Hindi

पुरूष अब्यूसिव संबंधों में क्यों रहते हैं?

man hands tied with rope

पुरूष और स्त्री को हमेशा एक दूसरे का बेटर हाफ माना जाता है। लेकिन यह सवारी हर जोड़े के लिए समान नहीं होती। कुछ, जीवन के दौरान, अब्यूसिव रिश्तों में चिपके रहते हुए अपने ‘बिटर हाफ्स’ के साथ संघर्ष करते रहते हैं। लोकप्रिय संस्कृति में, हमने घरेलू हिंसा, गैसलाइटिंग और भावनात्मक शोषण में महिलाओं को चुपचाप पीड़ा झेलते देखा है। लेकिन, क्या पुरूष भी महिलाओं की तरह रिश्ते में पीड़ा झेलते हैं? क्या संबंध में दोनों लिंगों की भेद्यता समान है? पता लगाने से पहले, अब्यूसिव संबंध की पीड़ाओं पर गहराई से नज़र डालते हैं।

ये भी पढ़े: “माँ तुम गलत थी. उसने मुझे धोखा दिया.”

अब्यूसिव रिश्ते क्या हैं?

एक अब्यूसिव संबंध मेनिपुलेटिव व्यवहार का एक पैटर्न है जिसमें एक साथी को शारीरिक और भावनात्मक पीड़ा के कारण अपना कम्फर्ट ज़ोन छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ता है। यह गतिकी एक प्रेमपूर्ण रिश्ते का संतुलन बिगाड़ देती है। यह एक पावर गेम बन जाता है जहां अब्यूस करने वाला व्यक्ति असहाय पीड़ितों पर बल और मेनिपुलेशन जताता है। एक व्यक्ति अपने साथी पर अपने विचार भारी रूप से थोपता है, उन्हें उनके परिवार, दोस्तों और रिश्तेदारों से दूर करता है और उनके सपोर्ट सिस्टम में बाधा डालता है। डराना और धमकाना एक दैनिक दिनचर्या बन जाती है और पीड़ित को मन की शांति नहीं मिलती है। नतीजतन, उसे एक अब्यूसिव रिश्ते में विभिन्न प्रकार की तबाही से जीवनभर अकेले ही जूझना पड़ता है।

Please Register for further access. Takes just 20 seconds :)!


मैंने अफेयर क्यों किया?

एक साल हो गया है जब मैंने अपने साथी को धोखा देते हुए पकड़ा है और अब हम यहां हैं

उसके पति ने तर्क दिया, ‘‘किसी के जीवन में दूसरी औरत होना सफलता का हिस्सा है”

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No