Hindi

स्वयं के साथ ईमानदार होने पर इन 5 तरीकों से आप अपने संबंध को बेहतर ढंग से समझ पाएंगे

क्या खुद को बेहतर ढंग से समझना वास्तव में आपके रिश्ते की मदद करता है?
alia bhatt

जोड़े और ईमानदारी

लोग अक्सर कहते हैं कि किसी और से प्यार करने का पहला कदम है खुद से प्यार करना सीखना। हालांकि यह सच हो भी सकता है और नहीं भी, लेकिन यह एक तथ्य है कि जब आप खुद को जानेंगे तभी आप जान सकते हैं कि आपको किसी और से क्या चाहिए। इसलिए बहुत से लोग ऐसे ही जीवन गुज़ार देते हैं, यह देखे बिना की वे वास्तव में क्या और किसे चाहते हैं। वे प्रतिबद्धता की समस्याओं और अन्य परेशानियों के बारे में शिकायत करते हुए संबंध दर संबंध छोड़ते जाते हैं। लेकिन अगर हम खुद को बेहतर तरीके से समझें तो शायद इसमें से बहुत कुछ हल हो जाएगा। इस तरह से हम एक संबंध में जाने से भी पहले जान लेंगे कि संबंध में डील ब्रेकर क्या है।

ये भी पढ़े: 5 वस्तुएं जो एक सुखी जोड़ा करता है, पर अन्य लोग नहीं।

यह जानना कि बेडरूम में और बाहर कौन सी चीज़ हमें परेशान करती है और कौन सी चीज़ हमें खुशियों देती है, ना सिर्फ आपके साथी को बेहतर ढंग से चुनने में बल्कि आपके संबंधों को मज़बूत बनाने में भी मदद करेगा। क्या आपको नहीं लगता कि स्वयं के साथ ईमानदार होना वास्तव में आपके रिश्ते के लिए इतना मायने रख सकता है? खैर, यहां पांच तरीके हैं जिनसे स्वयं को बेहतर तरीके से जानना आपके रिश्ते को समझने में भी मदद करता हैः

1. आप कम लड़ते हैं

क्या आपके झगड़े अक्सर बदतर हो जाते हैं और उनमें दरवाज़ों को बंद करना और प्लेट्स तोड़ना शामिल है? लेकिन जब आप उस बारे में सोचते हैं तो क्या आपको यह याद करने में मुश्किल आती है कि आप वास्तव में किस बारे में लड़ रहे थे? सच कहूं तो, तो इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है अगर आप दोनों में से एक व्यक्ति या दोनों ही नहीं जानते कि आपको वास्तव में चाहिए क्या। आपके साथी द्वारा की गई किसी चीज़ ने आपको क्रोधित कर दिया लेकिन आप निश्चित नहीं हैं कि वास्तव में वह क्या था इसीलिए आप हर समय दूसरी छोटी चीज़ों पर बिफरते रहते हैं। ज़ाहिर है कि यह आपको बुरा दर्शाता है। यह आपके प्रेमी को यह धारणा देता है कि आप अस्थिर, मूडी और आत्म केंद्रित हैं, जबकि ऐसा बिल्कुल नहीं है। यही कारण है कि खुद को बेहतर तौर पर समझना और यह जानना ज़रूरी है कि वास्तव में कौन सी चीज़ हमें परेशान करती है। इस तरह आप समस्याओं को हल कर सकते हैं बजाए परेशान हुए कि काम करने की बारी किसकी थी।

sad lady lying on bad
Image source

ये भी पढ़े: 7 संकेत की अब वह आपसे प्यार नहीं करता

2. खुद की असुरक्षाओं के बारे में जानना विश्वास बढ़ाता है

किसी को भी यह महसूस करना अच्छा नहीं लगता कि वे तुच्छ और असुरक्षित हो रहे हैं। इसलिए एक व्यक्ति वास्तव में खुद से पूछताछ करने की बजाए इसे दूसरे पर थोप देता है। इस तरह की नकारात्मक भावना चीज़ों को और बदतर ही बनाती है। जब आपका साथी नहाने जाता है तब आप उनका फोन चेक कर रहे होते हैं। जब वे कहते हैं कि वे ओवरटाइम कर रहे हैं, तब आप अक्सर सोचते हैं कि क्या वह और किसी के साथ घूम रहे हैं। इस तरह के संदेह अक्सर आत्म विनाश के लिए मार्ग प्रशस्त करते हैं। इसलिए संदिग्ध होने की बजाए, आपको जो महसूस हो रहा है उसके बारे में और अधिक जागरूक होने की आवश्यकता है और फिर यह पता लगाने की कोशिश करें कि आप इस तरह क्यों महसूस करते हैं। अगर इससे मदद नहीं मिलती है तो अपने साथी के साथ संवाद करें। आखिरकार, उन्होंने हमेशा आपका साथ देने का वादा किया है, है ना?

3. आप बेहतर संवाद करने लगते हैं

जब आप अपनी ज़रूरतों और कमियों के बारे में जानते हैं, तो आपके सामने वाले व्यक्ति से निपटना आसान होता है। आप क्या और कैसे महसूस करते हैं उस बारे में स्पष्ट हो सकते हैं। ना केवल यह दोनों पक्षों पर उलझन को कम करेगा बल्कि आपके रिश्ते के लिए एक मजबूत आधार भी बनाएगा। कोई भी व्यक्ति हाथ में मैनुअल लेकर इसमें नहीं आया, है ना? तो दोनों तरफ चीज़ें जितनी स्पष्ट होगी, आपका रिश्ता भी उतना ही ठोस होगा।

रिश्ते गुदगुदाते हैं, रिश्ते रुलाते हैं. रिश्तों की तहों को खोलना है तो यहाँ क्लिक करें

4. आप स्वीकार करते हैं कि आप किस योग्य हैं

यह नहीं जानना कि हमारी इच्छा और चाहत क्या हैं इसका मतलब हो सकता है कि हम जीवन भर असफल रिश्तों में फंसे रहें। हममें से कुछ इस कारण से बार-बार संबंध तोड़ते रहते हैं। और अन्य लोग एक असफल रिश्ते में नाखुश रहना जारी रखते हैं। यही कारण है कि किसी और के साथ शामिल होने से पहले हमें खुद को बेहतर तौर पर समझना महत्त्वपूर्ण है। सभी को समझना चाहिए कि वे क्या चाहते हैं और किस योग्य हैं और सिर्फ वही चुनना चाहिए। उससे कम पर सैटल होना सिर्फ दिल के टूटने का और खराबी का कारण बनेगा।

ये भी पढ़े: 10 बातें जो एक पुरूष को अपनी पत्नी से कभी नहीं कहनी चाहिए

5. आपको बेहतर सेक्स मिलता है

यह एक अप्रत्याशित लाभ हो सकता है, लेकिन यह लाभ है ज़रूर। आखिरकार, जब आप जानेंगे कि बेडरूम में आपको कौन सी भावनाएं और मुद्राएं पसंद हैं, तभी तो आप उसे मांगेगे। अपनी ज़रूरतों को समझें और उनके बारे में अधिक मुखर हों, भले ही इसमें व्हीप्स और हैंडकफ्स शामिल हों, और यकीन मानिए, आप दुबारा कभी अपने यौन जीवन के नीरस होने की शिकायत नहीं करेंगे।

lady and man in intimate position
Image source

जब आप स्वयं को जानेंगे तभी आप अपनी ज़रूरतों के बारे में मुखर हो सकेंगे और पारस्परिक विश्वास और समझ के आधार पर एक रिश्ता बना सकेंगे। अपने संबंध और साथी को समझने के लिए पहले खुद के साथ ईमानदार होने से बेहतर तरीका कोई नहीं है। इसीलिए आपको ओवरथिंक कम करना चाहिए और अभ्यास ज़्यादा करना चाहिए। और कौन जाने, आपको अचानक अहसास हो जाए कि आपका साथी ही वह व्यक्ति है जिसके साथ आप जीवनभर बहस करने के लिए तैयार हैं।

आपकी राशि के अनुसार आपके संबंध का सबसे बड़ा दोष

संबंध छोड़कर जाना इतना मुश्किल क्यों होता है, तब भी जब वह आपको प्यार ना करता हो?

राशि के आधार पर, वह इस तरह प्रेम व्यक्त करता है

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No