पूर्वनिर्धारित अंतरंगता भी संतोषप्रद हो सकती है

Roshni Mitra
Special-Night

एक मार्केटिंग एक्ज़ीक्यूटिव और दो बच्चों की माँ, 32 वर्षीय अंजली ठक्कर तीन महीने पहले हमारे पास परामर्श लेने आई। वह एक आदर्शवादी है और अपने घर और कार्यस्थल के प्रबंधन में गर्व महसूस करती है।

वह सेक्स के संबंध में केवल सुस्ती महसूस करती है। लंबी यात्राएं, काम और घर के बीच में हर दिन पिसना, चार साल की बेटी और छह महीने के बेटे और अपनी सास की आवश्यकताओं को पूरा करना और अपर्याप्त (श्वसन, शारीरिक एवं भावनात्मक) स्थान जोड़े के लिए मुसीबत खड़ी कर रहा है, उसे ऐसा लगता है।

साथ ही, अब वह 30 वर्ष से अधिक उम्र की है, एक धीमा चयापचय और संकुचित जीवनशैली उसका वज़न भी बढ़ा रहे हैं और उसका मन भी खराब हो रहा है जिससे उसके और उसके पति के बीच बिस्तर पर जो होता है वह भी बिगड़ रहा है!

हालांकि वह जानती है कि कुछ किलो बढ़ जाने से उसकी शारीरिक छवि प्रभावित नहीं हो जाएगी, लेकिन वह अस्वस्थ महसूस करने लगी थी और एक मित्र ने उसे आहार विशेषज्ञ से मिलने की सलाह दी जो अपने ग्राहकों का वज़न बहुत तेज़ी से कम करने में मदद करती थी। अंजली ने सुबह जल्दी जागते हुए और सैर करते हुए एक वास्तविक व्यायाम दिनचर्या का पालन करना भी शुरू कर दिया।

stress-in-sex

वह सेक्स के प्रति सुस्त महसूस करती है Image Source

बजाय इसके कि वह बेहतर महसूस करती, उसने शिकायत की कि उसके पास स्वयं के लिए बहुत कम समय बचा है। इसके अलावा, उसके रात के खाने को बहुत हल्का रखा गया था – सिर्फ शाकाहारी सूप और सलाद! इसलिए वह कहती है कि उसके पास केवल थका हुआ और उनींदा शरीर, दुखते अंग, दुर्गंध भरा मुंह और गुड़गुड़ करता पेट बाकी रहता है, और फिर केवल नींद ही उसे सुखी कर सकती है! सेक्स में 69 मुद्रा की जगह, वह कुरकुरे तले हुए चिकन 69 के सपने देख सकती है!

ये भी पढ़े: सेक्स तब और अब

हमारे लिए स्पष्ट था कि सबसे पहले उसे अपने जीवन और विचारों को व्यवस्थित करने की आवश्यकता थी। निश्चित ही, उसका वज़न बढ़ चुका था। लेकिन उसका पति उससे वास्तव में प्यार करता है और वह एक आत्मविश्वासी स्त्री है। उसके चयापचय मामलों को सेक्स के साथ मिश्रित करने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है। किसी भी तरह, वह अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने का प्रयास कर रही है और उसका वज़न कम हो रहा है।

हालांकि, हमने उसे बताया कि आहार और फिटनेस व्यवस्था का उद्देश्य है किसी को हल्का, स्वस्थ, चुस्त और ऊर्जावान महसूस करवाना, ना कि थका और बदबू भरी सांसों के साथ भूखा महसूस करवाना! इसलिए, यदि ऐसा हो रहा था, अंजली को पोषण विशेषज्ञ के साथ चर्चा करने की और अपनी व्यवस्था में आवश्यक बदलाव करने की आवश्यकता थी ताकि वह उत्साह कम किए बगैर वज़न कम कर सके। यह देखने के लिए कि क्या उसके ऊर्जा स्तर को बढ़ाने के लिए कुछ ख़ुराक की आवश्यकता है और उसके सामान्य स्वास्थ्य का मूल्यांकन करने के लिए हमने एक चिकित्सा जांच की सलाह दी।

बच्चे के रूप में हमें विद्यालय में सिखाया जाता था कि समय सारिणी के अनुसार चलना चाहिए, और समय सारिणी और कार्यक्रम का सख्ती से पालन करते हुए हम कई सारे विषयों को पढ़ने में सक्षम होते थे। इसी तरह आज यह आवश्यक है कि विभिन्न उत्तरदायित्व, काम, ‘स्वयं का समय’, परिवार का समय आदि ‘जोड़े के समय’ के साथ निर्धारित किए जाएँ ताकि एक योग्य संतुलन प्राप्त हो सके।

यह ज़रूरी नहीं है कि सेक्स केवल रात में ही किया जाए। बल्कि पूरे दिन के काम के बाद शायद कोई केवल आराम करना और सोना चाहता हो। दिन के समय काम, यात्रा आदि में बहुत ऊर्जा इस्तेमाल हो जाती है। इसलिए बिस्तर पर जाने के समय तक शायद पर्याप्त ऊर्जा ना बची हो।

ये भी पढ़े: क्या विवाह सेक्स के आनंद को खत्म कर देता है?

सेक्स के लिए बहुत सी ऊर्जा, उत्साह और रूची की आवश्यकता है। तो आधुनिक कामकाजी जोड़ों के साथ जो हो रहा है वह प्राकृतिक और शरीरिक है। ऐेसे मामलों में सेक्स करने का सबसे उत्तम समय सुबह का होगा। रात की एक अच्छी नींद के बाद, जब आपका शरीर/मन पूरा आराम प्राप्त कर चुका है और आप फिर से तरोताज़ा हो चुके हैं, आपको कहीं अधिक जोश और जुनून महसूस होगा। यहां तक कि कामसूत्र में वात्स्यायन ने सुबह के समय को अंतरंगता के लिए सबसे उपयुक्त समय बताया है। शारीरिक रूप से बात करने पर भी, टेस्टोस्टेरोन हार्मोन जो पुरूषों और स्त्रियों में यौन इच्छा/शक्ति/कामेच्छा के लिए ज़िम्मेदार है, सुबह के समय ही उच्चतम होता है।

इसी तरह, कुछ काम दूसरों को सौंप दिए जाने चाहिए (परिवार के सदस्य और नियुक्त किए गए सहायक), कुछ काम जो इतने आवश्यक नहीं है, उन्हें प्रतिदिन की जगह पखवाड़े में एक बार या महीने में एक बार कर देना चाहिए। ऑनलाइन खरीदारी कीजिए, परिवार वालों से मिलने के लिए यात्रा का समय इस्तेमाल कीजिए ताकि घर पर परिवार द्वारा जोड़े के समय में कोई दखलअंदाज़ी ना हो, अचानक रखी गई मांगों को नकार दीजिए, और इस संतुलन को साथ में बनाने की आवश्यकता के बारे में अपने साथी के साथ एक आपसी समझ रखें।

सेक्स में स्वाभाविकता को आवश्यकता से अधिक महत्त्व दिया जाता है और अक्सर जोड़े सेक्स रहित विवाह में फंसे रह जाते हैं क्योंकि वे स्वाभिवकता पर लटके रहते हैं। पूर्व निर्धारित सेक्स भी स्वाभाविक सेक्स जितना ही या कभी-कभी उससे भी ज़्यादा संतुष्टिदायक हो सकता है। इसलिए अंतरंगता को वापस पाने के लिए यह मिथक तोड़ना भी आवश्यक है कि सेक्स स्वाभाविक ही होना चाहिए।

मैसेजिंग एैप का उपयोग करते हुए अपने साथी के साथ अंतरंगता बढ़ाएं: ‘दोनों’ का कुछ समय निर्धारित कीजिए जैसे सुबह चाय के कप के साथ, और रात के भोजन के बाद बच्चों और स्मार्टफोन के बगैर 15 मिनट की सैर। यह ‘दोनों’ के स्थान को बरकरार रख सकता है जिससे निर्धारित अंतरंगता अत्यंत संतुष्टिदायक हो सकती है।

ये भी पढ़े: ‘‘हम प्रेम में नहीं, वासना में लिप्त हैं” उसने कहा

यदि पूर्वनिर्धारित किया गया हो तो, सप्ताह में या पखवाड़े में एक बार डेट की रात, दो महीने में एक बार सप्ताहांत के लिए दूसरी जगह जाना पूरी तरह संभव है। याद रखिए कि अंतरंगता की मात्रा से अधिक महत्त्वपूर्ण अंतरंगता की गुणवत्ता है।

scheduled-sex

मात्रा नहीं गुणवत्ता महत्त्वपूर्ण है Image Source

अंजली ने हाल ही में हमें फोन किया और हमें धन्यवाद दिया, उसके जीवन में सेक्स पुनः इस प्रकार लाने के लिए कि अब उसे किसी भी भोजन से ज़्यादा स्वादिष्ट अंतरंगता प्रतीत होती है।

(जैसा रोशनी मित्रा को बताया गया)

मीनू आर भोंसले, पीएचडी, एक परामर्श मनोचिकित्सक और सलाहकार हैं, और उनके पति राजन भोंसले, यौन चिकित्सा के परामर्शदाता एवं सलाहकार हैं। साथ मिलकर, वे एक अनूठा चिकित्सा केंद्र हार्ट-टू-हार्ट चलाते हैं, और उन्होंने एक पुस्तक लिखी है ‘दी अल्टीमेट सेक्स एज्यूकेशन गाइड’।

आपका यौन व्यवहार किस प्रकार आपके बच्चे को प्रभावित करता है – यह उन्हें परेशानी में डाल सकता है!

हमारा परिवार एक आदर्श परिवार था और फिर सेक्स, झूठ और ड्रग्स ने हमें बर्बाद कर दिया

You May Also Like

Leave a Comment

Let's Stay in Touch!

Stay updated with the latest on bonobology by registering with us.