Hindi

पीरियड से जुड़े कुछ मिथक जिनके बारे में सबको पता होना चाहिए!

मासिक धर्म रहस्यमय या अप्रिय नहीं है। यह एक साधारण, प्राकृतिक प्रक्रिया है जो सभी मिथकों से मुक्त होनी चाहिए।
sonakshi in noor

‘महीने का वह समय’ या ‘क्रिमसन वेव्स’ आप भले ही इसे किसी भी नाम से बुलाएं, लेकिन सेक्स के बाद मासिक धर्म भारत में दूसरा सबसे टैबू विषय है। भले ही हम कितनी भी उदारता आज़माएं, पीरियड्स के बारे में कुछ भी रहस्यमय नहीं है। यह एक सामान्य, प्राक्रतिक प्रक्रिया है जो महिला स्वास्थ्य के लिए महत्त्वपूर्ण है। लेकिन पीरियड्स अब भी कई मिथकों से घिरे हुए हैं जिन्हें हम अभी खत्म करने वाले हैं। यहां तक कि जो महिलाएं सोचती हैं कि वे अपने शरीर के बारे में काफी अच्छे से जानती हैं, वे भी इस बारे में बहुत कम जानती हैं और पुरूष भी इन छोटे से उपायों के साथ अपनी गर्लफ्रैंड्स को इम्प्रेस करने के बारे में कुछ सीख सकते हैं।

तैरना वर्जित नहीं है

जिसने भी आपको यह बताया है उसे स्विमिंग पूल में फैंक दीजिए। अगर आपने मेन्सट्रूअल कप या टैम्पून पहना है तो आप पीरियड्स में आसानी से तैर सकती हैं। अगर आपको कप लगाना असहज लगता है, तो आप स्विमिंग सूट के अंदर सेनिटरी पैड लगा सकती हैं और सनबाथिंग का आनंद ले सकती हैं।

ये भी पढ़े: कंडोम का उपयोग किए बिना गर्भवती होने से कैसे बचें?

एक्सरसाइज़ भी वर्जित नहीं है

ओह, यह कह कह कर हम पक चुके हैं! वास्तव में पीरियड्स के दौरान एक्सरसाइज़ आपके लिए फायदेमंद है। सरल व्यायाम मासिक धर्म के क्रेम्प्स को नियंत्रित करने में और मूड स्विंग से लड़ने में आपकी मदद कर सकते हैं। व्यायाम के कारण एंडोर्फिन रीलीज़ होता है, जो तनाव और चिंता के स्तर को कम करने में मदद करता है।

आप पीरियड्स के दौरान गर्भवती नहीं हो सकतीं

सिर्फ इसलिए की यह असामान्य है, यह सच नहीं हो जाता। ओव्यूलेशन और आपका चक्र अत्यधिक अप्रत्याशित हो सकता है। ओव्यूलेशन रकतस्त्राव से पहले या उसके बाद हो सकता है, खासतौर से तब जब आपकी माहवारी अनियमित हो। इसलिए गर्भावस्था से बचने के लिए आपको सुरक्षित सेक्स करना चाहिए, क्योंकि आपका मासिक धर्म इसका विकल्प नहीं है।

ये भी पढ़े: यदि आपका साथी एक ‘फिटनेस फ्रिक’ है, यानी उसे अच्छी स्वास्थ्य का जूनून है, और आप फिटनेस फ्रिक नहीं हैं, तो आप इन ५ चीज़ों को समझ पाएंगी|

औसत पीरियड्स एक हफ्ते चलते हैं

जैसे दो औरतों के शरीर एक तरह काम नहीं करते, उनके मासिक धर्म चक्र भी भिन्न होते हैं। कुछ औरतों को 3-4 दिन तक ब्लीडिंग होती है, जबकि कुछ को एक हफ्ते तक और दोनों स्थितियां ठीक हैं!

अनियमित पीरियड्स का मतलब है गर्भावस्था

अनियमित माहवारी कई कारणों की वजह से हो सकती है जिसमें तनाव, मोटापा और जीवनशैली की समस्याएं शामिल हैं। वर्ष में एक या दो बार पीरियड्स का ना आना भी ठीक है और अधिकांश मामलों में यह पूरी तरह सामान्य है। लेकिन अगर आपको लगातार दो महीनों से माहवारी नहीं आ रही है और आप प्रेगनेंट नहीं हैं तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

ये भी पढ़े: माँ बनने के बाद पत्नी ने डिप्रेशन में अपनी जान दे दी

माहवारी का रक्त वास्तविक रक्त नहीं है

यह उतना ही वास्तविक है जितना आपकी त्वचा से बहता खून। तो यह सिर्फ मासिक धर्म रक्त के बारे में लोकप्रिय धारणा है जो सच नहीं है।

टैम्पून आपकी वर्जिनिटी को प्रभावित कर सकते हैं

तकनीकी रूप से, वर्जिनिटी केवल आपके शरीर की एक स्थिति है जो इंगित करती है कि आपने पहले कभी संभोग नहीं किया है। टैम्पून आपको किसी भी तरह आपका कौमार्य भंग नहीं कर सकते हैं। टैम्पून पहनते समय आप गलती से हाइमन तोड़ सकते हैं, लेकिन अब भी आप एक कुंवारी ही होंगी!

खट्टी चीज़ें खाने से माहवरी का दर्द बढ़ जाता है

खट्टी चीज़ें आपके माहवारी के दर्द को प्रभावित नहीं कर सकती है। लेकिन फिर भी एक स्वस्थ आहार बनाए रखिए।

सब की माहवारी एक ही उम्र में शुरू होती है

मेरे परिवार में यह 13 वर्ष की उम्र में होती है, आपके परिवार में यह उम्र एक दो साल कम या ज़्यादा हो सकती है। आमतौर पर लड़कियों की माहवारी 9 से 15 वर्ष की उम्र में शुरू होती है। लेकिन पहली माहवारी के लिए कोई ‘मानक उम्र’ नहीं है।

रिश्ते बनाना मुश्किल है, उन्हें बनाए रखना और भी मुश्किल

पीएमएस असली नहीं है

ये उतने ही असली हैं जितने हमारे हार्मोन्स हैं। निरंतर क्रैंप्स और कभी ना खत्म होने वाली सूजन के अलावा, कई औरतों को मुंहासे, सोने में तकलीफ, गंभीर मूड स्विंगस, तनाव, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द और अपच की समस्या का अनुभव होता है। तो जब अगली बार कोई आपसे कहे कि आप सिर्फ पीएमएस से गुज़र रही हैं, उन्हें कहिए कि आपके भीतर एक युद्ध चल रहा है और यह क्रेज़ी हार्मोन्स के कारण है!


ये भी पढ़े: उसकी पत्नी की साफ सफाई ना रखने की आदत की वजह से उनका तलाक हो गया

काश हमारे बॉयफ्रैंड्स को हमारे पीएमएस के बारे में पता होता

पीरीयड मिस होने पर एक स्त्री के दिमाग में ये अजीबोगरीब विचार आते हैं

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No