मगर तीन महीने बाद मैंने उसे फिर से उसी दोस्त को मैसेज करते और फ़ोन पर बातें करते देखा. मगर फिर से मैंने इन बातों को अनदेखा कर दिया. मेरी पत्नी चाहती थी की मैं अपने संयुक्त परिवार से अलग सिर्फ उसके साथ रहूँ. हर थोड़े दिनों पर वो कोई न कोई तमाशा खड़ा कर देती थी. एक साल सहते सहते मैं आखिर उसकी बात मान परिवार से अलग हो गया. उसके बाद भी मुझे पता चला की वो अब भी उस लड़के से बातें करती है और जब मैंने और खोजबीन की तो ये भी जाना की दोनों मेरी गैरमौजूदगी में मिलने का प्लान बना रहे थे.

मेरी पत्नी जो जब समझ आ गया की मुझे उसकी हरकतों का पता चल चूका है उसने आ कर खुद मुझे सब बताना शुरू किया. उसने मुझे आश्वासन दिया की उस दुसरे पुरुष से अब उसका कोई सम्बन्ध नहीं है. मगर इस बार मैं उसकी किसी बात में आने वाला नहीं था और मैंने उसे उसके माँ पिता के घर भेज दिया. हमें अलग रहते हुए अब करीब बीस महीने हो गए हैं. अब वो अकेली रहती है और मेरे पास वापस आना चाहती है. वो ये क़ुबूल करती है की उसने मुझे धोखा दिया, गुस्सा दिखाया और बदसलूकी की और ये भी की अब ये सब दोबारा नहीं होगा.

मगर जब मैं उससे मिलने उसके घर गया, मैंने एक इस्तेमाल किया हुआ कंडोम वहां पड़ा देखा. उसने मुझे फिर से कहा की वो ड्रग्स के नशे में थी और इसलिए उसने एक अन्य पुरुष से शारीरिक सम्बन्ध बनाये.

मैं अपने दिल और दिमाग की लड़ाई में फंसा हुआ हूँ मगर इस बार मैं झुक अपने दिमाग की तरफ ही रहा हूँ. मुझे बस फैसला लेने के लिए एक आखिरी आपकी राय चाहिए. अगर आप दे सकें तो मुझे बहुत मदद होगी.

ये भी पढ़े: दूसरे पुरूष पर मेरी गुप्त आसक्ति ने किस तरह मेरे विवाह को सशक्त किया!

धन्यवाद

रिश्ते बनाना मुश्किल है, उन्हें बनाए रखना और भी मुश्किल

स्निग्धा मिश्रा कहती हैं,

मैं आपको सच में नहीं बता सकती की आपको क्या करना चाहिए. मगर आपकी बातों से साफ़ लगता है की आपको पता है और आपने अपना फैसला ले लिया है.

आपने जो कुछ भी बताया है, उससे साफ़ लगता है की जहाँ आपको एक तरफ एक ऐसा रिश्ता चाहिए जिसमे बस एक पति और पत्नी हर तौर पर साथी हों, आपकी पत्नी को कई साथियों की ज़रुरत है. वो स्वाभाव से ही भावनात्मक और शारीरिक तौर पर कई साथी चाहती हैं. कुछ लोग स्वाभाव से ही एक साथी के साथ लिए नहीं बने होते.

आप दोनों को एक दुसरे से खुल कर बातचीत करनी होगी और जानना होगा की आप दोनों के अपेक्षाएं इस शादी से क्या हैं. ऐसी बातचीत केबाद आपके लिए कोई भी कदम उठाना कहीं आसान होगा. अगर आप दोनों एक जैसी ही चीज़ें चाहते हो तो अच्छी बात होगी वरना आप दोनों ही अपना और अपने रिश्ते का भविष्य का फैसला कर सकते हो.

आशा है की आपकी दुविधा जल्द ही सुलझे
स्निग्धा

उसने झूठ का एक जाल बुना और पुरूषों के प्रति मेरे विश्वास को नष्ट कर दिया

मेरा संबंध एक विवाहित पुरूष के साथ था

मैंने मैसेज किया ‘‘चलो मिलते हैं” और उसने दोस्ती समाप्त करना पसंद किया

You May Also Like

Leave a Comment

Login/Register

Be a part of bonobology for free and get access to marvelous stories and information.