Hindi

उसने झूठ का एक जाल बुना और पुरूषों के प्रति मेरे विश्वास को नष्ट कर दिया

वह एक अच्छा पुरूष प्रतीत होता था, लेकिन एक दिन उसकी गर्भवती पत्नी ने शिकायत करने के लिए फोन किया। वह कितनी स्त्रियों को धोखा दे रहा था?
scared-woman-with-wounded-face

जैसा अनुप्रीता द्वारा दीपान्नीता घोष बिस्वास को बताया गया

मेरे गृहनगर से दिल्ली स्थानांतरित होना एक बड़ी बात थी। नए लोगों के साथ नए शहर में समायोजित होना आसान नहीं था, लेकिन, कॉलेज मज़ेदार था और मुझे दिल्ली में एक छात्र होने की हर बात में आनंद आने लगा था। मैंने कुछ नए दोस्त भी बनाए, लेकिन मुझे बिल्कुल नहीं पता था कि बहुत जल्द, दोस्ती और विश्वास पर मेरे विचार जीवनभर के लिए बदलने वाले थे।

वह बहुत अच्छा प्रतीत होता था

मेरी सहपाठी पूनम ने यश से मेरा परिचय करवाया था। इसके तुरंत बाद, उसने सोशल नेटवर्किंग साइट पर मुझे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजा जिसे मैंने अस्वीकार कर दिया। जब कुछ दिनों बाद मुझे उससे एक और फ्रेंड रिक्वेस्ट प्राप्त हुई, मैंने स्वीकार कर ली -कुछ भी अनुचित नहीं लग रहा था। हमने बातें शुरू कर दी और वे संक्षिप्त वार्तालाप अधिक नियमित होने लगे, वस्तुतः भी और फोन पर भी। जब मैं उसे एक बार नहीं बल्कि दो बार मिली तब भी कुछ अनुचित नहीं लगा। हमने बातें की और हंसे और अद्धभुत यादें बनाई। लेकिन एक दोपहर को अज्ञात नंबर से जो फोन आया वह केवल एक संकेत भर था जिसके बारे में मैं बिल्कुल अनभिज्ञ थी।[restrict]

तब कॉल आया

जिस स्त्री ने मुझे फोन किया था उसने स्वयं को यश की पत्नी बताया। चलो उसे नंदिनी बुलाते हैं। मैं निश्चित नहीं थी कि मैंने सही सुना है लेकिन फिर उसने जो कहा वह ऐसा महसूस हुआ जैसे जिसे में दोस्त मानती थी उसने मेरी पीठ में छुरा भोंका था। यह अहसास होने में मुझे थोड़ा समय लग गया कि उसे शंका थी कि मेरे साथ उसका प्रेम प्रसंग चल रहा है। मुझे यह भी पता चला कि यश नंदिनी की उपेक्षा कर रहा था और वह मेरे विरूद्ध पुलिस शिकायत दर्ज करने के बारे में विचार कर रही थी। मैं उसे बताना चाहती थी कि यश और मैं रूमानी रूप से संलग्न नहीं थे लेकिन उसने मुझे मौका नहीं दिया।

ये भी पढ़े: उसने मुझे धोखा दिया लेकिन चाहता है कि मैं उसे वापस अपना लूँ

जब नंदिनी ने फोन रख दिया, तब मैंने यश के साथ मेरी चैट के स्क्रीनशॉट्स भेजे, जहां यह स्पष्ट था कि उसने कभी मुझे नहीं बताया था कि वह विवाहित था। मैंने उसे वह तस्वीर भी भेजी जो उसने मुझे भेजी थी – एक स्त्री की जिससे वह शादी करने के बारे में विचार कर रहा था। कुछ भी ठीक नहीं लग रहा था और मेरी परेशानी तब बढ़ गई जब मुझे पता चला कि नंदिनी गर्भवती थी।

Anupreeta

मेरा विश्वास टूट चुका था

नंदिनी के फोन ने मुझे सोच में डाल दिया। मुझे याद आया जब भी मैं और यश उसके विवाह के बारे में बात करते थे, वह विषय बदल दिया करता था। अब मुझे पता चला कि क्यों और इस तरह से जिसने दोस्ती और पुरूषों पर मेरे विश्वास और भरोसे को हिला कर रख दिया था। मैं दुख और कमज़ोरी की भावना से घिरी हुई थी लेकिन जब भी मैं उसकी गर्भवती पत्नी के बारे में सोचती थी, मुझे और ज़्यादा बुरा लगता था। हमें एक ही पुरूष ने धोखा और आनंद दिया था और ऐसा महसूस हुआ जैसे धोखे की इन घटनाओं ने हमारे चेहरे पर तमाचा मार दिया था।

ये भी पढ़े: ससुरालपक्ष मेरे पिता का आर्थिक उत्पीड़न कर रहे हैं

जब हमने फिर से बात की, नंदिनी ने मुझ पर विश्वास किया। यह घरेलू हिंसा की बदकिस्मति की कहानी थी भले ही यश नशे में हो या ना हो। यश सर से पैर तक विभिन्न बैंको के कर्जे में डूबा हुआ था और उन्हें चुकाने में असमर्थ था। वह उससे कहीं अधिक योग्यता प्राप्त थी, उसने रसायन शास्त्र में स्नातकोत्तर किया था, लेकिन उससे अपेक्षा की जाती थी कि वह उसके बच्चे पैदा करे और उसकी और बच्चों की देखभाल करे।

तुमने कितनी स्त्रियों से झूठ बोला?

हर बार जब मैं उस दर्दनाक अनुभव के बारे में सोचती हूँ जो यश ने मुझे दिया, मैं सोच में पड़ जाती हूँ कि यह सब गढ़ना उसके लिए लिए कितना आसान था। कितनी भोली-भाली स्त्रियां इतनी कमज़ोर होंगी कि उसके झूठ के जाल में फंसी होंगी? जिन धोखों में वह संलग्न था उनका एक पैटर्न था और शायद उसे आनंद देता था। मेरा क्या? या उसकी पत्नी का? या फिर वह लड़की जिसकी तस्वीर उसने मुझे भेजी थी -वह जिसके साथ वह तथाकथित रूप से शादी करने की योजना बना रहा था?

यश अगर तुम इसे पढ़ रहे हो, तो मैं तुम्हें बताना चाहूंगी कि पुरूषों पर मेरे विश्वास को तुमने अकेले ही जड़ से उखाड़ दिया है। कभी-कभी मैं सोच में पड़ जाती हूँ कि ज़्यादा बदतर क्या था – दिल्ली आना और तुमसे मिलना, या जिस तरह तुमने मुझे और मेरे जैसी कईयों को झूठ परोसे? नहीं, मैं नहीं मानती कि यह केवल एक व्यक्तिगत अपमान था, यह विभिन्न स्तरों पर धोखा था। अब मैं कई शहर बदल चुकी हूँ लेकिन मानव रिश्तों पर विश्वास करने के आघात से अभी भी बाहर नहीं आ पाई हूँ। दिल्ली, तुम मेरे साथ बहुत अन्यायपूर्ण रही हो!
[/restrict]

मेरे पति मुझसे से काम करने को कहते हैं। दुर्भाग्य से, इनमें से एक भी कामुक नहीं है!

क्या विवाह में वन नाइट स्टैंड को क्षमा किया जा सकता है अगर वह संबंध में परिवर्तित ना हो?

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No