स्त्रियां स्वयं से ये 5 झूठ बोलती हैं जब वे एक विवाहित पुरूष के प्यार में पड़ती हैं

Anney Sam
priyanka chopra

पुरूष धोखा क्यों देते हैं?

“पुरूष उसी कारण से धोखा देते हैं जिस वजह से कुत्ते अपनी बॉल्स चाटते हैं….क्योंकि वे ऐसा कर सकते हैं।” सेक्स एंड दि सिटी- 2 में सामंथा कहती है। यकीन मानिये, यही क्वोट इस लेख के मूड पर सबसे सही बैठता है। ऐसे कई पिता हैं जो कहते हैं कि पुरूषों को हर तरह का मज़ा कर लेना चाहिए लेकिन वे यह उल्लेख नहीं करते कि वे ऐसा करना कब बंद करेंगे। क्षमाशील माताएं कहती हैं ‘‘ओह लड़के तो लड़के रहेंगे” और यह गाथा कई ‘दूसरी’ महिलाओं के बारे में चलती ही रहेगी जो भ्रमित और निराश हो रही हैं, साथ ही बहुत दुखी भी। इसी बीच वे इस विवाहित पुरूष के ‘‘प्यार” के भ्रम में कई झूठ गढ़ लेती हैं जिसने उसे अपने वश में कर लिया है।

विवाहित पुरूष के साथ प्यार में पड़ने की कल्पना में शामिल होने वाली सभी स्त्रियां को मेरा सुझाव है कि खुद को उसकी मौजूदा, वास्तविक पत्नी की जगह पर रख कर देखें। शायद आपको कुछ समझ आ जाए। उसके बाद सेक्स का आनंद लेना, प्रोटेक्शन का इस्तेमाल करना और गुडबाय या (और गेट आउट) कहना। लेकिन अधिकांश स्त्रियां जो एक विवाहित पुरूष का जीवन बर्बाद करने के बुरे आचरण में शामिल हो जाती हैं उन्हें इन दो चीज़ों का अहसास नहीं होताः

  1. कि सभी पुरूष, विवाहित या अविवाहित, सिर्फ उसके साथ सेक्स करने की कोशिश कर रहे हैं। यहां पर रोमांस के लिए कोई स्थान नहीं है!
  2. वह सिर्फ एक अच्छा सेक्स और कुछ नवीनता चाहता है – वह एक और शादी नहीं चाहता है।

दूसरी औरत स्वयं से ये कुछ झूठ कहती है इस भम्र में पड़कर कि यह एक अच्छी चीज़ है।

  1. उसकी पत्नी में ही कुछ खराबी होगी, वह धोखा दे रहा है उसमें उसकी पत्नी की ही गलती है।

बडे़ पैमाने पर लोग इस धारणा को मानते हैं, और वह व्यक्ति जो इस झूठ के साथ खुद को सांत्वना देता है, वह कुख्यात ‘दूसरी औरत’ है। वह पहले से ही शराफत की अदृश्य रेखा पार कर चुकी है। वह अपने मन में उन सभी सवालों को तर्कसंगत बना लेती है जो उसके मन में उसके विवाहित प्रेमी के लिए हैं। अगर उसकी शादी में सब ठीक चल रहा है तो वह मेरे साथ क्यों है? ज़रूर वह बूढ़ी, उबाऊ, बदसूरत या पज़ेसिव होगी….और वह जस्टीफाई कर देती है कि वह इन सभी मानदंडों की क्षतिपूर्ति कर देती है। उसके दिमाग में कभी यह बात नहीं आती कि उसके सवाल का जवाब यह है ‘‘क्योंकि तुम उपलब्ध थी।”

  1. मैं कुछ भी गलत नहीं कर रही हूँ, वह अपने विवाह के लिए खुद ज़िम्मेदार है

“विवाहित मैं नहीं हूँ – वह है।” वह सहानुभूति के साथ कहती है ‘‘मैं किसी को धोखा नहीं दे रही, चिंता उसे करनी चाहिए, मैं किसी के प्रति जवाबदेह नहीं हूँ”, ‘‘दूसरी औरत” तर्क देती है। यह इस तरह है जैसे बिल्ली पड़ोसी के किचन से दूध चुराते समय अपनी आँखें कस कर बंद कर लेती है, इस आशा में की कोई भी उसे चोरी करते हुए नहीं देखेगा।

  1. मुझे यकीन है कि वह उसे तलाक दे देगा और उसके बाद हम खुशी से जीएंगे

प्यार में पड़ना अपने आप में एक लत की स्थिति है – मस्तिष्क में प्रकाशित होने वाले तंत्रिका नेटवर्क वही हैं जो नशीले पदार्थों, शराब और चोकलेट से ट्रिगर होते हैं। और ड्रग्स के मामले की ही तरह, मस्तिष्क को उत्साह के अगले स्तर तक पहुंचने के लिए और अधिक चाहिए होता है। तो ‘ज़्यादा’ के उन्माद में ‘दूसरी औरत’ घर बसाने की प्रवृत्ति में बह जाती है और अपना खुद का प्यार भरा नीड़ बनाने लगती है। अपनी हार्मोनल प्यास में अंधी होकर वह यह महसूस ही नहीं कर पाती कि वह अपनी पत्नी के साथ पहले ही यह सब कर चुका है। झूठ और आत्म-धोखे के इस दुष्चक्र में, कुछ महिलाएं अपना परिवार शुरू करने के लिए एक सुखी परिवार को नष्ट करने की इच्छा रखती है।

  1. मुझे यकीन है कि वह मुझे कभी धोखा नहीं देगा, आखिरकार वह मुझसे प्यार करता है

कहीं ना कहीं, सुस्पष्टता के पलों में दूसरी औरत स्पष्टता से इस चिंता का सामना करती है – वह मुझसे प्यार करता है इसलिए वह मुझे धोखा नहीं देगा? और भीतर से हल्की सी आवाज़ आती है ‘‘लेकिन उसने अपनी पत्नी को धोखा दिया, तो अगला नंबर तुम्हारा हो सकता है।” जो लगभग हमेशा सच होता है। जैसे शुतुरमुर्ग हर बार खतरा महसूस होने पर अपना सिर रेत के नीचे छुपा लेता है, वह खुद को भ्रमित करती है कि वह उसके प्रति वफादार होगा। बेचारी भ्रमित दूसरी औरत!

  1. अब जब हम एक दूसरे से प्यार करते हैं, मैं उसके बच्चे को जन्म देना चाहती हूँ

अधिकांश सिंगल पुरूषों को ‘‘आई लव यू” कहना बेहद मुश्किल लगता है। हालांकि, जैसे ही विवाहित पुरूष उसकी पत्नी को धोखा देने लगता है, वह दूसरी औरत को इतना ज़्यादा आई लव यू बोलने लगता है जैसे उसे अपनी बेवफाई जारी रखने के लिए कोई उपाय मिल गया हो। इसी बीच दूसरी औरत अपने विवाहित प्रेमी के साथ नए जीवन के वादों के सपनों में खोई रहती है। यह विशेष रूप से दूसरी औरत की ओर से मैनिपुलेटिव है, वह गर्भनिरोधक गोली लेना बंद कर देगी और कंडोम का इस्तेमाल बंद करने पर भी ज़ोर देगी, क्योंकि भले ही वह अपने बच्चों से प्यार करता हो, लेकिन वह उसके बच्चों के लिए इनकार नहीं कर सकता। है ना? नहीं! यह झूठ ही वह कारण है जिसकी वजह से विवाहेतर संबंध ज़्यादा टिकते नहीं हैं। विवाहित पुरूष डर कर भाग जाता है।

हालांकि बॉलिवुड पीव्हायटी (सुंदर लड़कियां) के उदाहरण से भरा पड़ा है जो एक भूमिका पाने के लिए मोटे भद्दे प्रोड्यूसर और डायरेक्टर के साथ सोने का फैसला करती हैं और उनका लालच परिवारों के टूटने, दुख और असफल बच्चों का कारण बनता है। अगर ये लड़कियां ऐसा नहीं सोचती कि मुंबई का समुद्र अकेली मछलियां से भरा पड़ा है, तो इससे बचा जा सकता था। यह एक नैतिकवादी न्यायिक वक्तव्य नहीं है – बस इसके बारे में सोचें – एक विवेकशील रखैल कम विनाशकारी होती अगर वह पहले से विवाहित पुरूष से शादी करने की इच्छा नहीं रखती तो।

You May Also Like

Leave a Comment

Login/Register

Be a part of bonobology for free and get access to marvelous stories and information.