Hindi

सुखी विवाह के लिए ये सरलतम 9 नियम

शादी के 9 साल बाद, प्रेरणा के पास सभी विवाहित जोड़ों के लिए 9 महत्त्वपूर्ण सलाह हैं
holding-hands-after-marriage

मेरे विवाहित जीवन के नौ वर्षों में, मैंने निम्नलिखित नौ स्वर्णिम नियम सीखें हैं जो एक सुखी विवाह की कुंजी है। हालांकि कुछ मेरे और मेरे पति के व्यक्तिगत संबंधों के लिए ही विशिष्ठ हैं, फिर भी मुझे लगता है कि अधिकांश विवाहों के लिए विषय साझा और मान्य है।

1. यह सबसे ज़्यादा महत्त्वपूर्ण संबंध है

A-couple-in-love

यह संबंध संभवतः हमारे जीवन का सबसे लंबा संबंध होगा और इसे सबसे अधिक प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

और हमें इसे इसी तरह मानना चाहिए। हमारा विवाह उन सब रिश्तों से ज़्यादा ज़रूरी है जिन्हें हम दूसरों के साथ साझा करते हैं चाहे वो हमारे दोस्त हों, सहकर्मी हों, परिवार हो या यहां तक की हमारे बच्चे भी। क्योंकि हमारे बच्चे यह समझते हैं, यह वास्तव में उनकी स्वयं की सुरक्षा बढ़ाने में मदद करता है।

ये भी पढ़े: 6 संकेत की आपका साथी आपसे सच में प्यार करता है – संकेत जो हम लगभग हमेशा भूल जाते हैं।

साथी को ब्रहमांड का केंद्र बने रहने की ज़रूरत है, भले ही अस्थायी विचलन हो सकते हैं। बाहर एकजुट दिखना हमेशा मदद करता है (आपके आतंरिक मतभेद जो भी हों)। भले ही मज़ाक में, बहस या लोगों के सामने अपने साथी को नीचा दिखाना, अनजाने में संबंध को प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर सकता है।

2. समझौता आवश्यक है

मेरे पति और मैं भिन्न पृष्ठभूमियों और संस्कृतियों से हैं (वह तमिल है और मैं पंजाबी)। हमारे परिवार में प्राथमिक मूल्यों के संदर्भ में बहुत कुछ समान है, लेकिन साथ ही भिन्न राय की भी भरमार है। यह हमारे समय, हमारी संचार शैली, शौक आदि को संचारित करता है। यह, कौन सही है/ सही तरीका क्या है आदि का प्रशन नहीं है। यह बीच राह में किसी से मिलने के बारे में है। हमने निरंतर प्रयास किया है कि दूसरे व्यक्ति को बदले नहीं बल्कि मतभेदों के सहित काम करें। वह तनावपूर्ण काम के पूरे सप्ताह बाद घर पर आराम करना पसंद करते थे और मैं पूरा सप्ताह घर में खाने के बाद सप्ताहंत में बाहर खाना चाहती थी। शादी के शुरूआती वर्षों में यह एक संभावित दबाव बिंदु था, लेकिन हमने उसपर काम किया और एक ऐसी स्थिति में पहुंच गए जहां हम सप्ताहांत के एक दिन घर पर रहते हैं लेकिन दूसरे दिन एक नये रेस्त्रां में खाने ज़रूर जाते हैं।

3. सम्मान के साथ असहमत हों

couple-in-love

ये भी पढ़े: 5 वस्तुएं जो एक सुखी जोड़ा करता है, पर अन्य लोग नहीं।

आपके साथी के साथ असहमत होना स्वाभाविक है। ‘‘हैप्पिली एवर आफ्टर’ अंत सिर्फ परिकथाओं में होता है। झगड़े से बचने के लिए विवाहित जोड़ों को हर बार एक-दूसरे से असहमत होने की ज़रूरत नहीं है। बहस करने या खीझने की बजाए, मामले पर शांतिपूर्वक चर्चा करें। एक दूसरे को बोलने का मौका दें। चर्चा कभी भी सम्मान की कमी तक नहीं पहुंचनी चाहिए। साथ ही, अपने झगडों को बिस्तर तक ना ले जाएं -कोई भी लड़ाई या बहस इस योग्य नहीं होती कि वह आपकी नींद में बाधा डाले। बिस्तर पर जाने से पहले इसे निपटा लें। याद रखिए कि इस संबंध में अहंकार के लिए कोई स्थान नहीं होना चाहिए। जब आप अपने साथी से किसी घरेलू बहस में जीतते हैं, तब आप कहीं ज़्यादा कुछ हार चुके होते हैं।

4. व्यक्तिगत और साझी गतिविधियों के बीच संतुलन बनाना बेहद महत्त्वपूर्ण है

ऐसी कुछ चीज़ें हैं जिसमें मुझे आनंद आता है लेकिन मेरे पति को उसमें रूचि नहीं (जैसे मॉल में शॉपिंग) या इसके विपरीत (जैसे एक टैनिस ग्रैंड स्लैम देखना) हम इन गतिविधियों का मज़ा अपने-अपने दोस्तों के साथ लेते हैं, जिनकी रूचि हमारे समान हो, और हम इन चीज़ों के लिए नियमित रूप से समय निकालने के लिए एक दूसरे को सहयोग भी करते हैं। लेकिन हमारी कुछ रूचियां/शौक साझे भी हैं (जैसे साथ में फिल्में देखना) और हमने व्यक्तिगत समय और साझे समय में संतुलन बनाने का एक रास्ता ढूंढ लिया है।

5. हम भी इंसान ही हैं!

a-pair-of-hands-making-a-heart-shape

ये भी पढ़े: आदर्श साथी किस तरह अलग हो जाते हैं

हम आदर्श नहीं हैं, और ना ही हमें स्वयं से या अपने साथी से आदर्श होने की उम्मीद रखनी चाहिए। विवाह को धैर्य, प्रोत्साहन और क्षमा की आवश्यकता होती है। मन में बैर रखना प्रतिकूल है। मैंने कई बार उनके खाने में ज़्यादा ही नमक डाल दिया है और उन्होंने कई बार उन पत्रिकाओं को आगे बढ़ा दिया जो मैंने पढ़ी भी नहीं थी! लेकिन हम आगे बढ़ गए।

6. संचार कूंजी है

Prerna-and-Ashwin-Lake-Louise-in-Canada
प्रेरणा और अश्विन, कनाडा में लुईस झील

ये भी पढ़े: हमारा परिवार एक आदर्श परिवार था और फिर सेक्स, झूठ और ड्रग्स ने हमें बर्बाद कर दिया

मैं अपने पति से अपेक्षा रखती थी कि मेरे मन की बात पढ़ ले और शुक्र है कि मैंने सीख लिया (हमारे संबंध के कुछ वर्षों में) कि हर बार उनसे मेरे मन की बात समझने की उम्मीद रखना पूरी तरह हास्यास्पद है। कई बार मुझे सचमुच उनके सामने चीज़ों को अभिव्यक्त करना होता है -कि मैं ऐसा महसूस करती हूँ और मैं यह क्यों महसूस करती हूँ।

पुरूष हमेशा स्पष्टवादी होते हैं और स्त्रियां इधर-उधर की बातें करते हुए बातें अभिव्यक्त करती हैं।

अब हम एक दूसरे की संचार शैली को समझते हैं और उसका सम्मान करते हैं। मैंने उन्हें और ज़्यादा खुलने के लिए प्रोत्साहित किया है और उन्होंने मुझे इस तरह संक्रमित कर दिया है कि मैं बेहतर तरीके से बता सकती हूँ कि मुझे वास्तव में क्या चाहिए। जब से हम मिले हैं, वह मुझे बहुत अच्छी तरह से विशेष महसूस करवाते हैं और विशेष अवसरों पर मेरा खूब लाड़ प्यार करते हैं। वह सबसे ज़्यादा सुंदर फूल लाया करते थे। शुरू में कुछ बार के बाद मुझे उन्हें बताना पड़ा कि मुझे फूल ज़्यादा पसंद नहीं वे ज़्यादा नहीं टिकते और मुझे उन चीज़ों को फैंकने में बहुत दुख महसूस होता है जो इतने प्यार से लाई गई थीं। वह समझ गए और अब मुझे श्रेष्ठ उपहार मिलते हैं जिनकी मुझे ज़रूरत है और मुझे पसंद है!

7. एक दूसरे की अनूठी शैली को समझना असाधारण रूप से सहायक है।

Two-heart-shaped-cups-of-tea

मेरे पति प्रतिदिन अपना प्यार व्यक्त करते हैं या तो मौखिक रूप से कृतज्ञता और प्रशंसा के भावों के साथ, या साधारण कोशिशों से जैसे जो चीज़ खाने की मुझे तलब लगी है, वह लाना। मेरी प्रेम की अभिव्यक्ति कहीं अधिक भव्य और शानदार है जो मैं उन्हें महंगे उपहार देकर, हर उत्सव मना कर या एक भव्य भोजन की योजना बनाकर व्यक्त करती हूँ। अब हम यह समझते हैं और एक दूसरे को खुश करने के लिए कभी-कभी भूमिकाओं की अदला-बदली कर लेते हैं। यह जानना कि साथी के लिए क्या मायने रखता है, बंधन को और मज़बूत करने में मदद करता है।

ये भी पढ़े: 8 लोग बता रहे हैं कि उनका विवाह किस प्रकार बर्बाद हुआ

8. ज़िम्मेदारियों को साझा करना

मेरे पति और मैं घर के और बच्चों से संबंधित सारे खर्च बांटते हैं। उनमें से कई हम साथ में करते हैं और अन्य, बारी-बारी करते हैं। यह हमें बोर हुए बिना सांसारिक घरेलू काम करने में मदद करता है। हम यदा-कदा ही लड़ते हैं कि यह किसका काम है। हम हर दिन एक-दूसरे के योगदान की सराहना करते हैं और उसे व्यक्त करने के लिए अवसर ढूंढ लेते हैं। उदाहरण के लिए, घर पर प्रत्येक भोजन के बाद मेरे पति मुझे धन्यवाद देते हैं और अब हमारे बेटे ने भी यह आदत डाल ली है। प्रत्युत्तर में, बाहर किए गए हर भोजन के लिए मैं अपने पति का शुक्रिया अदा करती हूँ।

9. प्यार हर स्थिति में विजय प्राप्त करता है

Forever-and-Always
प्यार हमेशा जीतता है

जब आपके साथी की बात हो, तो प्यार के मामले में उदार बनें। केवल इसलिए कि आप दोनों जानते हैं कि आप एक-दूसरे से प्यार करते हैं इसका मतलब यह नहीं कि आप यह कह नहीं सकते हैं। जितनी बार आप कह सकते हैं, उतनी बार वे तीन शब्द कहें -जब काम के लिए निकल रहे हों, बिस्तर पर जाने से पहले या दिन के बीच में ‘आई लव यू’ का मैसेज करना। डेट की रातें और विशेष आउटिंग भी समान रूप से महत्त्वपूर्ण हैं जहां आप नियमित दिनचर्या से बाहर जाते हैं और बस एक-दूसरे के साथ गुणवत्ता पूर्ण समय बिताते हैं। जैसा कहा जाता है, विवाह भले ही स्वर्ग में बनाएं जाते हों लेकिन उन्हें धरती पर काम करने लायक बनाना होगा। इसके लिए दृढ़ता की आवश्यकता है।

क्यों मुझे लगता है कि मौखिक छेड़खानी शारीरिक छेड़छाड़ से कमतर है

अजीब चीज़ें जो जोड़े साथ करते हैं जब उनका प्रेम सहज हो जाता है

Published in Hindi

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *