Hindi

“प्रिय पति. मैं रोज़ रात को तुम्हारा फ़ोन चेक करती हूँ”

वो अपने पति के सोने के बाद रोज़ ही उसका फ़ोन ये देखने की लिए चेक करती है की कहीं वो उसे धोखा तो नहीं दे रहा. वो असुरक्षित है या अपने पति को धोखा दे रही है?
man-typing-message-on-phone

(As told to Tuli Banerjee)

एक पत्नी से स्वीकार करने का एक पत्र जो अपने पति पर जासूसी करता है

प्रिय पति

ये एक बोझिल सर्दियों की रात है और इस समय मुझे आराम से रज़ाई में दुबक कर सोना चाहिए मगर मैं यहाँ बाहर हॉल में खड़ी हूँ, ठंडी और ठिठुरती हुई. मुझे तुम्हारे सामने एक बात कबूल करनी है. बात ये है हर रात जब तुम सो जाते हो, मैं तुम्हारे फ़ोन में चुपके से तुम्हारे मैसेज और तुम्हारा व्हाट्सप्प चेक करती हूँ.

ये भी पढ़े: मैंने प्रसव के तुरंत बाद अपनी पत्नी को धोखा दिया और मुझे कोई अफसोस नहीं

अपनी कई सहेलियों से सुना है की कैसे उन्होंने अपने पतियों को बेवफाई करते हुए यूँ रंगे हांथों पकड़ा है, इसलिए मैं भी बार बार तुम्हारे फ़ोन में ऐसी किसी बेवफाई के सबूत ढूंढ़ती हूँ. मैं जानती हूँ की तुमने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा की मेरे दिमाग में ये सब चल रहा है. ये भी जानती हूँ की अगर मैंने तुम्हे बता दिया तो तुम तुरंत ही कहोगे, “बिलकुल नहीं. क्या तुम्हे लगता है की ऐसा कुछ संभव है?”.[restrict]

तुम उस फ़ोन से कुछ ज़्यादा ही प्रेम करते हो

मेरी सफाई में मैं ये कहना चाहूंगी की मेरे पास कई कारण हैं तुम पर यूँ शक़ करने के. तुम्हे अक्सर देखती हूँ की तुम कितने परेशां हो जाते हो अगर तुम्हारा आईफ़ोन तुम्हे नहीं मिलता है तो. ये भी देखती हूँ की तुम बहुत ही भावुक हो अपने फ़ोन को लेकर. इतना ज़्यादा मोह है तुम्हारा उस फ़ोन से की मुझे अक्सर शक होता है की तुम कहीं मुझसे कुछ छुपा तो नहीं रहे हो. तो इसलिए जब मैं तुम्हारा फ़ोन ये कहकर लेती हूँ की मैं कोई गेम खेलना चाहती हूँ, असल में मैं चुपके से तुम्हारे मैसेज और चैट देखने के लिए लेती हूँ.

तुम चाहो तो मुझे सनकी भी कह सकते हो मगर मैं क्या करून, यह मेरे बस में नहीं हैं. तुम्हारा फ़ोन चेक करना अब मेरी लत बन गई है. ऐसा नहीं है की अगर तुम्हारा कोई ऑनलाइन चैट देख लूंगी तो आगे जाकर मैं तुम्हे ब्लैकमेल करूंगी या धमकी दूँगी, मगर बस ये सब इसलिए करती हूँ की मुझे पता रहे की कहीं तुम्हारे ऑफिस में कोई मुझसे सुन्दर लड़की तो नहीं है या कोई ऐसी तो तुम्हारी ज़िन्दगी में नहीं आ गई जिससे तुम सबसे ज़्यादा अपने दिल की बातें कर रहे हो.

ये भी पढ़े: कैसे मेरी मदद से मेरे पूर्व पति ने अपनी वर्तमान पत्नी को धोखा दिया

तुम्हारे प्यार को लेकर असुरक्षित महसूस करती हूँ

उम्मीद करती हूँ की ये चिट्टी पढ़ कर तुम्हे कोई सदमा नहीं लगेगा। तुम्हे दिल का दौरा न पढ़ जाए ये जान कर की मैं तुम्हारे फ़ोन में तांकझांक करती हूँ. इसमें इतना बवाल क्या है? फ़ोन बस एक माध्यम ही तो है किसी से बात करने का? और मैं उसे चेक बस अपने डर की भावना को ख़त्म करने के लिए ही तो कर रही हो. प्लीज मेरी इस हरकत को बर्दाश्त कर लो जब तक की मैं तुम्हारे ऊपर अपने विश्वास को वापस न ला सकूं.  असल में सच कहूँ तो विश्वास तुम पर नहीं, मुझे खुद पर वापस लाना होगा.

wife-spying-on-husband
Representative Image source

कई बार मेरा अंतर्मन मुझे कचोटता है और बहुत उलाहने भी देता है अपनी इस हरकत के लिए. मैंने कभी भी अपने आप को विश्वसुंदरी नहीं माना है जिसे देख लोगों की सांसें अटक जाए. मुझे रत्ती भर भी आत्मविश्वास नहीं है की मेरी मौजूदगी किसी की घबराहट या असुरक्षा का कारण हो सकती है. मेरे आस पास के लोग मुझसे नफरत नहींकरते हैं मगर मैं सच्चाई जानती हूँ. सच्चाई ये है की मैं एक बहुत ही असुरक्षित स्त्री हूँ–मुझे तुम्हारे प्यार पर भरोसा नहीं है. मैं पूरी तरह से अपनी इस गलती को मानती हूँ और ये भी मानती हूँ की अगर मैंने जल्दी ही अपने आप को नहीं बदला तो मैं हमारे रिश्ते को कभी न संभाल सकने वाले मोड़ पर ला कर खड़ा कर दूँगी.

सप्रेम

तुम्हारी शक्की सनकी पत्नी

मल्लिका पाठक कहती हैं:

ये भी पढ़े: जब आप विवाह में सुखी हों और किसी और से प्यार हो जाए

Mallika Pathakमल्लिका पाठक एक विशेषज्ञा हैं विवाहिक थेरेपी में जिसमे शोषण, मानसिक बिमारियों से ग्रसित साथी के साथ रहने जैसे विषयों पर वो सलाह देती हैं.

बस एक क्लिक और बेवफाई शुरू

जहाँ एक तरफ स्मार्ट फ़ोन ने हमारी ज़िन्दगी आसान कर दी है और सब कुछ बस एक क्लिक दूर हो गया है, दूसरी तरफ इस स्मार्ट फ़ोन ने हम इंसानों में असुरक्षा की भावना को और हवा दे दी है. असलीयत में हम बहुत सी क्षेत्र-सिमित होते हैं मगर बस हम इतने विकसित हो चुके हैं की जानवरों की तरह अपनी भावना को व्यक्त नहीं कर पाते. मगर जैसे ही कोई हमारे निजी क्षेत्र में अपने पैर पसारने की चेष्टा करता है, हम विचलित हो जाते हैं. हम अपनी सीमाओं की सुरक्षा और हिफाजत बहुत ही ज़ोर शोर से करते हैं. मगर इस आधुनिक युग में ये सुरक्षा बहुत मुश्किल होती दिखती है. आप जब चाहें किसी से भी संपर्क में आ सके हैं. चाहे कोई कहीं भी किसी भी अवस्था में हो, उससे बातें करना अब बिलकुल मुश्किल नहीं रह गया है.

इन्ही कारणों से अब दम्पति एक दुसरे को धोखा देते कहीं आसानी से पकड़ लेते हैं. कई रिसर्च ये बताते हैं की अक्सर विवाहोतर सम्बन्ध या तो फ़ोन से होते हैं या फिर सोशल मीडिया से. अब ये अफेयर शारीरिक हो ये ज़रूरी नहीं है. कई ऐसे सम्बन्ध हैं जो भावनात्मक तौर पर जुड़े हैं और उनमे कोई शारीरिक संपर्क नहीं है. फिर ऐसे ही सम्बन्ध हैं जहाँ प्रेमी एक दुसरे को अपनी सेक्सी फोटो भेजते हैं और उत्तेजक होते हैं. दोनों ही हालों में फ़ोन का काफी बड़ा योगदान रहता है इन अफेयर के फलने फूलने का.

एक दुसरे की इज़्ज़त करें

बेवफाई की प्रवृति और बहुत ही आसानी से किसी से भी संपर्क करने की सुविधा ने आज रिश्तों को और नाजुक बना दिया है. सोशल मीडिया पर इतनी सरलता से हम अपनी ख़ुशी व्यक्त कर सकते हैं और अपने अंदर के द्वन्द को छुपा कर अपनी ज़िन्दगी की इतनी खुशहाल छवि दुनिया के सामने रख सकते है की बाहरी दुनिया को अंदाजा भी नहीं हो सकता की सच्चाई क्या है.

ये भी पढ़े: जब मैं 19 वर्षों बाद उससे दुबारा मिला

आधुनिक समाज में रिश्ते निभाना एक दो मुहीं तलवार है. जहां एक तरफ एक दुसरे को धोखा देना और उसे छुपाना और सरल हो गया है, दूसरी तरफ हमारी खुद की शंकाएं और कमज़ोरियां हमें हमेशा अपने साथी को शक की नज़रों से देखते हैं और उन्हें लेकर असुरक्षित महसूस करते हैं.

यह ज़रूरी है की लोग अपने रिश्तों को इज़्ज़त दें और एक दुसरे के ऊपर विश्वास करें. चाहे समाज में हम कितने भी खुल कर सब कुछ व्यक्त करें, हम सभी को एक निजी स्पेस की ज़रुरत होती है जिसमे किसी के भी आने की पाबंदी हो. रही बात ये की साथी का मोबाइल चेक करना सही है या गलत, तो ये फैसला तो कपल ही करे तो बेहतर होगा. ये उन्हें देखना है की वो एकदूसरे के साथ किस हद तक सहज हैं और सहज हो सकते हैं.

[/restrict]

 

आप मुझे विश्वासघाती कह सकते हैं

मैं अपनी पत्नी को धोखा दे रहा हूँ- शारीरिक रूप से नहीं लेकिन भावनात्मक रूप से

मैंने मैसेज किया ‘‘चलो मिलते हैं” और उसने दोस्ती समाप्त करना पसंद किया


Notice: Undefined variable: url in /var/www/html/wp-content/themes/hush/content-single.php on line 90
Facebook Comments

Notice: Undefined variable: contestTag in /var/www/html/wp-content/themes/hush/content-single.php on line 100

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:


Notice: Trying to get property of non-object in /var/www/html/wp-content/themes/hush/footer.php on line 95

Notice: Trying to get property of non-object in /var/www/html/wp-content/themes/hush/footer.php on line 96

Notice: Trying to get property of non-object in /var/www/html/wp-content/themes/hush/footer.php on line 97