Hindi

समयपूर्व स्खलन की वजह से मुझे अपनी मर्दानगी पर शक होता है

समयपूर्व स्खलन ने ना केवल उसके यौन जीवन को बल्कि उसके विवाह, पारिवारिक जीवन और करीयर को भी प्रभावित किया है। अपनी इस मानसिक स्थिति में, यह पुरूष अंततः एक मनोवैज्ञानिक से परामर्श प्राप्त कर रहा है।
Man Hiding Face

मेरी शादी को 20 वर्ष हो चुके हैं। सेक्स अनियमित रहा हैं जब भी हम सेक्स करते हैं, मैं नर्वस रहता हूँ। बहुत समय तक तो मैं कारण भी नहीं जानता था।

जब मैंने अपनी गर्लफ्रैंड (अब पत्नी) को डेट करना शुरू किया, तो मैं बस स्मूच या कडल करने के दौरान ही स्खलित हो जाया करता था। तब मैंने इस बात को ज़्यादा महत्त्व नहीं दिया। मेरी शादी के कुछ ही महीनों बाद मैं समझ गया था कि मैं यह ठीक से नहीं कर रहा हूँ, क्योंकि हमेशा पेनिट्रेशन के एक मिनट के भीतर ही मैं स्खलित हो जाता था और उसे कभी भी इंटरकोर्स से उचित ओर्गेज़्म नहीं मिलता था। हमने पेनिट्रेशन के बगैर उसके ओर्गेज़्म का तरीका ढूंढ लिया, इसलिए हमने कभी इंटरकोर्स के भाग पर काम नहीं किया।

लेकिन जल्द ही इंटरनेट आ गया और मैंने रीसर्च करना शुरू कर दिया और मुझे पता चला कि मुझे प्राथमिक पीई है। कई सारी बातें समझ में आने लगीं। मुझे वे शुरूआती किशोरावस्था के दिन याद आए जिसमें हम लड़कों का एक समूह एक खाली फ्लेट में पोर्न मैग्ज़ीन के पन्ने पलटता था। हम बाथरूम में मास्टरबेट करते थे और मैं यह देखकर हैरान रह जाता था कि दूसरों को कितना समय लगता है जबकि मैं बहुत जल्दी यह खत्म कर लेता हूँ।

ये भी पढ़े: मेरा सेक्स जीवन सिर्फ फोन और पोर्न के साथ है

मुझे यह भी याद आया कि हमारी सुहागरात में एक गलती वरदान साबित हुई थी। मैं केवाई जैली की जगह डीसेन्सीटाइज़िंग जैली खरीद लाया था और उसने मेरी पत्नी के लिए पहली रात दर्दरहित और डीसेंन्सीटाइज़ बना दी थी और इसलिए मेरे लिए लॉन्ग लास्टिंग बना दी थी। लेकिन दोनों में से किसी को भी मज़ा नहीं आया! और तब से ही यह आनंद रहित रहा है।

प्रत्येक सत्र के दौरान, फोरप्ले ही मुख्य कार्य बन जाता है, जहां मैं उसे ओर्गेज़्म प्राप्त करवाने के लिए सबकुछ करता हूँ। इस चरण के दौरान, मैं उसे अपने पेनिस को उत्तेजित करने से रोकने के लिए सबकुछ करता हूँ, क्योंकि इसका मतलब हो सकता है सबसे अवांछित, असामयिक स्खलन। और जबतक वह नहीं कहती मैं इंटरकोर्स शुरू नहीं करता।

समयपूर्व स्खलन

इंटरकोर्स आमतौर पर दो या तीन स्टॉप के साथ एक मिनट तक चलता है। मेरी पत्नी के लिए इसमें ज़्यादा कुछ नहीं है, क्योंकि जब- जब मैं रूकता हूँ तब उसकी रिदम टूटती रहती है। मुझे पता है उसे यह तत्काल करना पसंद है और धीमी गति से बढ़ने में उसे कोई रूचि नहीं है। इसलिए हर ब्रेक मेरे लिए शर्मिंदगी भरी मौत है। मैं घड़ी के बारे में अति जागरूक हूँ। मुझे लगता है हर सैकंड मुझे झटका देता है, हर हमला और ब्रेक मुझे उजागर करते हैं। उत्तेजना उतर जाती है। लगभग हर इंटरकोर्स मेरे सॉरी कहने के साथ समाप्त होता है। डॉगी पोज़िशन कुछ राहत प्रदान करती है क्योंकि कम से कम वह मेरा चिंतित चेहरा तो नहीं देख पाती।

सबसे बुरा भाग तो कार्य खत्म करने के बाद आता है; मैं कपड़े पहनता हूँ, उसके साथ आई कॉन्टेक्ट करने से बचते हुए, यह आशा करते हुए कि किसी दिन सेक्स स्खलन के खिलाफ ऐसी तनावपूर्ण लड़ाई नहीं होगी। किसी दिन यह खुशी, अंतरंगता और मर्दानगी की भावना के बारे में होगा।

पीई ने मुझे शक्तिहीन कर दिया है। इसकी वजह से मुझे ऐसा लगता है कि मैं सेक्स करने के योग्य नहीं हूँ। मेरे पास वे अधिकार नहीं हैं जो असली पुरूषों के पास होते हैं। बेडरूम में मैं कुछ भी नहीं मांगता। मैं क्षमा मांगता हूँ।

ये भी पढ़े: उसकी पत्नी की साफ सफाई ना रखने की आदत की वजह से उनका तलाक हो गया

रिश्ते गुदगुदाते हैं, रिश्ते रुलाते हैं. रिश्तों की तहों को खोलना है तो यहाँ क्लिक करें

पीई मुझे बेडरूम के बाहर भी प्रभावित करता है। हमारी शादी और पारिवारिक जीवन में, बड़े निर्णय वही लेती है क्योंकि मैं तर्क नहीं दे सकता हूँ या फिर अपनी बात प्रभावी ढंग से नहीं कह पाता हूँ या झगड़े के दौरान अपने लिए आवाज़ नहीं उठा पाता हूँ। जीवनभर के निष्क्रिय व्यवहार ने मुझे क्रोधित और चिड़चिड़ा बना दिया है।

पीई मुझे तुच्छ महसूस करवाता है। किसी स्त्री की तवज्जो मुझे मधुमक्खी की तरह डंक मारती है। ‘‘हे भगवान! क्या हो अगर मुझे इसके साथ सोना मिले और इसे पता चल जाए?’’ एक्सपोज़र का यह डर आमतौर पर औरतों के साथ मेरी बातचीत को प्रभावित करता है। मुझे डर लगता है। मुझे ऐसे दुः स्वप्न आते हैं कि मैं सड़कों पर नंगा खड़ा हूँ और लोग मुझ पर हंस रहे हैं।

ये भी पढ़े: उसकी पत्नी की साफ सफाई ना रखने की आदत की वजह से उनका तलाक हो गया

पीई हर अच्छी अक्रामकता और दृढ़ता को दूर कर देता है जो हारे बिना जीवन जीने के लिए ज़रूरी होती है। काम पर मैं अपनी देनदारी कभी नहीं मांगता या अपने अनुसार चीज़ें करने का आग्रह नहीं करता हूँ।

मुझे हमेशा दिन में कई बार अपने कानों में आवाज़ सुनाई देती है ‘‘लूज़र”

पिछले कुछ वर्षों में मैंने क्रीम से लेकर कीगल एक्सरसाइज़ और प्राणायाम से लेकर शराब तक सब कुछ आज़माया है। अब मेरे मनोचिकित्सक ने मुझे पोर्न देखना बंद करने की सलाह दी है और वादा किया है कि मेरे एंटी-डिप्रेसेंट्स मदद करेंगे। मुझे उनके काम करने का इंतज़ार है।

(जैसा नीलू सिंह को बताया गया)

महिलाएं अपने पसंदीदा सेक्स वीयर के बारे में बताती हैं

क्या भारतीय अपने शरीर और सेक्स को लेकर अनजान हैं?

सेक्स के दौरान इन गलतियों से बचें

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No