Hindi

विवाह और कैरियर! हम सभी को आज इस महिला की कहानी पढ़नी चाहिए

वे काफी समय से एक साथ रह रहे थे लेकिन उसके माता-पिता नहीं जानते और वह अभी शादी के बारे में सोचना नहीं चाहती...

(जैसा शाहनाज़ खान को बताया गया)

पहचान छुपाने के लिए नाम बदल दिए गए हैं

मैंने चार साल पहले अपूर्व को डेट करना शुरू किया। हम दोनों अपने 20 के दशक के मध्य में थे। मैं अपना एमफिल कर रही थी और वह फोटोग्राफर के रूप में अपना कैरियर शुरू कर रहा था। हम दोनों कोलाहल भरी राजधानी दिल्ली में अपना मार्ग ढूंढने की कोशिश कर रहे थे। वह मेरी बहन का पूर्व सहकर्मी था और मेरी बहन के स्थानांतरित होने पर मैंने उसे फेयरवेल देने का फैसला किया और तभी मैं अपूर्व से मिली। उसके स्थानांतरित होने के कई महीनों बाद तक हमारी बातचीत चलती रही, और फिर हमें अहसास हुआ कि हमारे बीच दोस्ती से ज़्यादा कुछ है।

ये भी पढ़े: एक पति, एक अत्यधिक प्यार करने वाला प्रेमी और दोनों पुरूषों से एक-एक बच्चा

यह एक सपना था

हम दोनों देश के बहुत अलग हिस्सों से आते हैं, वह बिहार से है और मैं दार्जलिंग से हूँ। लेकिन इस क्रेज़ी शहर में, हम वे सारे अंतर छोड़ सकते हैं। मेरा एमफिल खत्म हो गया और उसे एक फैशन रीटेल वेबसाइट में फोटोग्राफर की नौकरी मिल गई। मेरा अगला कदम पीएचडी था और जहां मुझे होस्टल में कमरा मिल गया, हमें उसके ऑफिस के पास एक घर भी मिल गया। उस जगह को हम घर कहते थे जहां हम अपने भविष्य के बीज बो रहे थे।

बड़े शहरों में पहचान भुला दी जा सकती है। लेकिन, हम जानते थे कि हमारे घर पर हमारे परिवारों के लिए एक-दूसरे को स्वीकार करना कितना मुश्किल होगा। फिर भी दो वर्षों से, हम अपनी दुनिया में खुश रहने में कामयाब हुए और सच्चाई का सामना करने का काम भविष्य के लिए छोड़ दिया।

couple seeing new home
Image source

ये भी पढ़े: आज की द्रौपदी… जिसने दो पुरुषों को एक साथ प्यार किया!

सच कड़वा होता है

एक दिन सच से सामना हो ही गया। दिल्ली एक सुंदर शहर है लेकिन यहां कुछ लोग हैं जो इसे जीवित नर्क बना सकते हैं। एक दिन मेरे बॉयफ्रैंड ने मुझे फोन करके कहा कि वह एक झगड़े में शामिल हो गया था और घायल हो गया था। मैं जितनी जल्दी हो सके अस्पताल पहुंच गई और देखा कि उसके घाव से बहुत ज़्यादा खून बह रहा था, उसे टांकों और आपातकालीन देखभाल की सख्त ज़रूरत थी। उसके सहकर्मियों ने मुझे बताया कि स्थानीय गुंडे उसकी ऑफिस की एक मॉडल का पीछा कर रहे थे।

और एक दिन जब वे हद से ज़्यादा बढ़ गए, तो वह उस लड़की के लिए खड़ा हुआ। चार लड़के उसपर झपट पड़े और हाथापाई में उसे छुरी मार कर घायल कर दिया गया।

उसकी वह झलक अब भी मुझे थरथरा देती है। मैं अगले दो दिनों तक उसके साथ अस्पताल में रही। शुक्र है कि चाकू से कोई गंभीर या स्थायी क्षति नहीं हई थी। लेकिन जो कुछ भी हुआ उसके लिए उसके परिवार को बुलाया जाना ज़रूरी था। तो उसकी माँ, पिता और चाचा आए। और इस तरह उन्हें हमारे रिश्ते के बारे में पता चल गया। चूंकि वह उसके ठीक होने तक वहीं रूके, उनके लिए यह स्पष्ट हो गया कि उसका घर मेरा घर भी है। जब उसकी हालत बेहतर हुई, बातचीत हमारी ओर बढ़ गई। उसने उन्हें बताया कि हम सीरियस हैं और शादी करना चाहते हैं। हमने उन्हें मनाने की बहुत कोशिश की।

रिश्ते गुदगुदाते हैं, रिश्ते रुलाते हैं. रिश्तों की तहों को खोलना है तो यहाँ क्लिक करें

ये भी पढ़े: जितनी मेरी ज़रूरतें, उतने मेरे ब्वॉयफ्रैंड

लेकिन हमारे सामने अचानक जो स्थिति आई, उसमें वह एक चीज़ पूरी तरह भूल चुका था – यह कि मेरे घरवालों को खबर तक नहीं है! मेरे माता-पिता को यह तक नहीं पता था कि मैं तीन साल से एक लड़के को डेट कर रही थी, उसके साथ रहने की बात तो भूल ही जाओ। जब उसके घरवालों को पता चला, ऐसा लगा जैसे हमारे रिश्ते की पूरी गतिशीलता ही बदल गई थी। मेरी पीएचडी बीच में थी, उसे पूरा करने के लिए अभी मेरे पास 2-3 साल थे। जब तक पीएचडी खत्म करके मुझे नौकरी ना मिल जाए तब तक मैं शादी का विषय भी नहीं छेड़ना चाहती थी। और उसे इस बात से कोई समस्या नहीं थी। लेकिन उसके माता-पिता ज़रूर उसपर पूरी तरह नज़र रखे हुए थे। बिना शादी किए साथ रहना परिवार के नाम पर एक धब्बा था। और अगर उन्होंने एक दूसरे समाज की लड़की को अपनाने का समझौता कर ही लिया था, तो हमें जल्द से जल्द शादी कर लेनी चाहिए थी।

अब कोई सपना नहीं है

ऐसा लगा जैसे परिवार के दबाव का उसपर वाकई असर हो गया था। जो कभी बेफिक्र और प्रेमपूर्ण साथ लगता था आज ‘मेरी बात सुनो या चली जाओ’ जैसी स्थिति हो गई। ऐसा नहीं था कि मैं उससे प्यार नहीं करती थी या शादी करना नहीं चाहती थी। लेकिन उसके लिए अभी तैयार नहीं थी। ऐसा लगा जैसे छुरी ने उसके शरीर से बड़ा घाव हमारे रिश्ते पर छोड़ दिया था। जैसे कुछ हफ्ते गुज़रे उसके माता-पिता ने मेरे इरादों पर सवाल उठाना शुरू कर दिया। मुझसे कभी सीधे ऐसी बात नहीं हुई लेकिन मैं समझ गई की उसके दिमाग में यह बीज बो दिया गया है। यह लड़की तुम्हारे साथ अपना पूरा जीवन बिताना नहीं चाहती। वह सिर्फ तुम्हारा इस्तेमाल करना चाहती है जब तक उसकी पढ़ाई चल रही है। फिर वह तुम्हें छोड़ कर आगे बढ़ जाएगी। नहीं तो क्यों 20-25 साल की कोई लडकी अपने बॉयफ्रैंड के साथ शादी नहीं करना चाहेगी जिसके साथ वह लगभग दो सालों से रह रही है!

couple-arguing
Image Source

ये भी पढ़े: यह जानकर मैं निराश हो गई की मेरे पति का कोई विवाहेतर संबंध नहीं था

उस घटना के बाद लगभग 6 महीनें हो चुके हैं। मैं वापस अपने होस्टल में रहने लगी हूँ, जबकि मेरा बॉयफ्रैंड कहता है उसे चीज़ों को खत्म करने के लिए थोड़े समय की ज़रूरत है। मैं जल्द ही घर जाउंगी। लेकिन मैं नहीं जानती कि क्या मैं अपने माता-पिता को सब बताउंगी, लेकिन वह चाहता है मैं बता दूं। मैं नहीं जानती कि क्या मैं उनकी ओर से भी दबाव को संभाल सकती हूँ, क्योंकि अभी मैं मानसिक और भावनात्मक रूप से शादी के लिए तैयार नहीं हूँ। मैं सच में अपना पूरा ध्यान अपनी पढ़ाई पर केंद्रित करना चाहती हूँ लेकिन लगता है कि समय कम पड़ रहा है। यह ऐसा है ‘‘या तो अपने माता-पिता को बताओ या फिर शायद तुम संबंध के प्रति गंभीर नहीं हो”। उम्मीद करती हूँ की मुझे बीच का कोई रास्ता मिल जाए, ऐसा कोई रास्ता जो मुझे समय दे और मेरा संबंध बरकरार रख सके। ऐसा लगता है उसके लिए अब एक चमत्कार की ज़रूरत होगी।

 

मैं अपने ब्वॉयफ्रैंड के माता-पिता के साथ लिव-इन में रहती हूँ

लिव-इन संबंध…केरल के संबंधम विवाहों का एक विस्तार?

इसे केवल सेक्स तक सीमित होना था लेकिन मैंने प्यार में पड़ कर इसे खराब कर दिया

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also enjoy:

Yes No