तुम्हीं मुझे सबसे ज़्यादा परिभाषित करती होः द्रौपदी के लिए कर्ण का प्रेम पत्र

यज्ञसेनी, एक पत्र जो मैं तुम्हें कभी नहीं भेजूंगा। लेकिन फिर भी यह मानना … Continue reading तुम्हीं मुझे सबसे ज़्यादा परिभाषित करती होः द्रौपदी के लिए कर्ण का प्रेम पत्र