शादी की बात करते ही प्रेमी ने रिश्ता तोड़ लिया

sad lady in black and white

प्रश्न:

प्रिय मैम,

 

मैं फिलहाल अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रही हूँ और २२ साल की हूँ. मैं एक मध्यम वर्गीय परिवार की दक्षिण भारतीय लड़की हूँ और अपने माँ पिता की अकेली संतान हूँ. मेरे पिता रिटायर हो चुके हैं और मेरी माँ अभी काम करती हैं. मैं अपने माँ पिता का बहुत सम्मान और उनसे बहुत प्यार करती हूँ.

मेरी मुश्किल ये है की मैं अपने अण्डरग्रेजुएट के फाइनल वर्ष में एक लड़के से प्रेम कर बैठी. हम दोनों एक दुसरे को शुरू से ही बहुत अच्छे से समझते थे, तब भी जब हम ज़्यादा बातें नहीं कर पाते थे. ये सब सोशल मीडिया से शुरू हुआ था. हम दोनों के बीच की कड़ी थी सोशल मीडिया और उसी कड़ी ने हम दोनों को करीब कर दिया. वो अपने ग्रुप में सबसे ऊपर की पोजीशन पर था और मैं उसकी एक मेंबर थी. वो भी अपने माँ पिता की एकलौती संतान है और उसके पिता का देहांत हो चूका है.

ये भी पढ़े: हमने एक बड़ा सुखी परिवार बनाने के लिए दो परिवारों को किस तरह जोड़ा

मैंने कई बार अपने आप से पुछा है की कही मेरा ये प्यार असल में सहानुभूति तो नहीं है मगर मन ने हमेशा साफ़ इंकार किया है. मैं उसे सच में प्रेम करती हूँ.

हम कई बार कॉलेज की मीटिंग में मिले, ऑनलाइन चैटिंग की और फिर हम दोनों ने एक दुसरे के साथ काफी समय बिताना शुरू कर दिया. वो पहला पुरुष है जिसकी तरफ मैं यूँ आकर्षित हो गई हूँ और मैं उसे अपने पति के रूप में देखना चाहती हूँ.

मगर मेरे ये सारे सपने मेरे UG की पढ़ाई ख़त्म होते ही ख़त्म होने लगे. अचानक वो बदल गया. वो मुझे जिस तरह पहले सपोर्ट करता था, वो बिलकुल गायब हो गया. अब वो मुझे कहने लगा की उसका संयुक्त परिवार किसी भी कीमत पर मुझे स्वीकार नहीं करेगा. उसने मुझे जीवन भर के लिए अकेला छोड़ दिया है. अब वो न तो मुझसे सगाई करना चाहता है और न ही किसी भी तरह का वादा या कमिटमेंट. उसके अलावा किसी और को अपना जीवनसाथी के रूप में मैं किसी को देखने की कल्पना भी नहीं कर सकती. इसके अलावा मुझे इतना अपराधबोध महसूस होता है अपने परिवार और अपने भावी पति के लिए. मैं बहुत डिप्रेस रहती हूँ. मुझे अब अपने करियर के बारे में सोचना चाहिए मगर मैं इस गिल्ट के कारण कुछ भी नहीं सोच पाती.

ये भी पढ़े: पति और एक्स के सैक्स्ट पढ़ पत्नी ने लिया ये अनूठा कदम

शुरू में सब कुछ ठीक था. हम दोनों एक ही जाती के थे. वो मुझसे तीन महीने छोटा है और शुरू में जब मैंने उसे कहा था की क्योंकि वो मुझसे छोटा है, हम दोनों शादी नहीं कर सकते हैं, तब उसने मुझे सांत्वना देते हुए कहा था की जब शादी करेंगे तो सब सही हो जाएगा.

अब जब कुछ याद करती हूँ तो लगता है शायद सच्चा प्यार बस तकलीफ और दुःख ही देता है और ज़िन्दगी भर के लिए आपके दिल को तोड़ देता है. ये पहली बार है की मैं किसी से मदद की गुहार लगा रही हूँ. उम्मीद करती हूँ की मुझे सही सलाह मिलेगी जिसे अमल कर मैं अपनी ज़िन्दगी को फिर से बेहतर बना पाऊँगी.

धन्यवाद

जेसिका बेकर कहती हैं:

ये बहुत ही सराहनीय है की आपको पूरी स्तिथि की बिलकुल सही तस्वीर दिख रही है. ये भी अच्छी बात है की शादी के बारे में उसके विचार को लेकर भी आपको कोई भ्रम नहीं है. उसका परिवार उसके लिए नया नहीं है. उसे शुरू से ही पता था की उसका परिवार किसे स्वीकार करेंगे और किसे नहीं.

उसके इस रवैए से ये तो साफ़ है की अपने परिवार में उसके फैसले की कोई कदर नहीं है. उसकी जीवनसंगिनी कैसी हो, इसका फैसला उसके परिवार ने उसके लिए बहुत पहले ही कर दिया है. इसलिए वो इस मामले में कमज़ोर है. मगर दुःख की बात ये है की सब कुछ जानने के बावजूद उसने आपसे रिश्ता आगे बढ़ाया और आपको झूठ बोल कर बहकाया. और अब जब बात शादी की आयी तो उसने साफ़ मना कर दिया बिना अपने परिवार से कुछ भी पूछे या सलाह किये.

ये भी पढ़े: मेरे ससुराल वालों ने हमें अपने घर से बाहर निकलने के लिए कहा

इन बातों को सोचकर तो लगता है की उसे शुरू से ही पता था की इस रिश्ते का अंत शादी नहीं है और वो सिर्फ कॉलेज के दिनों में यूँ ही मजे के लिए आपसे रिश्ते में बंधा था. अगर वो सच में संजीदा होता तो कम से कम कोशिश तो करता अपने परिवार को मनाने की. ऐसे हालात में हम कह सकते थे की वो आपसे प्यार करता है. मगर अभी की स्तिथि देख कर तो लगता है की आप दोनों का अफेयर उसके लिए बस कॉलेज के दिनों की मौजमस्ती के लिए ही था.

आप अपनी तरफ से इस रिश्ते को सुधारने की कोई भी कोशिश न करें क्योंकि प्यार में बस आप ही हैं. उसके कारण जानने की भी ज़रुरत नहीं है क्योंकि ये साफ़ है की उसके पास फैसला लेने का कोई अधिकार नहीं है.

आप अपने मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान दें. अगर आप अभी किसी और से शादी करने के बारे में सोच नहीं सकती है तो अभी आप शादी के बारे में मत सोचें. अभी आप अपने करियर के बारे में सोचे. एक बार ये प्रसंग और ये व्यक्ति आपके जीवन से निकल गया, तो आप कहीं बेहतर तरीके से सोच पाएंगी. और माना की ये रिश्ता सफल नहीं हुआ मगर याद रहे, आपको ज़िन्दगी भर के लिए एक अच्छा सबक मिल गया है.

आपका प्यार एकतरफा था और आपने शायद सच मान लिया. वो असल में आपकी भावनाओं के साथ खेल रहा था.

इसे सच्चा प्यार समझने की गलती न करें.

अपना ख्याल रखियेगा.

सप्रेम

जेसिका बेकर

भारत में वैवाहिक बलात्कार की गंभीर सच्चाई

मैं एक विवाहित पुरूष से प्यार करती हूँ जो तीन स्त्रियों को बराबरी से चाहता है। मैं उसे प्यार करना कैसे बंद करूं?

क्या मैं अपने पति को बता दूँ कि मैंने उन्हें धोखा दिया?

Hindi counselling

Tags:

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website.