Hindi

तलाक के दौरान विचारशील कैसे रहें

तलाक दर्दनाक, तनावपूर्ण और अपराधबोध-प्रेरित हो सकता है। जब आप अपने रिश्ते को तोड़ने की प्रक्रिया में हों तो विचारशील रहने पर कुछ सुझाव दिए गए हैं
man and woman hands on the table

एक आदर्श दुनिया में, हम एक पूरी तरह से सरल, आदर्श जीवन जीएंगे- आनंदमय बचपन, प्यार करने वाले पति/ पत्नी, समझने वाले ससुराल वाले, अच्छी तरह से व्यवहार करने वाले, उच्च क्षमता वाले बच्चे, न्यूनतम बीमार वृद्धावस्था, और एक दर्द रहित मृत्यु के साथ।

फिर भी, बिना दोष का, परफेक्ट मॉडल कन्वेयर बेल्ट है, मशीन से बना सामान है। यह एक मृगतृष्णा है।

जीवन हस्तनिर्मित है और काश कि मैंने यह तलाक के लिए आगे बढ़ने और तलाक के दौरान जान लिया होता।

ये भी पढ़े: जब उस बच्ची ने मुझे तलाक के बारे में समझाया

जब आप किसी चीज़ को हाथ से बनाते हैं, तो कटने के निशान और दरारें होती हैं, और कभी-कभी, चीज़ टूट जाती है।

जब आप किसी चीज़ को हाथ से बनाते हैं, तो कटने के निशान और दरारें होती हैं, और कभी-कभी, चीज़ टूट जाती है।

हमारी कठिनाई के बीच में, यह देखना मुश्किल है कि ये चीजें हर एक की जिंदगी में होती हैं। कोई भी इससे भाग नहीं पाता है।

कभी-कभी, आप इसे बाहर निकाल देते हैं और कभी-कभी आप इससे चिपक जाते हैं। कभी-कभी, आप स्वीकृति और धैर्य के साथ फिर से शुरू करते हैं।

तलाक के दौरान विचारशील रहने के लिए कदम

तलाक के चलते अपना मानसिक स्वास्थ्य बनाए रखने की पहली आवश्यकता यह याद रखना है। इनमें से, शुरुआती बिंदु इस तथ्य की शांत स्वीकृति है कि आप तलाक के लिए आगे बढ़ रहे हैं।

दूसरा खुद को असफल नहीं मानना है, क्योंकि विफलता की भावना से आप स्वयं को और अपनी ताकत को अस्वीकार कर सकते हैं। यह शर्म, क्रोध और अवसाद की ओर जाता है। ऐसी संस्कृति में जहाँ पूर्णता इसमें है कि आप कौन हैं और किसके लिए पैदा हुए हैं, और आपने कौन से मील के पत्थर पार किए हैं, जिनमें से एक है शादी, उसका समाप्त होना विफलता का प्रतीक बन गया है।

ऐसा नहीं है।

ये भी पढ़े: उसने तलाक माँगा, मगर पति ने उसे कुछ और ही दिया

ए ’फेयरवेल टू आर्म्स’ में अर्नेस्ट हेमिंगवे ने लिखा, ’दुनिया हर किसी को तोड़ देती है और बाद में टूटे हुए स्थानों में कुछ मजबूत रहते हैं।’

तीसरा, आप पछतावे से सीख सकते हैं, और जाने दे सकते हैं, लेकिन अपराधबोध आपको नीचे खींच सकता है। अपने विवाहेतर संबंधों के कारण शादी समाप्त होने के कई वर्षों बाद अनिकेत भयानक अपराधबोध में चला गया। फिर भी, आपको गलती से सीखने और आगे बढ़ने का प्रयास करने की आवश्यकता है।

divorce creative

ये भी पढ़े: हम दम्पति तो नहीं है, मगर माता पिता अब भी हैं

एक गहरी सांस लें

चौथा, जब चिंता आपको परेशान करती है तो गहरी, शांत सांस लें। एक पेन और कागज का एक टुकड़ा लें और एक दिमागी मानचित्र बनाएँ। तलाक को केंद्र में रखें। उन चीजों से शाखाएँ बनाएँ जिन्हें करना चाहिए।

इन शाखाओं में से प्रत्येक के लिए अगला कदम सूचीबद्ध करें। परिणाम पर ध्यान न दें। एक नियम याद रखें; आप और आपके बच्चों के लिए स्वस्थ क्या है, इस पर ध्यान केंद्रित करें।

एक नियम याद रखें; आप और आपके बच्चों के लिए स्वस्थ क्या है, इस पर ध्यान केंद्रित करें।

एक समय में एक बार, एक दिन में एक कदम उठाएं। यह आपको भय को अलग करने में मदद कर सकता है।

ये भी पढ़े: पांच विषयों पर भारतीय माँ बाप अक्सर ये कहते हैं…

ये भी पढ़े: मैंने शादी की तीसवी सालगिरह को खुद को तलाक़ उपहार में दिया

पाँचवां, दूसरों के साथ तुलना ना करें। किसी और की स्थिर शादी के साथ नहीं, न ही ज्यादा बड़ी या कम निर्वाह निधि के साथ। भले ही आप इस तरह की तुलना नहीं करते हैं, फिर भी आपको अवचेतन में छिपे प्रभावों को देखना होगा।

कभी-कभी यह केवल आपके दिमाग में होता है

छठा, गहरा दर्द आपको धार्मिक घटनाओं के दौरान चोट पहुँचा सकता है। ये घटनाएँ खुशखबरी के समय हैं, और यह चोट पहुंचा सकती है कि तलाकशुदा महिलाओं को उनका हिस्सा नहीं बनाया जाता है, या आशीर्वाद की कतार में बाद के नंबर पर पहुँचाया जाता है। मेरा मानना यह है कि इस तरह के बहिष्कार के आधार पर घटनाएँ हमारे समय के लायक नहीं हैं। दर्द झेलें और आगे बढ़ें। कभी-कभी, परेशानी, जैसा कि मेरी माँ ने सही कहा है, मेरे दिमाग में थी; अन्य लोग मुझे बाहर नहीं कर रहे थे।

सातवां, विवाह या संबंधों के बारे में बातचीत करते समय आपको खुद को बेमौका समझने की आवश्यकता नहीं है। असल में, मुझे एहसास हुआ कि मेरे तलाक के बाद से इनके बारे में मेरे परिप्रेक्ष्य में सुधार हुआ है – अब मैं इन सबको बाहरी व्यक्ति के रूप में देखती हूँ, और अब ज़्यादा दोस्त मेरे साथ सहजता से अपनी बातें साझा करते हैं।

ये भी पढ़े: हमने दुनिया से लड़ कर प्रेम विवाह किया था लेकिन पति अब अब्यूसिव है

आठवां, अपने आप को अच्छे समय का केवल अधिकार नहीं, बल्कि ज़िम्मेदारी भी दें, कम से कम थोड़ी देर के लिए दर्द, दुःख और अपराधबोध को भुला दें – तब भी जब आपका दिल टूट रहा है, तब भी जब आप जीवन की एक नई निम्न स्थिति में हैं …

हँसने और रोने में कोई बुराई नहीं है

और नौवां, जब आप अपने बच्चों को पीड़ित देखते हैं, तो उन्हें ऐसे अनुभव दे जिनका वे आनंद लें। उन्हें बताएँ कि हंसने, समुद्र तट, चिड़ियाघर की यात्रा करने या फिल्म देखने, एक कप केक खाने में कोई बुराई नहीं है।

प्यार की कहानियां जो आपका मैं मोह ले

दसवां, पुरुष या महिला, अगर आपको रोने की इच्छा हो रही है, तो रोएँ। इसने मेरी बहुत मदद की। इसे एक दवा, और एक अधिकार समझें। यदि रुलाई सत्र आपको कमज़ोर महसूस कराता है, तो ऐसा इसलिए होता है क्योंकि संस्कृति मांगती है कि आप अपनी भावनाओं को छुपाएं, जिसे मैं व्यर्थ समझती हूँ। इस सांस्कृतिक कंडीशनिंग पर काबू पाने से आपको बहुत फायदा होता है।

ये भी पढ़े: पुरूष अब्यूसिव संबंधों में क्यों रहते हैं?

दोस्तों और अपने आप से खुलें

ग्यारहवां, अपनी आत्मा को कुछ अच्छे दोस्तों या परिवार के लिए खोलें। कभी-कभी, समझने वाले अजनबी के साथ खुलना आसान होता है। बसों और अस्पताल के वेटिंग रूम्स में, मैंने अपने आघात साझा करने वाले अजनबियों को देखा है। ऐसा हर उदाहरण मुक्ति का एक पल है और आपके बोझ को हल्का करता है।

बारहवां, अपने कष्ट महसूस करें। कष्ट पीड़ित होने के बारे में नहीं है, बल्कि यह दर्द के बारे में है। पीड़ित होने के रूप में कष्ट महसूस करना क्रोध और बेबसी लाता है, और आपको अतीत में अटका देता है। यह अस्वस्थ है और आपकी रीकवरी को रोकता है। दर्द के रूप में इसे महसूस करना आपको इसे छोड़ने और आगे बढ़ने में मदद करता है।

ये कदम आपको अपने शारीरिक और मनोवैज्ञानिक पैरों पर जल्दी और मजबूती से खड़े होने में मदद कर सकते हैं।

तलाकशुदा माताओं के लिए वित्तीय सहायता

एक तलाकशुदा स्त्री को भारत में अभिशाप के रूप में क्यों देखा जाता है?

मेरी पत्नी मुझे छोड़ कर चली गई लेकिन मुझे तलाक दायर करने से डर लगता है कि कहीं वह मेरे खिलाफ दहेज का झूठा मामला ना दर्ज कर दे

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No