Hindi

सेक्सहीन विवाह – खोई हुई उम्मीद कैसे जगाएं?

क्या सेक्सहीन विवाह का जीवित रहना संभव है?
सेक्सहीन विवाह में अंतरंगता लाने के ये ८ नुस्खे

एक सुखी विवाह खुशियों का पिटारा है और हर जोड़ा अपने जीवन के हर मोड़ पर कुछ ज़िम्मेदारियां निभाता है और समय के साथ विकसित होता है। परिपक्व व्यक्ति अच्छे समय का आनंद लेते हैं, संघर्षों के माध्यम से मार्ग बनाते हैं और इसे एक लंबे समय तक चलने वाला संबंध बनाने के लिए कई बाधाओं को पार करते हैं। इन बाधाओं में सेक्सलेस विवाह नाम का जोखिम भी शामिल है। अगर सेक्स नहीं होगा तो क्या जोड़े की अन्डरस्टैंडिंग पहले की तरह बनी रह सकती है? हाँ, अगर सेक्स को रोकने का निर्णय पारस्परिक है, तो यह स्थिति ठीक है। लेकिन जब एक साथी सेक्स करना चाहता है और दूसरा नहीं चाहता, तो यह विवाहित संरेखण विफल रहता है और रिश्ते को अपरिवर्तनीय क्षति पहुंचाता है।

ये भी पढ़े: वह दो साल से मेरी गर्लफ्रैंड है लेकिन उसे हल्का सा भी शारीरिक स्पर्श पसंद नहीं है

जिन जोड़ों ने महीनों/ वर्षों से सेक्स नहीं किया है, वे झगड़ों और कहा-सुनी की ओर प्रवृत्त हो जाते हैं। हालात इस हद तक खराब हो जाते हैं कि वे सिर्फ बच्चों और परिवार के लिए साथ में रहने लगते हैं, जैसे कि एक रूममेट प्रकार की व्यवस्था में दो लोग घर बांटते हैं। इन सभी समस्याओं के परिणामस्वरूप सेक्सहीन विवाह विकसित होता है। इस संकट से विवाह को बचाने के समाधान ढूंढने से पहले, आइये नीचे दिए गए वाक्यों से समझें की सेक्सहीन विवाह होता क्या है।

एक सेक्सहीन शादी क्या है?

एक सेक्सहीन विवाह मिथक नहीं है। ड्राय स्पेल एक वास्तविकता है जिसका सामना दुनिया भर के लाखों जोड़े कर रहे हैं। संख्याओं के संदर्भ में, अगर सेक्स एक साल में दस बार से कम होता है तो मतलब वह अंतिम प्राथमिकता है। अगर अंतरंगता नहीं होती है, तो कई पति-पत्नी बातचीत करने और भावनाएं व्यक्त करने के लिए संघर्ष करते हैं और बहुत सी परेशानियों और समस्याओं से ग्रस्त हो जाते हैं। वे नौकरी, घर के काम, बच्चे और सास-ससुर के प्रति अपनी ज़िम्मेदारियों में इतने ज़्यादा डूब जाते हैं कि साथी की ज़रूरतों को नज़रंदाज़ कर देते हैं। लेकिन आप बेडरूम में सेक्स की कमी के लिए सिर्फ व्यस्त जीवनशैली को ही दोष नहीं दे सकते। यह असंगतता सेक्स के लिए मनाही में बदल जाती है। साथी की आदतों के प्रति कम सहनशीलता, दबा हुआ गुस्सा, अंह का टकराव, और झगड़े भी वैवाहिक अंतरंगता को कम करते हैं। बाद में, दूरी और बढ़ जाती है जब साथी मूड समस्या, थकान आदि का हवाला देकर अंतरंगता के लिए मना करते हुए एक दूसरे पर ‘सेक्स स्ट्राइक’ करते हैं।

ये भी पढ़े: क्या होता अगर मुझे अपने पति के धोखे के बारे में पता ही नहीं चलता?

वल्नरेबल साथी, अगर लंबे समय तक इस ड्राय स्पैल के संपर्क में रहते हैं, तो वे रिश्ते के अवसाद से पीड़ित हो सकते हैं और बहुत सी गलतफहमियों का हिस्सा बन सकते हैं। यह ना केवल जीवन की गुणवत्ता को कम करता है बल्कि बहुत अधिक मानसिक आघात भी लाता है। भारतीय संदर्भ में, लंबे समय तक एक साथी को सेक्स के लिए मना करने को मानसिक उत्पीड़न माना जाता है। कभी-कभी इस रोष का सामना करने वाले जोड़े चुप रहने और स्थिति को झेलने का फैसला करते हैं। लेकिन आजकल, उनमें से कई लोग एक वंचित वैवाहिक जीवन जीने की बजाए अंतरंगता रहित विवाह के बारे में बात करने की हिम्मत जुटा रहे हैं। यह देश में तलाक की दर में वृद्धि का भी एक कारण है। लेकिन कुछ संकेत हैं जो सेक्सहीन विवाह की खैफनाक छाया की ओर इशारा करते हैं जिसे हम अगले खंड में एक्सप्लोर करेंगे।

रिश्ते गुदगुदाते हैं, रिश्ते रुलाते हैं. रिश्तों की तहों को खोलना है तो यहाँ क्लिक करें

सेक्सहीन विवाह के कारण

    1. ‘वी टाइम’ ना होनाः यह विवाह में ड्राय स्पैल का सबसे आम कारण है। वे साथी जो लंबे समय तक एक दूसरे से ज़्यादा ध्यान पारिवारिक ज़िम्मेदारियों और कैरियर को देते हैं वे इस कारण की वजह से बहुत ज़्यादा पीड़ा झेलते हैं। बेडरूम में स्मार्ट गैजेट्स की घुसपैठ ने जोड़ों के लिए गुणवत्ता वाले ‘वी टाइम’ का आनंद लेने के लिए एक और चुनौती खड़ी कर दी है। काम के बाद सोशल मीडिया पर होना, टीवी देखना, कुछ अन्य विकृतियां हैं जो उन्हें दीर्घकालिक संबंधों के लिए आवश्यक गुणवत्ता कनेक्शन से दूर रखती हैं।

ये भी पढ़े: “क्या हम मिलें?”

    1. प्राइवेसी ना होनाः प्राइवेसी की वजह से भारतीय जोड़ों को बहुत सी समस्याएं आती हैं। परिवार में बुज़ुर्गों और बच्चों की देखभाल करते हुए उन्हें अपनी स्पेस पाना मुश्किल लगता है। कई बार, बच्चे अपनी माँ को दूर नहीं जाने देते, जिससे सेक्सहीन विवाह में ड्राय स्पैल की प्रवृत्ति बढ़ जाती है।
    2. सेक्स को एक दैनिक काम के रूप में देखनाः ऐसा तब होता है जब दोनों में से एक साथी अपने यौन संबंध में सेचुरेशन स्तर तक पहुंच चुका हो। आमतौर पर, गर्भावस्था के बाद महिलाओं को संभोग के दौरान अपनी यौन गति को वापस पाना मुश्किल लगता है। इस समय तक, साथी एक दूसरे को पूरी तरह से जान चुके होते हैं। उनकी नाराज़गी, आलोचना, दोषारोपण और नकारात्मक बातचीत भी सेक्स के दौरान गुणवत्ता पूर्ण समय की उम्मीद खत्म कर देते हैं। कई बार बचपन में यौन शोषण या सेक्स को गंदे काम के रूप में देखने के मनोवैज्ञानिक कारण कई पति और पत्नियों के बीच कम्फर्ट ज़ोन को अवरूद्ध कर देते हैं। ये सभी कारण उन्हें एक दूसरे के साथ अपनी यौन संगतता को एक्सप्लोर करने से रोकते है
    3. स्वास्थ्य कारणः नवविवाहितों के मामले में, वेजाइनल पूअर ल्यूब्रीकेशन के कारण डिस्पैर्यूनिया और स्पास्म्स जैसे विकार महिलाओं के लिए संभोग को एक दर्दनाक कटु अनुभव बनाते हैं। गर्भावस्था के बाद स्वस्थ होना, उम्र बढ़ना, कुछ दवाओं के साइड इफेक्ट्स महिलाओं की सेक्स ड्राइव को कम करते हैं। गर्भनिरोधक गोलियाँ और एंटीडिप्रेसेंट भी महिलाओं की कामेच्छा को प्रभावित करते हैं। पुरूषों की भी अपनी स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं जो उनकी यौन अंतरंगता में बाधा डालती हैं। इसमें हार्ट रिस्क, पुरूष यौनांग में रक्त प्रवाह की कमी, रूमेटोइड गठिया, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन आदि शामिल हैं। ये सभी स्वास्थ्य समस्याएं जोड़ों को गुणवत्ता सेक्स कनेक्शन का आनंद लेने से रोकती हैं।

ये भी पढ़े: जानिए कि पुरूष और स्त्रियां सेक्स को कितनी अलग तरह से देखते हैं

  1. यौन बातचीत शुरू नहीं करनाः सहमति का कानून जहां एक साथी बार-बार यौन बातचीत से इनकार करता है, पहल करने वाले के आत्मविश्वास को मिटा देता है। अगर यह एक पैटर्न बन जाता है, तो लंबे समय से विवाहित जोड़े यौन संपर्क बनाने में संकोच करते हैं

improve intimacy in marriage

एक सेक्सहीन विवाह में अंतरंगता सुधारने के लिए 8 उपाय

एक रिलेशनशिप की तरह शादी भी ‘वर्क इन प्रोगेस’ है। अगर जोड़े एक साथ इस वास्तविकता का सामना करते हैं और उनकी उम्मीद को कम कर लेते हैं, तो वे वास्तव में एक सेक्सहीन विवाह को सुधार सकते हैं और अपने रिश्ते में खोए हुए स्पार्क को फिर से प्राप्त कर सकते हैं। याद रखें, उद्देश्य सिर्फ अंतरंगता में सुधार करना ही नहीं है बल्कि पति और पत्नी के मतभेद दूर करना और एक सशक्त विवाह में विकसित होना भी है। अंतरंगता पर काम करते समय दोनों तरफ से थोड़ी सावधानी बरतने से वास्तव में एक सुखी विवाह की शुरूआत हो सकती है। आइये अंतरंगता को सुधारने और बॉन्डिंग बढ़ाने के लिए ऐसे आठ जीवन बदलने वाले उपाय ढूंढते हैं।

ये भी पढ़े: क्या करें आप का प्यार एकतरफा हो?

    1. ‘वी टाइम’ के लिए रास्ता बनाइयेः सेक्स आपके रिश्ते के लिए एक प्रमुख चीज़ है और किसी भी डिस्ट्रेक्शन से दूर ‘वी टाइम’ इसके लिए रास्ता बनाता है। अध्ययन के अनुसार, सबसे सुखी जोड़े हर हफ्ते अंतरंगता को प्राथमिकता देते हैं और एक जोड़े के रूप में अपने विकास का आनंद लेते हैं। इसलिए सेक्स के लिए कम से कम सप्ताह में एक बार समय निकालें और आने वाले कई वर्षों तक रिश्ते की पूर्ण संतुष्टि का आनंद लें।
    2. एक साथ गतिविधियों की योजना बनाएं: गतिविधियों में साथ में भाग लेकर अपने बॉन्डिंग समय को बढ़ाएं। किसी भी ज़िम्मेदारी के बिना क्वालिटी समय का मज़ा लें। हो सकता है एक घंटे जिम जाने या जॉगिंग पर जाने से आपका रिश्ता हमेशा से कहीं ज़्यादा फिट हो जाए। देर रात की ड्राइव आप दोनों के लिए तनाव दूर करने का एक आदर्श तरीका हो सकता है। लुप्त हो चुके कपल कनेक्शन को फिर से जागृत करने के लिए बॉलरूम नृत्य सत्र में नांमांकित करें। या एक एक्सोटिक जगह की यात्रा करने की योजना बना लें। बस ऐसा कुछ करें जो आप दोनों को नियमित रूप से एकसाथ रखे और देखें की अंतरंगता में सुधार करने में यह आपकी सहायता कैसे करता है।

ये भी पढ़े: मेरा बॉयफ्रेंड प्यार दिखाता है, मगर फिर शादी से मुकरता है.

    1. टची-फीली अंतरंगताः जब जोड़े अलग हो जाते हैं, वे घनिष्ठता के एक महत्त्वपूर्ण तत्व को खो देते हैं, जो है स्पर्श। हमारे बोनोबोलॉजी सलाहकार अपने जीवन में स्पर्श चिकित्सा शामिल करने का सुझाव देते हैं। शुरू करने के लिए, आप दोनों को एक दूसरे का हाथ पकड़ने और सोल गेज़िंग में शामिल होना चाहिए। प्रारंभ में, आपको लगता है कि यह अजीब हो रहा है लेकिन संकोच मत करो और हार मत मानों। इसे एक बार आज़माओं। आप अपनी पलकें झपका सकते हैं लेकिन एक दूसरे से बात करने से बचें। आपको अहसास होगा कि शादी के बाद, आप अपने साथी को नोटिस करने और उसकी प्रशंसा करने में विफल रहते हैं। संक्षेप में, आप उस व्यक्ति को अनदेखा करते हैं जिससे आपको प्यार हुआ था। यह अभ्यास खोई हुई अंतरंगता और कनेक्शन को कुशलतापूर्वक पुनः स्थापित करने में आपकी मदद कर सकता है। जब भी आपको समय मिले, इसमें कडल और आलिंगन भी जोड़ लीजिए। जब भी आपको समय मिले तब एक दूसरे के प्रति विश्वास और भरोसे को फिर से प्राप्त करने के लिए एक दूसरे का हाथ पकड़ें। इससे आप दोनों विशेष महसूस करेंगे और यह आपके अंतरंग रिश्ते के लिए चमत्कारिक काम करेगा।
    2. अपने साथी की बात सुनें: विवाहित व्यक्तियों के रूप में, हम चाहते हैं कि हमारी बात सुनी जाए लेकिन हम अपने साथी की बात सुनने में विफल रहते हैं। यह सभी गलतफहमियों, परेशानियों और समस्याओं का मूल कारण है। संक्षेप में, हम अच्छे संचार की कला भूल जाते हैं। बिना किसी बाधा के अपने साथी की बात सुनने से उन्हें अपने भीतर बंद भावनाओं को व्यक्त करने का एक रास्ता मिलेगा और नियमित आधार पर एक दूसरे से जुड़ने में मदद मिलेगी। जब वह अपनी चेतना की निर्बाध धारा को बाहर निकाले तब उनके साथ आई कॉन्टेक्ट करें और सहानुभूति ज़ाहिर करने का प्रयास करें। यह गतिविधि उन्हें लंबे समय तक मान्य और केयर्ड महसूस करवाएगी।
    3. अपने स्मार्टफोन से दूर रहें: मानो या ना मानो, स्मार्टफोन ने कपल कनेक्शन को पूरी तरह से खत्म कर दिया है। कई बार, हम देखते हैं कि पत्नी अपने व्यस्त पति से बात कर रही है, दूसरे शब्दों में, पति अपनी मोबाइल की दुनिया में खोया हुआ है। परिणामस्वरूप, आपके साथी को महसूस होता है कि उसे नज़रंदाज़ किया जा रहा है, जो आपके विवाह में असंतोष ला सकता है। एक व्यवहार्य समाधान है अपने स्मार्टफोन को दूर रखना, नोटिफिकेशन्स को अनदेखा करना और रिश्ते में होने की पारस्परिक संतुष्टि का आनंद लेना।
    4. अपने साथी के स्वास्थ्य में सहयोग करें: अपने जीवनसाथी के संघर्षों को समझें और आवश्यकता के समय उनके साथ रहें। शादी का मतलब नियंत्रण की भूमिकाएं बदलना ही है। कभी-कभी, जब आपके साथी की सेहत ठीक नहीं है या उसे कुछ पीड़ादायक यौन समस्याएं हैं, तो उससे बात कीजिए और एक विशेषज्ञ की सलाह लीजिए। यह देखने के लिए भावनात्मक रूप से उनके साथ रहें कि उनका रिश्ता दूसरे स्तर तक कैसे पहुंचता है।

ये भी पढ़े: वो आहत करने वाली बातें जो हम प्यार में बोलते हैं

  1. अक्सर धन्यवाद कहें: शादी के बाद, हम अक्सर अपने साथी को अनदेखा करना शुरू कर देते हैं और उन्हें हल्के में लेने लगते हैं। यह एक रिश्ते के लिए संक्षारक है। बड़ी और छोटी कोशिशों के लिए अपने साथी का शुक्रिया अदा करते हुए कृतज्ञता व्यक्त करना उन्हें बहुत आवश्यक सम्मान और तवज्जो देता है। इसके अलावा, एक अध्ययन के अनुसार, साथी को धन्यवाद देना और उसकी सराहना करना भी एक विवाह को सुधारने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।
  2. अपने साथी को डेट कीजिएः यह समझ लीजिए कि आपका साथी जीवनभर के लिए आपकी डेट है। छोटी कोशिशों द्वारा उसे वांछित महसूस करवाएं। एक डेट प्लान करें और गुणवत्तापूर्ण समय बिताएं।

अंतरंगता का विवाहित जीवन पर एक गहरा प्रभाव पड़ता है और यह ‘सेक्सहीन विवाह’ नाम के संकट को आसानी से जीत सकता है। हाँ, एक सेक्सहीन विवाह में भी उम्मीद है, बशर्ते जोड़े स्थिति का प्रभार लें और फिर वे देखेंगे कि रिश्ता समझ, विश्वास और प्यार के नए आ

5 पुरूष अपने सबसे अच्छे वन नाइट स्टैंड अनुभव साझा करते हैं

जब मैंने मेरे लिव इन बॉयफ्रैंड को किसी और के साथ देखा

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No