Hindi

वह मुझे रात भर जगाए रखता है

Woman-Snooze-Off

प्रश्नः कृपया मुझे सलाह दें कि क्या मेरा प्रेमी मुझे वास्तव में प्यार करता है या नहीं। आजकल वह मुझसे प्रतिदिन केवल सेक्स के बारे में बात करना चाहता है। जब मैं कहती हूँ कि ‘प्लीज़ आज मैं सोना चाहती हूँ’ तो वह गुस्सा हो जाता है। मैं हर दिन सो नहीं पाती हूँ क्योंकि वह पूरी रात ‘सेक्स टॉक’ करना चाहता है जो मुझे पसंद नहीं है। और जब मैं मना करती हूँ, तो वह संबंध समाप्त कर देना चाहता है।

उत्तरः सच्चा प्यार कभी भी ऐसी बातें नहीं करता है कि ‘‘अगर तुमने ऐसा नहीं किया मतलब तुम मुझसे प्यार नहीं करती/मैं तुम्हें छोड़ दूंगा।” तो यदि आपका प्रेमी सेक्स के लिए ऐसी शर्त रख रहा है, तो स्पष्ट रूप से कुछ गड़बड़ है। आपके प्रश्न में यह स्पष्ट नहीं है कि आप विवाहित हैं या नहीं। हालांकि विवाहित होने या ना होने से प्रेम संबंध का मूल आधार नहीं बदल जाता। अगर वे कुछ पाने के लिए आपको भावनात्मक रूप से ब्लैकमेल कर रहे हैं, तो प्यार की परिभाषा टेढ़ी है।

ये भी पढ़े: मैं प्यार के लिए तरसती हूँ, स्वीकृति के लिए तरसती हूँ

मेरी सलाह है कि आप उनके साथ बैठकर एक ठोस चर्चा करें; उन्हें बताएं कि आपको सेक्स से कोई ऐतराज़ नहीं है लेकिन आप बाकी गतिविधियों में शामिल होना भी पसंद करती हैं जैसे कि बाहर जाना, फिल्में देखना, बातें करना, खेलना आदि। यदि आप नवविवाहित हैं तो सेक्स के प्रति आपके साथी की उच्च कामना समझने योग्य है, लेकिन याद रहे कि यह एकमात्र वस्तु नहीं होनी चाहिए। अगर बात करने के बाद भी, वे केवल सेक्स पर ही ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं तो आपको अपने संबंध पर पुनः विचार करने की आवश्यकता है। साथ ही, मैं चाहूंगी की आप भी उनकी मांगों के बारे में निष्पक्ष होकर सोचें। क्या आपको यकीन है कि वे आपके साथ केवल यौन गतिविधियों में ही संलग्न हैं और अन्य जोड़ों जैसे क्रियाकलाप नहीं कर रहे हैं? अगर दोपहर में वे एक अच्छे साथी हैं, आप दोनों साथ घूमते हैं, मस्ती करते हैं और रात में उन्हें सेक्स चाहिए होता है, तो यह इतनी डरावनी बात नहीं है; तब शायद आपको इस पर पुनः मूल्यांकन करने की आवश्यकता है कि आप संबंध में सेक्स को किस तरह देखते हैं। तो मैं केवल इतना ही कह रही हूँ कि दोनों पक्षों को सावधानी से आंकिये और फिर कोई कार्यवाही करिये।

उसे आघात पहुंचा था और वह सेक्स से डरता था, लेकिन उसने ठीक होने में उसकी सहायता की

पति और ससुरालपक्ष मेरा और मेरे पिता का आर्थिक उत्पीड़न कर रहे हैं. क्या बिना कानूनी हस्तक्षेप के मैं यह समस्या का समाधान ढूंढ सकती हूँ?

Published in Hindi
Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Send this to a friend