Hindi

पुरूषों के विवाहेतर संबंध होने के कारण

भारत में पुरुषों के संबंधों में धोखेबाजी के कई कारण हैं. आइये देखें की क्या सचमुच ये कारण सही लगते है या बस उनकी बेवफाई बस उनकी फितरत है.
cheating-man

बहुत से लोग कहते हैं, ‘‘मैं सिर्फ एक स्त्री को चाहने वाला पुरूष हूँ”, लेकिन उनमें से कितने लोग इस वादे को पूरा करने में सक्षम होते हैं? व्यभिचार और बेवफाई जैसे प्रलोभन के साथ, विवाहेतर संबंध असंख्य जोड़ों के संबंध को दीमक की तरह नष्ट कर रहे हैं। भारतीय समाज की कठोर वास्तविकता, एक विवाहेतर संबंध, ना युवा और प्रौढ़ में फर्क करता है और ना ही अमीर और गरीब में। यह बस एक जोड़े के संबंध की कमज़ोरियों पर हमला करता है और उनके विवाह को खतरे में डालता है। लेकिन अगर आपको लगता है कि विवाहेतर संबंध किसी आम प्रलोभन का परिणाम है, तो आप गलत हो सकते हैं।

जहां कुछ लोग ज्योतिषीय प्रभाव पर इसका दोष मढ़ते हैं (हाँ वह भी!) जबकि तथ्य यह है, मध्यम आयु वर्ग के विवाहित पुरूषों में बेवफाई बहुत आम है।

पुरूषों के विवाहेतर संबंध होने के 12 कारण

कई कारण है कि पुरूष अपने साथी को धोखा देते हैं। जहां कुछ लोग ज्योतिषीय प्रभाव पर इसका दोष मढ़ते हैं (हाँ वह भी!) जबकि तथ्य यह है, मध्यम आयु वर्ग के विवाहित पुरूषों में बेवफाई बहुत आम है। यह आमतौर पर मध्य जीवन के संकट के रूप में कुख्यात है, कई पुरूष भावनात्मक और यौन सुख के बाहरी स्त्रोंतां की तलाश करते हैं। कुछ संबंध आम तौर पर भावनात्मक संबंध के रूप में शुरू होते हैं, और पुरूष उन्हें धोखे के रूप में गिनते भी नहीं। आइये हम कुछ कारण देखते हैं जो हमारे देश में पुरूषों को विवाहेतर संबंध की ओर खींचते हैं।

1.  सोचते हैं कि जल्दी शादी करना एक ‘भूल’ थीः कई पुरूष जो अपने 20 के दशक में शादी करते हैं वे महसूस करते हैं कि उन्होंने कुछ ज़्यादा ही जल्दी शादी कर ली। जीवन और परिवार की ज़िम्मेदारियां में अनुभव की कमी के कारण, उनमें से कई पछताते हैं कि उन्होंने जीवन का आनंद नहीं लिया। इस भूल को सुधारने के लिए कई युवा पुरूष अपने जीवन में आनंद और उत्साह को वापस लाने के लिए विवाहेतर संबंध में शामिल हो सकते हैं।

2. पारिवारिक प्रभाव के कारण विवाह कियाः कई भारतीय पुरूष जो अरेंज मैरिज के लिए हामी भर देते हैं, वे संभावित जीवन साथी को जाने बिना ही विवाह कर लेते हैं। असल में, वे परिवार या सामाजिक दबावों के कारण ‘समझौता’ करते हैं। यह ‘जीवनसाथी का चयन’ एक संभावित ‘जीवन का जुआ’ है जो ऐसे पुरूष के लिए काम कर भी सकता है और नहीं भी। शायद वे अपने साथी की ऊर्जा के साथ मेल खाने के लिए अपने विचारों में बहुत उपभुक्त हो गए हैं। अन्य मामलों में, पत्नी शायद चिड़चिड़ी साथी बन सकती है जो उन्हें समझने में नाकामयाब हो। शादी में यह असंतोष और अप्रसन्नता पुरूषों के लिए बेवफाई के दरवाज़े खोल देती है। वह तुरंत किसी ऐसे व्यक्ति की ओर आकर्षित हो सकता है जो उनके वर्तमान साथी से बेहतर मैच हो और उन्हें धोखा दे सकता है।

3. जीवन में पूर्व प्रेमी का प्रवेशः जीवन में पुरानी लौ या पूर्व प्रेमी का प्रवेश निश्चित रूप से पहले ही अलग हुए जोड़ों में एक विवाहेतर संबंध उत्पन्न कर सकता है। कई पुरूष सोच सकते हैं कि एक पूर्व प्रेमी भावनात्मक शून्य को भर सकता है और वे जीवन में लंबे समय से खो चुके रोमांस और खुशी को पुनर्जीवित करने की चाह महसूस कर सकते हैं। यह उनके पति या पत्नी को धोखा देने का एक शक्तिशाली कारण हो सकता है, भले ही उनका विवाहित जीवन सुचारू रूप से चल रहा हो।

Broken-Heart-Infidelity

4. शादी में मूल्यवान महसूस नहीं करतेः एक विवाह तभी सफल होता है जब दोनों साथी अपने व्यक्तिगत सामर्थ्य के लिए मूल्यवान होते हैं। लेकिन अक्सर, यह देखा गया है कि एक स्त्री अपनी व्यक्तिगत और व्यावसायिक ज़िम्मेदारियों को ठीक से संतुलित नहीं कर पाती। ऐसी स्थितियों में, वह शायद अपने साथी को अनदेखा कर सकती है या उसकी उपेक्षा कर सकती है या उसका मूल्य कम आंकती है। या शायद वह उसे अनजाने में नीचा दिखा सकती है या नियमित आधार पर उसकी राय का अवमूल्यन कर सकती है। यह नियमित पैटर्न जोड़े के बीच गुणवत्ता संचार में बाधा डाल सकता है। पहले से ही निराश हो चुके ऐसे पुरूष विपरीत लिंग के करीबी दोस्त से ‘प्रशंसा और स्वीकृति’ की तलाश कर सकते हैं और एक भावनात्मक संबंध के प्रलोभन में फंस सकते हैं।

5. बोरियत भरे जीवन से बचनाः पुरूषों में व्यभिचार विभिन्न प्रकार का होता है। कुछ पुरूष केवल बोरियत और उनके विवाहित जीवन के घरेलू स्वभाव के कारण विवाहेतर संबंध में लिप्त हो जाते हैं। बीवी और बच्चों के साथ जीवन आसान, और पूर्वानुमेय हो जाता है और एक संबंध का जोखिम उनमें नया जोश भर देता है। यह एक फीके और सुस्त जीवन में रोमांच ला सकता है और यह ऐसे व्यक्तियों के लिए एक आसान बचाव है। कई पुरूष एक संबंध होने के बाद जीवंत महसूस करते हैं, और इसे एक कामुक रहस्य बनाए रखने की आवश्यकता उन्हें आगे बढ़ाती है।

6. यौन इच्छाओं की प्रतिबद्धता-मुक्त संतुष्टिः जो पुरूष यौन रूप से असंतुष्ट होते हैं, वे अपनी यौन इच्छाओं को पूरा करने के लिए सहमत विवाहित स्त्रियों की तलाश करते हैं। बिस्तर पर कार्यवाही की कमी अक्सर उन्हें व्यभिचार में शामिल होने के लिए प्रेरित करती है। खासतौर पर बच्चों के बाद, कई जोड़े शादी में सेक्स से कतराने लगते हैं। यह विवाह में शारीरिक असंतोष की ओर ले जाता है और और पुरूषों को प्रतिबद्धता मुक्त विवाहेतर संबंध में शामिल होने के लिए प्रेरित करता है। ऐसी कई ऑनलाइन वयस्क डेटिंग साइटे हैं जहां विवाहित पुरूष सिर्फ ‘नो स्ट्रिंग्स अटैच्ड’ (एनएसए) में शारीरिक संबंध के लिए अपनी आवश्यकताएं पोस्ट करते हैं।

extramarital
Image Source

7. सेक्स जीवन में जोश की कमीः अक्सर, एक सुखी विवाह का पुरूष का पैमाना सेक्स और अंतरंगता में हैं। यह उसे स्वयं का मूल्य प्रदान करता है और पत्नी के साथ बातचीत करने और संपर्क बढ़ाने के रास्ते खोलता है। लेकिन अगर पति ओर पत्नी दोनों एक ही तरह से नहीं सोचते, तो अंतरंगता को प्राप्त करने के लोभ में वह अपनी शारीरिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए शादी के बाहर जा सकता है। यह पुरूष की आवश्यकताओं के आधार पर पूरी तरह शारीरिक या भावनात्मक हो सकता है। पहले उदाहरण में, यह स्पष्ट है कि एक विवाहित पुरूष किसी प्रकार का दीर्घकालीन संबंध नहीं तलाश रहा है, लेकिन बेवफाई में लिप्त होने की उसकी आवश्यकता अक्सर उसके यौन जीवन को मसालेदार बनाने की ज़रूरत के कारण होती है। लेकिन अन्य मामलों में, ऐसे विवाहित पुरूष हैं जो शादी के बाहर किसी के साथ भावनात्मक रूप से जुड़े होने की उनकी आवश्यकता को पोस्ट करते हैं। एक पति और पत्नी के बीच भावनात्मक संबंध की कमी अक्सर ऐसी स्थितियां उत्पन्न करती हैं, जिसमें व्यक्ति किसी और से भावनात्मक सहयोग और दोस्ती चाहता है।

8. दूसरी स्त्री के साथ बौद्धिक उत्तेजन की तलाशः पति और पत्नी के बीच व्यवसायों में अंतर अक्सर विवाहेतर संबंधों की संभावना को खोलता है। अधिकांश मामलों में, एक गृहणी के साथ विवाहित एक व्यावसायिक पुरूष अपनी पत्नी से बात करते समय भावनात्मक और बौद्धिक उत्तेजन प्राप्त नहीं कर पाता। इस कारण से, वह भावनात्मक पूर्ति प्रापत करने के लिए अपनी नौकरी या समान पृष्ठभूमि से किसी की तलाश करता है। हालांकि, इस तरह के अधिकांश मामलों में, संबंध केवल भावनात्मक विनिमय तक ही सीमित नहीं रहते हैं; बल्कि यह प्रकृति में अधिक शारीरिक बन जाते हैं।

9. काम पर प्रेरणा प्राप्त करने के लिएः आजकल, ऐसे विवाहेतर संबंध कॉर्पोरेट जगत के बीच बहुत आम हैं। ये उन्हें काम के दौरान ऊर्जा देते हैं और वे अक्सर अपने संबंधों में गंभीर रूप से शामिल हो जाते हैं। वे घर में प्रतिबद्धताओं के साथ संतुलन बिठाते हुए उस व्यक्ति के साथ भ्रमण और यात्राएं व्यवस्थित करते हैं, जिनके साथ वे संलग्न हैं। कई समृद्ध व्यापारी अक्सर व्याभिचार के मकसद से बोल्ड सेक्रेटरी और असिसटेंट की तलाश करते हैं। ऐसे मामलों में, नियोक्ता पारस्परिक लाभ के आधार पर चुने हुए कर्मचारी के साथ पूर्व सहमति से अनुबंध में प्रवेश करते हैं। हालांकि, इस प्रकार के मामले ज़्यादातर शारीरिक होते हैं ओर उनमें यहा-कदा ही कोई भावनात्मक तत्व होता है। साथ ही, कम उम्र की लड़की के साथ ऐसे ‘कार्यस्थल के संबंध’ बॉस को काफी कमज़ोर स्थिति में डाल सकते हैं जहां उनपर यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया जा सकता है।

signs-for-emotional-affairs
Image Source

10. मूलभूत मूल्य और प्राथमिकताओं पर असहमतिः बहस किसी भी जोड़े के जीवन का हिस्सा है। लेकिन कठिन परिस्थितियों में, ये बहसें कुछ गंभीर संगतता समस्याओं को उजागर कर सकती हैं। जीवन से अलग -अलग उम्मीदें और टकराती मूलभूत भावनाएं एक विवाह में दरार उत्पन्न कर सकती हैं। कई मामलों में, इस तरह की निरंतर असहमति जोड़े के लिए विवाह को विषक्त बना सकती है। ऐसे अपरिवर्तनीय मतभेद और दैनिक झड़प एक पुरूष को भावनात्मक सहारे के लिए एक विवाहेतर संबंध की ओर अग्रसर कर सकती है।

11. मध्य जीवन के संकट से ध्यान हटाने के लिए कुछ नया होना चाहिए: एक युवा स्त्री से तवज्जो और प्रशंसा प्राप्त करना वृद्ध व्यक्ति में आत्मविश्वास और आत्म-मूल्य को बढ़ाता है। पारिवारिक जीवन में, उसे अक्सर लगता है कि पत्नी और बच्चे उसका महत्त्व नहीं जानते। परिवार के लिए इतना कुछ करना और बदले में कुछ भी ना मिलना, जीवन में असंतोष पैदा कर सकता है। इस चरण में, यदि एक संभावित रूप से छोटी स्त्री उसकी शक्तियां, जीवन अनुभव और परिपक्वता को स्वीकार करती है, तो उसे वह तवज्जो बहुत पसंद आएगी और मध्य जीवन के संकट से छुटकारा पाने के लिए वह प्रलोभन के सामने झुक जाएगा। तो यह अत्यंत सम्मोहक केमिस्ट्री एक गहन संबंध उत्पन्न कर सकती है। कई स्थितियों में, वह एक ऐसी स्त्री के लिए ‘शुगर डैडी’ बन सकता है और जीवन के महत्त्वपूर्ण निर्णय लेने में उसकी सहायता कर सकता है।

12. जीवन में मान्यता प्राप्त होती हैः पुरूष हमेशा कम उम्र की और सुंदर स्त्रियों की ओर प्रेरित होते हैं। एक अधेड़ उम्र की जीवन साथी जो अपनी शारीरिक और आत्म छवि की परवाह नहीं करती के साथ फीका जीवन बिताने की तुलना में कम उम्र की स्त्री को डेट करना उसके आत्म मूल्यों के लिए एक बड़ा बढ़ावा हो सकता है। यह नया साथ उसे विशेष महसूस करवा सकता है और उसे एक गर्म और जोशीले संबंध की ओर खींच सकता है।

चक स्विंडोल के शब्दों में, एक विवाहेतर संबंध बिस्तर पर पहुंचने के बहुत पहले दिमाग में शुरू होता है। ये संभावित ट्रिगर कई भारतीय पुरूषों को अपनी पत्नी को धोखा देने के लिए उत्साहित कर सकते हैं।

इन परिस्थितियों में, हम पुरूषों का सामना महत्त्वपूर्ण सच्चाई से करा सकते हैं। व्याभिचार एक संकटपूर्ण शादी में एक आसान बचाव की तरह लग सकता है, लेकिन असल में, यह आपके जीवन में जटिलताओं को बढ़ाएगा ही। एक विवाहेतर संबंध में प्रवेश करने और संबंध के समीकरणों को उलझाए रखने की बजाए, क्यों ना अपनी शादी में वास्तविक समस्याओं पर गौर करें?

हमारे बोनोबोलॉली संबंध परामर्शदाता भी ये मानते हैं कि विवाह में अकेले चुपचाप सहन करने की बजाए एक पुरूष को अपनी पत्नी से बात करनी चाहिए, संबंध की समस्याओं को संबोधित करना चाहिए और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने का समाधान करना चाहिए। क्या यह वैवाहिक समस्याओं से छुटकारा पाने का आसान तरीका नहीं है? आप भी अपनी राय साझा कर सकते हैं कि जीवन में थोड़े ज्ञान के साथ विवाहेतर संबंध और तलाक को किस तरह रोका जाए।

Published in Hindi

Don't miss our posts. Subscribe now!

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *